विक्षनरी:शैलविज्ञान परिभाषा कोश

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search
  • abioglyph -- एबायोग्लिफ
निक्षेपण के दौरान संस्तर सतहों पर निर्मित अजैविक उत्पत्ति के अनियमित चिह्न ।
  • ablation till -- अपक्षरण गोलाश्मी मृत्तिका
गोलाश्मो मृत्तिका जिसमें प्रायः मृत्तिका की मात्रा बहुत कम होती है । यह बर्फ की ऊपरो सतह पर हिमनद के गलने या वाष्पन से उत्पन्न जल द्वारा लाये गये पदार्थों के एकत्रित होने से बनती है ।
  • abrasive sand -- अपघर्षी बालू
कठोर खनिजों जैसे क्वार्ट्ज, गार्नेट आदि के कोणीय कणों से संघटित एक प्राकृतिक बालू ।
  • abysmal -- नितलीय
महासागरों के वितलीय (abyssal) भाग से संबंधित या उसके लक्षणों से युक्त ।
  • abysmal sea -- नितल सागर
समुद्र का वह भाग जो महासागरी द्रोणियों को घेरे रहता है ।
  • abyssal -- वितलीय, वितल, अतल
(क) पृथ्वी के भोतर अत्यधिक गहराइयों से संबंधित ।
(ख) समुद्र की उन अत्यधिक गहराइयों (वितलांचल) में स्थित या उनसे संबंधित जहां प्रकाश बिल्कुल नहीं पहुंच पाता ।
  • abyssal assimilation -- वितल स्वांगीकरण
पृथ्वी की अत्यधिक गहराइयों में मैग्मा द्वारा शैलों का स्वांगीकरण ।
  • abyssal differentiation -- वितलीय विभेदन
पृथ्वी के गर्भ (interior) में मैग्मा का दो या अधिक भागों में बट जाना । इस प्रक्रिया में मैग्मा के प्रत्येक भाग से एक विशेष आग्नेय शैल निर्मित होता है ।
  • abyssal injection -- वितलीय अंतःक्षेपण
पृथ्वी की अत्यधिक गहराइयों में उत्पन्न मैग्मा का गभीरस्थ (deep seated) संकुचन-विदरों से होकर उपरिशायी भूपर्पटी में प्रविष्ट होने का प्रक्रम ।
  • abyssal rock -- वितलीय शैल
गभीरस्थ आग्नेय शैलों के लिए प्रयुक्त एक सामान्य शब्द ।
  • abyssal sediments -- वितलीय अवसाद
समुद्रों के गभीर (deep) एवं वितलीय क्षेत्रों में (1000 मीटर से अधिक गहराई में) संचित अबसादी निक्षेप ।
  • abyssal zone -- वितल क्षेत्र
1000 फ़ैदम की गहराई से भी नीचे समुद्र का वह भाग जहां सूर्य का प्रकाश बिल्कुल नहीं पहुंच पाता और तापक्रम सर्वदा हिमन के आस-पास रहता है । वितलोय अधस्तलों से प्राप्त जीवों के कवचों तथा अस्थियों से पता चलता है कि इन गहराइयो में कुछ विशेष प्रकार के ही जीव रह सकते हैं ।
  • abyssokonite -- एबिसोकोनाइट
कैलसियमी सिंधुपंक (ooze) से निर्मित शुद्ध अथवा मार्लमय (marly) चूनापत्थर जो समुद्र के गहरे भागों में मिलता है ।
  • abyssolith -- एबिसोलिथ
एक बहुत बड़े आकार का संभागी अन्तर्वेधी (intrusive) शैलपिण्ड जो फेल्सिक प्रकृति का होता है । इसका विस्तार भूपर्पटी (earth crust) के आधार तक रहता है ।
  • accessory ejecta -- उपबहिःक्षेप, गौण बहिःक्षेप
पहले से पृथ्वी की सतह पर उद्गीर्ण (erupted) तथा निक्षेपित ज्वालामुखी उत्पादों पर अनुगामी ज्वालामुखी क्रिया के प्रभाव से निर्मित विभिन्न प्रकार के ज्वलखण्डाश्मी (pyroclastic) पदार्थ ।
  • accessory minerals -- उपखनिज, गौणखनिज
शैलों में बहुत कम मात्रा में विद्यमान वे खनिज घटक जिनकी उपस्थिति या अनुपस्थिति की उपेक्षा कर देने से शैल की परिभाषा या वर्गीकरण में कोई अन्तर नहीं पड़ता ।
  • accidental ejecta -- संयोगी बहिःक्षेप
किसी मैग्मी उद्गार के दौरान ग्रीवा तथा द्वार को निर्मित करने वाले ज्वालामुखी शैलों या अन्य प्रकार के आग्नेय, कायांतरित अथवा अवसादी शैलों से व्युत्पन्न बहिःक्षिप्त (pyroclastic) पदार्थ । इन पदार्थों का उद्गीर्ण मैग्मा से कोई जननिक संबंध नहीं होता ।
  • accidental inclusion -- आगंतुक अंतर्वेश
आग्नेय शैलों में पाये जाने वाले अपरक्रिस्टलों (xenocrysts) अथवा अपराश्मों (xenoliths) के लिए प्रयुक्त शब्द । जिन शैलों में ये अंतर्वेश मिलते हैं उनसे इनका कोई जननिक संबंध नहीं होता ।
  • accretion -- अभिवृद्धि
वह प्रक्रम जिसके द्वारा अकार्बनिक पिंड बाहर की ओर नये कणों के जमाव के कारण और भी अधिक बड़े हो जाते हैं ।
  • accretionary lapilli -- अभिवर्धी लैपिली
25 मि.मी. से 85 मि.मी. तक व्यास वाले गोलाकार अथवा कुछ-कुछ चिपटे से पंक-कंदुक जो किसी लैपिली या बालुकाकण के चारों ओर निर्मित सूक्ष्म अथवा स्थूल ज्वालामुखीय भस्म के संकेन्द्री परतों से संघटित होते हैं । इनकी उत्पत्ति ज्वालामुखी उद्गार के वेग से धरती पर अतिसूक्ष्म कणों के घूर्णन से होती है अथवा उद्गारी बादलों से गिरते हुए जल के साथ अतिसूक्ष्म भस्म या धूलि के कणों के मिश्रण से होती है ।
  • accretionary lava ball -- अभिवर्धी लावा गोला
लावा प्रवाहों में विद्यमान कुछ सेन्टोमीटर से लेकर 6-7 मीटर तक व्यास वाले गोलाकार लावा शैलपिण्ड । इनका निर्माण किसी ठोस शैलखण्ड के क्रोड के चारों ओर श्यान लावा के लुढ़कने से होता है ।
  • accumulation hypothesis -- संचयन परिकल्पना
वह परिक्लपना जिसके अनुसार ज्वालामुखी पर्वत, उद्गार मुख के चारों ओर लावा, भस्म, सिंडर और बमों के संचयन से निर्मित होते हैं । इनमें प्रत्येक उद्भेदन के दौरान नये पदार्थ जमा होते जाते हैं और पर्वत की ऊंचाई बढ़ती रहती है ।
  • accumulation zone -- हिमसंचयन प्रदेश
वह क्षेत्र जिसमें किसी हिमधाव (avalanche) को निमिंत करने वाला हिम-पुंज वहाँ मुलतः निक्षेपित था ।
  • A C F diagram -- ए. सी. एफ. आरेख
कायांतरिक शैलों के सरलोकृत संघटनात्मक अभिलक्षण को दर्शाने वाला एक त्रिकोणो आरेख जिसमें तीन घटकों की अणुमात्रा (atomic quantity) का विवरण निम्न प्रकार से होता है : A=बिन्दु Al2 O3+ Fe2 O3-(Na2O+K2O) C बिन्दु=CaO+3Fe2O5 और F बिन्दु=FeO+MgO+MnO ।
  • acid rocks -- अधिसिलिक शैल
वे आग्नेय शैल जिनमें सिलिका बहुल खनिज जैसे क्वार्ट्ज, क्षारीय फैल्सपार तथा मस्कोवाइट अत्यधिक मात्रा में विद्यमान हों । इनमें सिलिका की मात्रा 65 प्रतिशत से अधिक होती है ।
  • acinose -- कणिकायित
कणों से युक्त; बोज सदृश । इस शब्द का प्रयोग खनिजों के गठन के सन्दर्भ में किया जाता है ।
  • acrobatholithic deposit -- अग्रमहास्कंधी निक्षेप
महास्कंधों के शिखरी क्यूपोला के समीप या उसके भीतरी भाग में पाया जाने वाला खनिज निक्षेप । इन महास्कंधों में क्यूपोला के शोर्षस्थ भाग अपरदन द्वार अनावृत हो जाते हैं, परन्तु महास्कंध के अनुत्पादी अंतरंग को ऊपरी खनिजीभूत क्षेत्र से अलग करने वाले पृष्ठ का अनावरण नहीं होता ।
  • acrobatholithic stage -- अग्रमहास्कन्धी प्रावस्था
महास्कन्धों (batholiths) के अपरदन (erosion) की एक प्रावस्था जिसमें गुम्बद के शीर्ष तो दिखाई देते हैं – किन्तु अपरदन इतनी गहराई तक नहीं होता कि इसका अधिकांश आंतरिक भाग दिखाई पड़े । इसकी अन्तिम सीमा अपरदन सतह के नीचे तक रहती है ।
  • active clay -- सक्रिय मृत्तिका
वह मृत्तिका जो अम्ल या कुछ अन्य भौतिक एवं रासायनिक उपचारों के बाद अवशोषण (absorption) करने में समर्थ हो जाती है । इसका उपयोग वस्त्रों के उपचार तेल से रंग हठाने के लिए किया जाता है ।
  • active layer -- सक्रिय परत
स्थायी तुषार-भूमि के ऊपर की वह परत जो गर्मियों में पिघलने लगती है और जाड़ों में फिर जम जाती है ।
  • active volcano -- सक्रिय ज्वालामुखी
वह ज्वालामुखी जो पूर्ण रूप से निर्वापित न हुआ हो अर्थात् जिसमें यदाकदा उदगार होता रहता है ।
  • acute bisectrix -- न्यूनकोणी अर्धक, न्यूनकोणी द्विभाजक
वह रेखा जो द्विअक्षीय क्रिस्टलों में प्रकाशित अक्षों से निर्मित न्यूनकोण को दो बराबर भागों में बांटती है ।
  • adamellite -- एडामेलाइट
आर्थोक्लेज युक्त टोनेलाइट ।
  • adcumulate -- एडक्यूमेलेट, अधिसंचयी शैल
एक प्रकार का शैल जिसमें मूलतः बने क्रिस्टल मैग्माकक्ष से विसरण द्वारा आये हुए द्रव्य के संचय से आकार में बढ़ जाते हैं । ऐसे शैल मुख्यतः बिना जोन वाले क्रिस्टलों से बने होते हैं ।
  • additive contact metamorphism -- योगात्मक संस्पर्श कायान्तरण
संस्पर्श कायांतरण का एक प्रकार जिसमें मैग्मा से निकले अतिरिक्त पदार्थों के मिल जाने से कायांतरण होता है ।
  • adesion ripple -- आसंजन ऊर्मिका : किसी नम सतह पर शुष्क बालू के प्रवाह से निर्मित अनियमित रूप से समान्तर बालुका शोर्षों की श्रेणी जिसकी स्थिति हवा प्रवाह के अनुप्रस्थ होती है ।
  • adiagnostic -- अलक्षणिक
खनिजों के वे घटक जो सूक्ष्मदर्शी द्वारा भी नहीं पहचाने जा सकते ।
  • adinole -- एडिनोल
एक मृदाश्मिक (peletic) शैल जिसका किसी अल्पसिलिक अन्तर्वेधन द्वारा संस्पर्श कायांतरण के फलस्वरूप एलबाइटन हो जाता है ।
  • adobe -- एडोब
उत्तरी अमरीका के दक्षिण-पश्चिमी भागों और मैक्स्सिको में ईंट बनाने के काम में आने वाली एक प्रकार की मृत्तिका जो प्रायः चूनेदार होती है ।
  • aegirinite -- एजिरिनाइट
मुख्यतः एजिरिन-ऑगाइट से संघटित एक शैल ।
  • aeolian (eolian) -- वायूढ़, वायुकृत
वायु द्वारा निक्षेपित अथवा उसकी अपरदन क्रिया से संबंधित । इस विशेषण का प्रयोग उन निक्षेपों के लिए किया जाता है जिनके घटक वायु द्वारा वाहित होकर निक्षेपित होते हैं ।
  • aeolian cross lamination -- वापूढ़ संस्तरिका विन्यास, वायुकृत संस्तरिका विन्यास
वायु द्वारा टिब्बों (dunes) पर निर्मित झुके हए संस्तर जो सामान्यतः बड़े और फानाकार समुच्चयों (sets) के रूप में मिलते हैं ।
  • aeolian dune soil -- वायुकृत टिब्बा मृदा
मरूदमिदी पौधों (xerophilous plants) से व्युत्पन्न ह्यूमस के संचयन (accumulation) द्वारा बालू टिब्बों की सतहों पर विकसित मृदा की पतली परत ।
  • aeolian ripple marks -- वायुकृत ऊर्मिका चिह्र
बालुका क्षेत्रों में वायु प्रवाह द्वारा निर्मित असममित (asymmetrical) ऊर्मिका चिह्र ।
  • aerolite -- एरोलाइट, अश्म-उल्का
अधिकांशतः सिलिकेटों से बना हुआ एक प्रकार का उल्कापिंड ।
  • aerosiderite -- लोह-उल्का
एक प्रकार का उल्कापिंड जो मुख्यतः लोह से संघटित होता है ।
  • aerosiderolite -- लोहाश्मी उल्का
एक प्रकार का उल्कापिंड जिसमें धात्विक तथा आश्मिक घटक लगभग समान मात्रा में मिलते हैं ।
  • aethobalism -- एथोबेलिज्म
उल्कापिण्ड (meteorite) के संघट्ट से प्रतिफलित स्थानिक कायांतरण के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • aethobalitic rock -- ऐथोबेलिटिक शैल
एथोबेलिज्म प्रक्रिया द्वारा निर्मित कायांतरिक शैल ।
  • age -- काल, युग, आयु
(क) पृथ्वी के इतिहास का एक अनिश्चित अवधि का कल्प जिसमें किसी विशेष प्रकार के जीवों या प्राणियों की प्रधानता रही हो ।
(ख) वह काल जिसके दौरान कोई विशेष भूवैज्ञानिक घटना घटी हो, जैसे हिमकाल ।
(ग) प्रायः एक युग के अंतर्गत भूवैज्ञानिक काल का कोई भाग ।
  • agglomerate -- संज्वालाश्म
विभिन्न प्रमाप एवं कोणीयता वाले ज्वालामुखीय खण्डों से संघटित एक शैल अथवा संपुजित पिंड जिसके घटक-खण्ड ज्वालामुखी के विस्फोट से निर्मित होते हैं और ग्रीवा अथवा क्रेटर से बहुत दूर न जाकर उसके निकट ही एकत्र हो जाते हैं ।
  • agglomerate lava -- संज्वालाश्म लावा
वह लावा जिसमें अन्य लावाओं के टुकड़े अथवा उसी लावा के पूर्व संपिंडित (consolidated) खण्ड समाहित रहते हैं ।
  • agglomerate tuff -- संज्वालाश्म टफ़
एक प्रकार का ज्वालामुखी टफ़ जो ज्वालामुखी खण्डों तथा/या स्थानीय शैलों (country rock) के खण्डों से युक्त होता है ।
  • agglutinate -- संकाच ज्वालाश्म
(शैलिकी में) ज्वालामुखी से बाहर फेंके हुए पदार्थों का एक संपुजित पिंड । इसके विभिन्न खण्ड परस्पर काचीय सीमेन्ट से जुड़े होते हैं और भस्म-सीमेन्ट का इसमें सर्वथा अभाव रहता है ।
  • aggregate -- एगरीगेट
बालू, बजरी, कवच, धातुमल या खण्डिताश्म आदि खनिज पदार्थ जिनके साथ सीमेन्ट या बिटूमिनी पदार्थ मिलाकर मॉरटार या कंक्रीट तैयार किया जाता है ।
  • agpaitic process -- एगपाइटिक प्रक्रम
अत्यधिक क्षारीय विशेषतः सोडामय परिस्थितियों में शलों के क्रिस्टलित होने का प्रक्रम ।
  • a-horizon -- a-संस्तर
मृदा प्रोफाइल का सबसे ऊपरी भाग जहां से धुल सकने वाले लक्षण तथा कोलॉइड निक्षालित हो चुके होते हैं और काबर्निक पदार्थ अत्यधिक मात्रा में जमा हो जाते हैं ।
  • air volcano -- गैस ज्वालामुखी
एक लघुरूप क्रेटर जो देखने में वास्तविक ज्वालामुखी क्रेटर से मिलता-जुलता है और प्रायः शंकुवत् भी होता है । यह गैस के विस्फोटों और पंक के उत्सर्जन से निर्मित होता है ।
  • airheave structure -- वायूत्थान संरचना
बालुकाश्मों में वायुकोटरिकाओं के उपरिमुखी विवर्धन से उत्पन्न एक प्राथमिक संरचना । इसकी विशेषता यह है इसमें स्तर एक गुम्बदी रूप धारण कर लेते हैं जिसके क्रोड में बालुकाश्म अस्तरित रहता है और इस संरचना का विस्तार कुछ इंचों तक ही सीमित रहता है ।
  • akmolith -- एकमोलिथ
एक प्रकार का आग्नेय अन्तर्वेध (intrusion) जो अंशतः अनुस्तरी (concordant) व सपाट होता है तथा अंशतः चाकूनुमा उर्ध्वाधर विवर्धों (apophysis) के रूप में अननुस्तरी होता है ।
  • albitite -- ऐल्बीटाइट
मुख्यतः एल्बाइट से संघटित एक स्थूलकणिक पॉफिरिटिक गठन वाला शैल जिसमें एल्बाइट के लक्ष्य क्रिस्टल (phenocryst) उसी के आधात्री (ground mass) में स्थित होते हैं । इस आधात्री के सहायक (accessory) खनिज मस्कोवाइट, गार्नेट तथा क्वार्ट्ज इत्यादि होते हैं ।
  • albite-epidote-amphibolite facies -- एल्बाइट-एपीडोट-एम्फिबोलाइट संलक्षणी
मध्य से उच्च दाब व तापक्रम की परिस्थितियों में रचित कायांतरित शैलों की संलक्षणी जिसमें हॉर्नब्लेन्ड, एल्बाइट तथा एपीडोट खनिज विद्यमान रहते हैं ।
  • albite-epidote-hornfels facies -- ऐल्बाइट-एपिडोट-हॉर्नफेल्स संलक्षणी
संस्पर्श कायान्तरण के मण्डल (aureole) के बाहरी किनारों पर विकसित कम ताप पर निर्मित संलक्षणी जिसमें विसंतुलन सामान्य रूप से पाया जाता है । इसका खनिज-संघटन ग्रीन शिस्ट संलक्षणी सदृश होता है ।
  • albitization -- ऐल्बाइटीभवन
किसी आग्नेय शैल के प्लैजियोक्लेस फेल्डस्पार का ऐल्बाइट द्वारा प्रतिस्थापित होने का प्रक्रम ।
  • alkali basalt -- क्षारीय बेसाल्ट
वह बेसाल्ट जिसमें सामान्य से अधिक कुछ क्षार पाइरॉक्सीन तथा फेल्सपेथॉइड भी पाये जाते हैं ।
  • alkali gabbro -- क्षारीय गैब्रो
स्थूल कणिक (coarse grained) वितलीय शैल जिसमें ऑगाइट प्लेजिओक्लेस तथा पोटाश फेल्डस्पार अनिवार्य घटक के रूप में मिलते हैं ।
  • alkali gneiss -- क्षारीय नाइस
वह नाइस जिसमें क्षारीय खनिज जैसे ग्लौकोफेन, क्रोसाइट, रीबोकाइट, ऐजिरिन, नैफिलीन इत्यादि प्रचुर मात्रा में मिलते हैं ।
  • alkali granite -- क्षारीय ग्रेनाइट
असाधारण रूप से अधिक क्षारीय ग्रेनाइट जिसमें फेल्सपार का लगभग 2/3 भाग क्षार-फेल्डस्पार होता है ।
  • alkali-granitite -- क्षारीय ग्रेनिटाइट
असाधारण रूप से अधिक क्षारीय ग्रेनिटाइट । ग्रेनिटाइट शब्द का प्रयोग अब बहुत कम होता है ।
  • alkali-lime index -- क्षार चूना सूचकांक
विभिन्नता आरेख पर आग्नेय शैलों के अनुक्रम में सिलिका की भार प्रतिशतता जहाँ कि CaO और (K2O+Na2O) की भार प्रतिशतता बराबर होती है । आरेख में यह CaO तथा (K2O+Na2O) को निरूपित करने वाले वक्रों के प्रतिच्छेदन-बिंदु द्वारा प्रदर्शित होती है ।
  • alkali syenite -- क्षारीय साइनाइट
असाधारण रूप से अधिक क्षारीय फेल्डस्पारयुक्त साइनाइट । इसमें गहरे रंग के ऐजिरीन-औगाइट की विद्यमानता इसका मुख्य लक्षण है ।
  • alkemade line -- अल्केमेड रेखा
तृतीय प्रावस्था आरेख की वह सीधी रेखा, जो उन दो प्राथमिक प्रावस्थाओं के संघटन बिन्दुओं को मिलाती है जिनके क्षेत्र आसन्त (adjacent) हों तथा उनके अन्तरा पृष्ठ (interface) एक सीमान्त वक्र बनाते हों ।
  • alkemade theorem -- अल्केमेड प्रमेय
वह प्रमेय जिसके अनुसार एक तृतीयक प्रावस्था आरेख में घटते तापमान को दिशा दो प्राथमिक प्रावस्था क्षेत्रों के बीच सीमांत वक्र पर अल्केमेड रेखा से सर्वेदा दूर रहेगी ।
  • allochem -- ऐलोकेम
वह पुंजित कार्बोनेटी अवसाद जो निक्षेपण बेसिन में रासायनिक तथा जैव रासायनिक अवक्षेपण द्वारा निक्षेपित होने से पुर्व उसी बेसिन में स्थानांतरित होकर निर्मित हुआ हो ।
  • allochthon -- अपरस्थानिक शैलपिंड
वे शैल जो अधिक्षेपण या शयान वलन जैसे विवर्तनिक बलों द्वारा अपने मूल निक्षेपण स्थान से बहुत दूर ले जाये गए हों ।
  • allochthonous -- अपरस्थानिक
उन शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिनके प्रधान घटक अपने स्थान पर निर्मित न होकर कहीं और निर्मित हुए हों ।
  • allometamorphism -- अपर कायांतरण
बाह्य शक्तियों के प्रभाव से उत्पन्न कायांतरण की एक प्रक्रिया जो शैल रचना के बाद घटित होती है ।
  • allomorph -- अपररूप
कुछ खनिजों का ऐसा कूटरूप जिसका रासायनिक संघटन उसके मूल खनिज पदार्थ से भिन्न नहीं होता अर्थात् कूटरूप के निर्माण में कोई संघटनी परिवर्तन नहीं होता, जैसे ऐरागोनाइट से परिवर्तित कैल्साइट ।
  • allophase metamorphism -- अपरप्रावस्था कायान्तरण
कायान्तरण की वह प्रक्रिया जिसमें नवीन खनिज प्रावस्थाओं का निर्माण होता है ।
  • allothigene -- अन्यत्रजन
वे शैल या शैल घटक अथवा खनिज जो प्राप्ति-स्थल पर निर्मित न होकर कहीं और से परिवाहित होकर वहां निक्षेपित हो गए हों जैसे संगुटिकाश्म में गोलाश्म तथा गटिकायें एवं आग्नेय शैलों में अन्तर्वेश ।
  • allothigenic -- अन्यत्रजनिक
और कहीं उत्पन्न । इस शब्द का प्रयोग उन शैल घटकों के लिए होता है जो अपने वर्तमान शैलों में निक्षेपित होने से पहले कहीं और निर्मित हुए थे ।
  • allothigenous -- अन्यत्रजात
‘allothigenic’ का समानार्थी ।
  • allothimorph -- मूलरूपक
कायांतरित शैल के वे घटक जिनका मूल आकार कायांतरण के दौरान परिवर्तित नहीं होता ।
  • allothrausmatic -- अपरकेन्द्रकी
उन सकेन्द्रशल्की (orbicular) शैलों के लिए प्रयुक्त एक विशेषण जिनकी गोलाभ संरचना अपराश्मों (xenoliths) से निर्मित होती है अर्थात् उनके केन्द्रक परिवर्ती शैलों के खण्ड होते हैं जिनका संघटन संयोजी आधात्रिका से भिन्न होता है ।
  • allotriomorphic -- अस्वरूपी
आग्नेय शैलों के उन खनिजों के लिए प्रयुक्त एक विशेषण जो अपने अभिलक्षणिक क्रिस्टल फलकों से परिबद्ध नहीं होते ।
  • allotriomorphic granular texture -- अस्वरूपी कणिकामय गठन
आग्नेय शैलों का एक ऐसा जिसमें क्रिस्टलीय फलक नहीं दिखाई पड़ते ।
  • alluvial -- जलोढ
(क) प्रवाही जल द्वारा बहाये या निक्षेपित किए गए पदार्थों के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
(ख) जलोढक (alluvium) के संबंधित अथवा उससे निर्मित ।
(ग) जलोढक में पाया जाने वाला ।
  • alluvial cone -- जलोढ शंकु
किसी महाखड्ड या कैनियन के मुख पर नदियों द्वारा प्रवाहित अपरदी पदार्थों से निर्मित एक शंकुरूपी निक्षेप जिसके पार्श्व बहुत कम प्रवणित होते हैं और उनका झुकाव सभी दिशाओं में लगभग बराबर होता है ।
  • alluvial deposit -- जलोढ निक्षेप
प्रवाही जल द्वारा निक्षेपित असंपिडित शैल पदार्थों का संचय ।
  • alluvial fan -- जलोढ पंखा
असंपिंडित शैल-पदार्थों की एक ढलुआ तथा पंखाकार संहति जो किसी नदी द्वारा उस स्थल पर निक्षेपित होती है जहाँ वह उच्च भूमि से बहती हुई किसी चौड़ी घाटी या मैदान में प्रवेश करती है ।
  • alluvium -- जलोढक
नदियों के भूवैज्ञानिक कार्यों के फलस्वरूप उत्पन्न सभी अपरदी निक्षेप जिनके अन्तर्गत नदी-तलों, बाढ़कृत मैदानों, झीलों, पर्वत ढालों के पादस्थ पंखों तथा ज्वार नदमुखों में निक्षेपित विभिन्न प्रकार के असंपिंडित अवसाद सम्मिलित हैं ।
  • almandine-amphibolite facies -- अलमन्डाइन एम्फिबोलाइट संलक्षणी
कायांतरण की एक संलक्षणी जो आंशिक रूप से एस्कोला के मूल एम्फिबोलाइट संलक्षणी के समतुल्य होती है । यह संलक्षणी क्षेत्रीय कायान्तरण की विशेषता है । इस संलक्षणी के अल्पसिलिक शैलों के विशेष खनिज समूह अलमन्डाइन-गार्नेट, हॉर्नब्लैन्ड व कम से कम 15 प्रतिशत An प्लेजिओक्लेस हैं । यह एम्फिबोलाइट संलक्षणी के उच्च दाब समूह को निम्न दाब समूह से पृथक् करने के लिए बनाई गई थी ।
  • alnoite -- एलनोइट
एक प्रकार का अनुप्रस्थ (transverse) अंतर्वेधी शैल । यह एक मध्यम कणिक गहरे रंग का आग्नेय शैल है जिसमें बायोटाइट, ओलिवीन व औगाइट के लक्ष्य क्रिस्टलों (phenocrysts) के किनारे कटे-फटे होते हैं ।
  • alteration -- परिवर्तन
शैलों या खनिजों में उनके निर्माण के उपरान्त किसी भौतिक या रासायनिक बदलावों का प्रक्रम ।
  • amagmatic -- अमैग्मी
मैग्मीय सक्रियता से असंबंधिक या उसमें असम्मिलित ।
  • amorphous -- रवाहीन, अक्रिस्टलीय
रूपविहीन; उन शैलों, खनिजों और पदार्थों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिनमें कोई निश्चित क्रिस्टलीय संरचना नहीं होती है ।
  • amphibolite -- ऐम्फिबोलाइट
एक क्रिस्टलोब्लास्टिक कायांतरित शैल जो अनिवार्यतः एम्फिबोल एवं प्लेजिओवलेज से संघटित होता है ।
  • amphibolite facies -- एम्फिबोलाइट संलक्षणी
कायांतरित शैलों की एक संलक्षणी जिसमें शैल रचना मध्यम रूप से उच्च दाब व ताप द्वारा नियंत्रित होती है । इसके अभिलक्षणिक खनिज समुच्चय (sets) हॉर्नब्लेण्ड तथा प्लेजिओक्लेस (ऑलिगोक्लेस या अधिक कैल्सियमी प्रकार के) होते हैं । इसकी उपरी सीमा हॉर्नब्लेण्ड के स्थान पर डाइऑप्साइड तथा हाइपरस्थीन की उपस्थिति से निर्धारित होती है और प्लेजिओक्लेस का युगल एल्बाइट-एपिडोट में विखंडन इस संलक्षणी की निम्न सीमा निर्धारित करती है ।
  • amphimorphic -- उभयरूपी
भूविज्ञान में दो प्रक्रमों के मेल से निर्मित खनिज निक्षेपों के लिए प्रयुक्त एक शब्द (जैसे अवसादी मृण्मय निक्षेपों के ऊपर खनिजधारी गरम झरनों की अभिक्रिया से निर्मित निक्षेप) ।
  • amygdaloid -- वातामकी (शैल)
वे ज्वालामुखीय शैल जो कैल्सेडोनी, स्फटिक, केल्साइट या जिओलाइट के निक्षेपों से पूरित अनेक गैस गुहिकाओं से युक्त होते हैं ।
  • amygdaloidal basalt -- वातामकी बैसाल्ट
वातामकी संरचना से युक्त सूक्ष्मकणिक अपॉफिराइटिक बैसाल्ट जिसकी गुहिकाएं प्रायः क्वार्ट्य, कैल्साइट, क्लोराइट या जिओलाइट से पूरित रहती है ।
  • anamorphic -- जटिलकायांतरी
जटिल कायांतरण से संबंधित या उसके लक्षणों को प्रदर्शित करने वाला ।
  • anamorphic zone -- जटिल कायांतरी मंडल
पृथ्वी के भीतर अत्यधिक गहराई में शैल-प्रवाह-मण्डल जिसमें सरल खनिजिकीय यौगिक सिलिकेटीभवन, विकार्बनन, निर्जलीभवन और विऑक्सीभवन द्वारा परिणत होकर अत्यंत जटिल खनिओं का निर्माण करते हैं ।
  • anamorphism -- जटिलकायांतरण
भूपर्पटी की अत्यधिक गहराई में शैलों का रचनात्मक कायान्तरण जिसमें सरल खनिज परिणत होकर जटिल खनिजों का निर्माण करते हैं ।
  • anatectic batholith -- पुनर्गलित बैथोलिथ
मिग्मेटाइट संकुल (pack) के आधार में रचित ग्रेनाइट बैथोलिथ जिसका गठन एवं सीमाएं परिवर्तनशील तथा अस्पष्ट होती हैं ।
  • anatectic granite -- पुनर्गलित ग्रेनाइट
(क) मैग्मीय ग्रेनाइट से भिन्न मिग्मेटाइट ग्रेनाइय ।
(ख) मिग्मेटाइट का निम्नतम मण्डल (aureole) जहां पर शैलों का स्वरूप ग्रेनाइटी होता है तथा एक्टीनिटी गठन पूर्णतः विलुप्त रहता है ।
  • anatexis -- पुनर्गलन
एक अतिकायांतरित प्रक्रम जिसके द्वारा गभीरस्थ शैल संगलित होकर पुनः मैग्मा में परिवर्तित हो जाते हैं ।
  • andesite -- ऐन्डेजाइट
एक काले भूरे रंग का बहिवेंधी शैल जो ऑलिगोक्लेज या ऐन्डेजिन फैल्सपार से अनिवार्यतः संघटित होता है । इसके अतिरिक्त इस शैल में कुछ मैफिक घटक भी विद्यमान रहते हैं जिनमें पाइरॉक्सीन, हार्नब्लेण्ड या बायोटाइट मुख्य हैं ।
  • anadesite basalt -- ऐन्डेजाइट बेसाल्ट
मुख्यतः ऐन्डेजाइट युक्त बेसाल्ट । यह एक प्रकार का सूक्ष्मकणिक आग्नेय शैल है जो पृथ्वी की सतह पर उद्गीर्ण (erupted) लावा से उत्पन्न होता है ।
  • anhedral -- अफलकीय
देखिए : ‘allotriomorphic’
  • anhedron -- अफलक
किसी आनेय शैल का वह खनिज-घटक जिसमें फलकों का बाह्य ज्यामितिरूप वैसा न विकसित हो पाया हो जैसा कि एक सामान्य क्रिस्टल में होना चाहिए ।
  • anisomerous -- समावयवी
शैलों के कणिकीय गठन से संबंधित एक शब्द जिसमें कणों के माप की विविधता का परास (range) बहुत अधिक होता है ।
  • anisometric -- त्रिसमलंबाक्षेतर
असममितिक भागों वाला; जो त्रिसमलंबाक्ष न हो ।
  • anisotropic -- विषमदैशिक
उन पदार्थों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो विभिन्न दिशाओं में विभिन्न प्रकाशीय या अन्य भौतिक गुणधर्म प्रदर्शित करते हैं । यह गुणधर्म त्रिसमलंबाक्ष समुदाय के खनिजों को छोड़कर सभी क्रिस्टलीय खनिओं का एक विशिष्ट लक्षण है ।
  • anorthosite -- एनॉर्थोसाइट
एक कणिकामय बितलीय शैल (plutonic rock) जो लगभग पूर्णतः प्लैजिओक्लेस से संघटित होता है ।
  • antidune -- प्रति टिब्बा
उपरि जलप्रवाह अवस्था में बनने वाली अवसादी संरचना जो तरंग की विपरीत दिशा में विन्यस्त होती है ।
  • aphaneric -- अदृश्यक्रिस्टली
देखिए : ‘aphanitie’
  • aphanitic -- अदृश्यक्रिस्टली
उन शैलों के गठन के लिए प्रयुक्त एक विशेषण जिनके अलग-अलग कण या क्रिस्टल बिना लेन्स की सहायता से पहचाने नहीं जा सकते ।
  • aphyric -- अफ़ायरी
उन अदृश्यक्रिस्टली गठन वाले शैलों के लिए प्रयुक्त एक विशेषण जो प्रायः क्रिस्टलित तो होते हैं परन्तु उनमें लक्ष्यक्रिस्टल (phenocrysts) नहीं होते ।
  • apomagmatic -- अपमैग्मी
परोक्ष रूप से मैग्मा से संबंधित ।
  • apomagmatic deposits -- अपमैग्मी निक्षेप
वे मैग्मी खनिज-निक्षेप जो अन्तर्वेधी पिंड से कुछ दूरी पर स्थित हों और उनका परस्पर संबंध केवल परोक्ष मात्र हो ।
  • apophysis -- विवर्ध
कोई भित्ति, शिरा (vein) या प्रशाखा जो किसी बड़े अन्तर्वेधी पिंड से प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष रूप से संलग्न होती है ।
  • aqueoigneous -- जलाग्नेय
ऊष्मा और जल की संयुक्त क्रिया से उत्पन्न खनिजों या शैलों के लिए प्रयुक्त एक विशेषण ।
  • aqueous rock -- जलीय शैल
जल द्वारा या उसमें निक्षेपित अवसादी शैल ।
  • arenaceous -- बालुकामय
बालू युक्त या उससे उत्पन्न अथवा बलुई गठन वाले शैलों के लिए प्रयुक्त एक विशेषण ।
  • arenito -- रेणुकाश्म
रेणु (sand) के गठन वाले सभी खंडमय शैलों के लिए प्रयुक्त एक सामान्य शब्द । इनमें रेणु की प्रकृति का बोध कराने के लिए तत्संबंधी उपसर्गों का प्रयोग किया जाता है जैसे-क्वार्टूज रेणु के लिए सिलिकारेणुकाश्म, कैल्साइट कणों से निर्मित चूनाश्म के लिए कैल्करेणुकाश्म इत्यादि ।
  • argillaceous -- मृण्मय
मृत्तिकायुक्त या मृत्तिकामय शैलों के लिए प्रयुक्त एक विशेषण ।
  • argillaceous sandstone -- मृण्मय बालुकाश्म
एक प्रकार का बालुकाश्म जिसमें अल्प मात्रा में मृत्तिका पाई जाती है ।
  • argillite -- आर्जिलाइट, दृढ़मृदाश्म
गाद प्रस्तर (silt stone), मृत्तिकाश्म या शैल से व्युत्पन्न एक संहत शैल जिसमें उपरोक्त शैलों की अपेक्षा कुछ अधिक कठोरता आ जाती है । यह शैल स्लेट से भिन्न होता है क्योंकि इसमें विदलन स्लेटी न होकर लगभग संस्तरण के समांतर होता है ।
  • arkose -- आर्कोज
ग्रेनाइट या कणिकीय गठन वाले अन्य अधिसिलिक शैलों के विघटन से व्युत्पन्न एक विशेष प्रकार का बालुकाश्म जिसमें फेल्डस्पार की मात्रा 30 प्रतिशत से अधिक होती है ।
  • arkosic -- आर्कोजी
पूर्णतः या आंशिक रूप से आर्कोज के लक्षणों से युक्त ।
  • aschistite -- अविपाटित शैल, अशिस्टाइट
वह शैल जो अपने निर्माण के दौरान, सम्भवतः विभेदित न हुआ हो अर्थात् उसका संघटन वही होता है जो जनन मैग्मा का होता है, जैसे डाइक शैल ।
  • aschistic -- अविपाटी
उन गौण आग्नेय अन्तर्वेधनों के (igneous intrusions) शैलों से संबंधित एक शब्द जो अल्पवर्णी और श्यामवर्णी भागों में विभेदित नहीं हुए होते, परन्तु उनका संघटन अनिवार्यतः वही होता है जो उनसे संबंधित बृहत् अन्तर्वेधनों का होता है ।
  • ash -- राख, भस्म
ज्वालामुखी विस्फोट से प्रक्षिप्त असंयोजित धूलि और कण जिनका व्यास 4 मिoमीo से कम होता है ।
  • ash bed -- भस्म संस्तर
भस्म आदि जैसे अति सूक्ष्म ज्वालामुखीय पदार्थों का निक्षेप ।
  • ash cone -- भस्म शंकु
किसी ज्वालामुखी द्वार के चारों ओर अतिसूक्ष्म पाइरोक्लास्टिक (बहिःक्षिप्त) पदार्थों का एक शंकुरूपी संचय ।
  • asphalt -- ऐस्फाल्ट
प्रकृति में भूरे से लेकर काले रंगों में मिलने वाला एक ठोस या अर्धठोस बिटूमिनी पदार्थ । यह संज्ञा पैट्रोलियम के आसवन से प्राप्त अवशेष को भी दी जाती है और तब इसे “कृत्रिम ऐस्फाल्ट” कहते हैं ।
  • assimilation -- स्वांगीकरण
एक जटिल प्रक्रम जिसमें आक्रांत स्थानीय शैलों के पदार्थ आक्रामी मैग्मा में अंशतः या पूर्णतया पिघल कर संस्पर्श स्थल पर या कुछ गहराई में समाविष्ट हो जाते है ।
  • asthenosphere -- दुर्बलता मंडल
पृथ्वी के भीतर एक अनुमानित मोटा क्षेत्र या शैल मंडल जिसमें अधिकतम सुघट्यता होती है जिससे वहां समस्थितिक तथा अन्य पुनःसमंजनकारी क्रियाएं होती रहती है । डैली के अनुसार यह क्षेत्र अधिक दृढ़ स्थलमण्डल के नीचे लगभग 70 किoमीo से लेकर 450 किoमीo की गहराइयों के बीच विस्तृत होता है ।
  • asymmetric -- असममित
(क) जिसके भाग उचित अनुपात में न हों ।
(ख) क्रिस्टल-संरचना के उस समुदाय से संबंधिक जिसमें सममिति-तल नहीं होता ।
  • atectonic pluton -- अविवर्तनिक प्लूटॉन
वह प्लूटॉन जिसका अभिस्थापन (emplacement) उस समय होता है जब पर्वतन नहीं हो रहा होता ।
  • atmoclast -- वायुखंडाश्म
वायुमंडलीय अपक्षय द्वारा स्वस्थाने (insitu) खण्डित पदार्थों से निर्मित शैल ।
  • atmoclastic -- वायुखंडज
वायुमंडलीय क्रिया द्वारा विघटित और बिना परिवहित हुए संपिडित या संयोजित । यह विशेषण कुछ अवसादी शैलों के लिए प्रयुक्त किया जाता है ।
  • atoll -- अडल (मलयालम), प्रवालद्वीप-वलय
किसी लैगून को लगभग या पूर्णतया घेरे हुए रीफ उत्पत्ति का एक वृत्तवत् या दीर्घवृत्ताकार द्वीप या द्वीपों का एक वलय (ring) जो प्रवाल तथा शैवाली शैलों और बालू से संघटित होता है ।
  • atoll texture -- अडल गठन
अयस्क खनिजों में पाया जाने वाला एक गठन जिसमें शैल का एक खनिज दूसरे खनिज द्वारा परिधीय रूप में प्रतिस्थापित होता है उदाहरणार्थ गैलेना द्वारा पाइराइट का प्रतिस्थापन । इस गठन का आकार बाहर से किसी प्रशातं महासागरी अडल सदृश्य दिखाई पड़ता है ।
  • augen gneiss -- चाक्षुष नाइस
नाइसी शैलों के लिए एक समान्य शब्द जिसमें चाक्षुष संरचना विद्यमान रहती है ।
  • augen schist -- चाक्षुष शिस्ट
एक प्रकार का शिष्ट जिसमें चाक्षुष संरचना पायी जाती हैं ।
  • augen structure -- चाक्षुष संरचना
कुछ नाइयों तथा ग्रेनाइटों में विकसित नेत्र सदृश एक संरचना । यह संरचना कुछ रवेदार घटक खनिजों जैसे स्फटिक, फेल्डस्पार, गार्नेट आदि के दीर्घवृत्तिय या लेन्साकार रूप में एकत्रित हो जाने से उत्पन्न होती है । अभ्रक या हार्नब्लेण्ड की रेखीय पत्रकों से घिरे होने पर यह संरचना और भी स्पष्ट हो जाती है ।
  • augite -- औजाइट
पाइरॉक्सीन वर्ग का एक ऐलुमिनी शैलकर खनिज जिसका रासायनिक संघटन सामान्यतः (Ca Mg, Fe) (Si2O6) और (Ca, Mg, Fe) (Al, Fe) (Al Si2O6) का मिश्रण समझा जाता है । इसमें कभी-कभी क्षारीय धातुएं भी उपस्थित होती हैं । यह खनिज काले या गहरे रंग के लघु प्रिज्मीय क्रिस्टलों में मिलता है तथा बैसाल्ट जैसे आग्नेय शैलों में पाया जाता है ।
  • aureole -- मंडल
भूविज्ञान में, किसी आग्नेय अन्तर्वेध को घेरता हुआ एक क्षेत्र जिसमें स्थानीय शैल (country rock) का संस्पर्श-कायांतरण हो जाता है । इसे “संस्पर्श-मंडल” भी कहते हैं ।
  • authigenic -- तत्रजनिक
उसी स्थान पर उत्पन्न । एक शब्द का प्रयोग उन घटकों के लिए होता है जो अपने वर्तमान शैलों में उनके निर्माण के साथ-साथ या उनके पश्चात् निर्मित हुए हों ।
  • authigenic mineral -- तत्रजनिक खनिज, तत्रजात खनिज
अवसादों में स्वस्थाने निर्मित खनिज ।
  • authigenous -- तत्रजात
देखिए : ‘authigenic’
  • autochthon -- स्वस्थानिक शैलपिंड
वे शैल जो वलन (folding) एवं भ्रंशन (faulting) की क्रियाओं द्वारा अत्यधिक प्रभावित होने पर भी अपने मूल निक्षेपण स्थान से अपेक्षतया बहुत कम संचलित हुए हों ।
  • autochthonous -- स्वस्थानिक
उन शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिनके प्रधान घटक स्वस्थाने या उसी स्थान पर निर्मित हुए हों । जैसे खनिज नमक (सेंधा नमक) ।
  • autoclastic rock -- स्वखंडज शैल
पूर्ववर्ती शैलों से व्युत्पन्न खण्डमय पदार्थों से स्वस्थाने निर्मित शैल ।
  • autolith -- अग्रजांतर्वेश
आग्नेय शैल का एक खण्ड जो बाद में संपिडित किसी अन्य आग्नेय शैल में परिबद्ध रहता है । इसमें दोनों प्रकार के शैल एक ही जनक मैग्मा से व्युत्पन्न माने जाते हैं । जैसे – ग्रैनोडायोराइट में डायोराइट शैल का अन्तर्वेश अग्रजांतर्वेश कहलाता है । “सजात अन्तर्वेश” इसका समानार्थी है ।
  • autometamorphism -- स्वकायांतरण
आग्नेय शैलों का उनके अपने ही बाष्पशील तरलों की क्रिया द्वारा कायांतरण, जैसे बैसाल्ट से स्पिलाइट का निर्माण ।
  • autometasomatism -- स्वतत्वांतरण
नव क्रिस्टलित आग्नेय शैलों में उनके अपने ही अन्तिम जलसमृद्ध द्रव प्रभाज (liquid fraction) द्वारा परिवर्तन ।
  • automorphic -- स्वरूपी, आत्मरूपी
उन आग्नेय शैलों के गठन के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिनके खनिज-घटक अपने अभिलक्षणिक क्रिस्टल-फलकों से युक्त होते हैं ।
  • autopneumatolysis -- स्वतः ऊष्ण वाष्पखनिजन
किसी आग्नेय शैल में उसके अपने ही गैसीय खनिजकारी कारकों की क्रिया से नये खनिजों का निर्माण ।
  • axial angle -- अक्षीय कोण
किसी द्वि-अक्षीय क्रिस्टल में दो प्रकाशिक अक्षों के बीच का कोण ।
  • axial plane schistosity -- अक्षीय तल शिष्टाभता
वलनों के अक्षीय तल के समान्तर विकसित शिष्टाभता ।
  • acial ratio -- अक्षानुपात
(क्रिस्टलिकी में) पार्श्व अक्षों में से किसी एक को इकाई मानकर उसके साथ किसी क्रिस्टल-संरचनात्मक अक्ष की लम्बाई की तुलना से प्राप्त अनुपात ।
  • azonal soil -- असुस्तरी मृदा
एक अपरिपक्व मृदा जिसका प्रोफ़ाइल सुविकसित नहीं होता इसमें सामान्यतः आधार शैल या असंपिडित (unconsolidated) पदार्थ के ऊपर A-संसत्र मिलता है ।
  • bahada -- बहादा
श्रेणीबद्ध जलोढ पंखों के संलयन (coalescence) से निर्मित जलोढ एप्रन जो गिरिपाद के साथ साथ फैला होता है ।
  • balanced reaction -- संतुलित अभिक्रिया
एक ऐसी उत्क्रमणीय (reversible) अभिक्रिया जो ऐसी परिस्थितियों में घटित होती हैं जिसमें एक दिशा में परिवर्तित अभिकारकों (reagent) की मात्रा विपरीत दिशा में परिवर्तित अभिकारकों की मात्रा के समतुल्य होती है ।
  • ball and pillow structure -- कंदुक एवं शिरोधानी संरचना
परतदार शैलों में पायी जाने वाली गेंद व तकिये के आकार की संरचना जो शैल परत के ठोस होने से पूर्व विरूपण (deformation) के फलस्वरूप बनती हैं ।
  • banded -- पट्टित
(शैल) गठन में भिन्नता के कारण संस्तरण के समांतर पट्टियां अथवा पट्ट प्रदर्शित करने वाला ।
  • banded structure -- पट्टित संरचना
सुस्पष्ट परतों या पट्टियों से युक्त शिराओं या संग्रथनों के लिए प्रयुक्त एक शब्द । इस प्रकार की संरचनाएं अनुक्रमिक निक्षेपण या कुछ पूर्ववर्ती शैलों के प्रतिस्थापन के कारण बन जाती हैं । जैसे-ग्रेनाइट नाइस ।
  • barrier reef -- प्रवाल रोधिका
समुद्र तट के समांतर प्रवाल-भित्ति जो एक अत्यधिक गहरे एवं चौड़े लैगून द्वारा तट से प्रथक्कृत रहती है ।
  • basal plane -- आधारी तल
किसी क्रिस्टल के पार्श्विक अथवा क्षैतिज अक्षों के समांतर तल ।
  • basalt -- बेसाल्ट
सूक्ष्मकणिक से लेकर काचीय गठन का एक असितवर्णी (dark coloured) आग्नेय शैल जो कैल्सिक प्लेजियोक्लेज तथा पाइरॉक्सीन से अनिवार्यतः संघटित होता है । इसमें यदाकदा ऑलिवीन भी हो सकता है और एपाटाइट तथा मैग्नेटाइट खनिज प्रायः गौण खनिज के रूप में मिलते हैं ।
  • basement complex -- आधार जटिल शैल संघ
किसी क्षेत्र विशेष में अवसादी शैलों के नीचे स्थित तथा जटिल संरचनाओं से युक्त, अज्ञात आयु की अति प्राचीन कायांतरित एवं आग्नेय शैलों की श्रेणी ।
  • basic rock -- अल्पसिलिक शैल
वह आग्नेय शल जिसमें अल्प सिलिकीय तथा प्रचुर धात्विक क्षारकों वाले खनिज जैसे ऐम्फ़िबोल, पाइरॉक्सीन, बायोटाइट तथा ऑलिविन अपेक्षतया प्रचुर यात्रा में होते हैं । इन शैलों में सिलिका की मात्रा 45%-52% तक होती है ।
  • basin -- द्रोणी, बेसिन
(क) भू-पर्पटी में एक प्रायः तश्तरीनुमा गर्त जो तली के धंसने के फलस्वरूप बनता है ।
(ख) किसी बड़ी नदी तथा उसकी सहायक नदियों का अपवाह क्षेत्र ।
(ग) वह अवनमित भू-क्षेत्र जिसमें सभी स्तर चारों ओर से भीतर की ओर नत होते हैं ।
  • basiophitic texture -- बेसीऑफ़िटिक गठन
एक विशेष आग्नेय शैल-गठन जिसमें पाइरॉक्सीन के क्रिस्टल प्लेजिओक्लेज की पट्टियों के अन्तराकाशों में स्थित होते हैं ।
  • batholith (bathylith) -- महास्कंध, बैथोलिथ
अदृश्य आधार वाला एक अति विशाल, अनियमित रूपी तथा अननुस्तरी (discordant) वितलीय पिंड जिसका व्यास गहराई के साथ-साथ बढ़ता जाता है और जो सामान्यतः ग्रेनाइट या ग्रेनोडायोराइट से संघटित होता है । पृष्ठ पर इसके अनावरण का क्षेत्रफल 100 वर्ग किoमीo से अधिक होता है ।
  • bauxite -- बॉक्साइट
जलीय ऐलूमिनम आक्साइडों से समृद्ध एक शैल जो मुक्त सिलिका, मृत्तिका, सिल्ट तथा लौह हाइड्रॉक्साइडों के रूप में अपद्रव्यों से युक्त होता है । इसका रासायनिक संघटन मुख्तः Al2O32H2O होता है और यह संग्रथित कणों, अंडकों, पपड़ियों तथा सरंध्र पिडों के रूप में पाया जाता है । यह शैल व्यापार और उद्योगों में प्रयुक्त होने वाले ऐलुमिनम का एक मुख्य स्रोत है ।
  • beach chutes -- पुलिन प्रवणिका
सपाट, उथली अपवाह नलिकायें (drainage channel) जो पुलिन के तरंग चिह्रों को उच्च कोण पर काटती हैं ।
  • bed -- 1. संस्तर, 2. तल
1. (क) किसी स्तरित शैल-श्रेणी का सबसे छोटा भाग जो अपने ऊपरी और निचली परतों से एक विभाजक तल द्वारा सुस्पष्ट रूप से पृथक्कृत रहता है ।
(ख) किसी दृश्यांश या किसी खदान के अंताग्र का वह भाग जो दो संसत्रण तलों के बीच स्थित रहता है ।
(ग) परत के रूप में विन्यस्त किसी पदार्थ (जैसे अयस्क) का पिंड या उसकी राशि ।
2. किसी जलमार्ग या जलराशि का अधस्थल ।
  • bedded deposit -- संस्तरित निक्षेप
उन खनिज निक्षेपों के लिए सामान्यतः प्रयुक्त एक शब्द जो अवसादी शैलों के स्तरण के समांतर पाये जाते हैं ।
  • bedding cleavage -- संस्तरण विदलन
संस्तरण के समांतर विदलन ।
  • bedding planes -- संस्तरण तल
अवसादी या स्तरित शैलों में वे विभाजक तल जो परतों या स्तरों को परस्पर अलग करते हैं ।
  • bedding surface -- संस्तरण पृष्ठ
दो संस्तरों के बीच अवसाद-निक्षेपण की मौलिक सतह । जब ये पृष्ठ नियमित और समतल (plane) होते हैं तो उन्हें संस्तरण-तल की संज्ञा दी जाती है ।
  • bed load -- तल भार
नदी के अधस्तर पर लुढ़क कर बहने वाली मृदा, शैलकण अथवा अन्य प्रकार का मलवा ।
  • bed rock -- आधार शैल
(क) वह ठोस शैल जो स्वर्णमय बजरी, बालू मृत्तिका आदि के नीचे स्थित होता है तथा जिसके ऊपर जलोढ स्वर्ण विद्यमान रहता है ।
(ख) मृदा, बालू, मृत्तिका आदि के नीचे स्थित कोई भी ठोस शेल ।
  • bench gravel -- वेदिका बजरी
वर्तमान नदियों की अधस्तली के ऊपर घाटियों के पार्श्वों पर मिलने वाले बजरी-संस्तर जो नदी के जल-स्तर के ऊंचा रहने के समय उसकी अधस्तली के भागों को प्रदर्शित करते हैं । टैरिल के अनुसार ये छोटे हिमनदों के अन्तस्थ हिमोढ हैं ।
  • benthic -- नितलस्थ
(क) महासागर की गहराइयों में या इन गहराइयों की तली में पाया जाने वाला अथवा उससे संबंधित ।
(ख) गभीर सागरों की तली में निवास करने वाले जीवों से संबंधित ।
  • benthos -- 1. नितल जीव समूह 2. नितल
1. समुद्र की तली पर निवास करने वाले जीव
2. समुद्र की तली, विशेषतया महासागर के गभीर भागों का अधस्तल ।
  • bentonite -- बेन्टोनाइट
एक मृदु, सरंध्र, आर्द्रता अवशोषी शैल जो प्रमुखतः मॉन्टमोरिलोनाइट-बीडेलाइट वर्ग के मृद् खनिजों से संघटित होता है । यह शैल ज्वालामुखी राख के अपघटन के निर्मित होता है और इसे कागज के निर्माण में प्रयुक्त किया जाता है ।
  • biaxial -- द्विअक्षीय
दो प्रकाशिक अक्षों से युक्त; उदाहरणार्थ, विषमलम्बाक्ष, एकनताक्ष तथा त्रिनताक्ष समुदायों में क्रिस्टलित होने वाल क्रिस्टल ।
  • bimagmatic -- द्विमैग्मी
जर्मन शब्द “बाईमैग्मैटिश” का हिन्दी अनुवाद । मूल शब्द को लोविसनलसिंग ने उन पॉफिराइटी शैलों के गठन के लिए प्रयुक्त किया था जिनमें दो पीढ़ियों में बने हुए खनिज मिलते हैं ।
  • bioclast -- जैवखंडाश्म
जीवों द्वारा खंडित अथवा संचित पदार्थों से निर्मित शेल ।
  • bioherm -- जैवहर्म
अनूढ़ (eluvial) जीवों जैसे प्रवाल (coral) शैवाल (algae) फौरेमिनीफेरा, मोलस्क, गैस्ट्रोपॉड आदि द्वारा निर्मित एक टीलानुमा, गुम्बदनुमा, मसूराकार अथवा भित्ति के आकार का शैल-पिण्ड ।
  • bio-genesis -- जीवात्जनन
जैव क्रियाओं और जैव सामग्री द्वारा शैलों के निर्माण की प्रक्रिया ।
  • biolithite -- बायोलिथाइट
रीफ क्रोडों (reef cores) में विशेष रूप से पाया जाने वाला एक प्रकार का चूना पत्थर जिसमें जीव जनित कार्बोनेट द्वारा जीव-खंडों का संयोजन स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ता है ।
  • biomicrite -- बायोमाइक्राइट
वह चूना-पत्थर जिसमें कंकाली मलवा (skeletal debris) और चूनेदार पंक परिवर्ती अनुपात में मिलते हैं । इसका निर्माण अल्प भौतिक ऊर्जा के पर्यावरण का द्योतक है ।
  • bioturbate -- जैवटर्बेंट, बायोटर्बेट
कृमि जैसे जीवों की क्रियाओं के फलस्वरूप निर्मित खण्डज शैलों में पाई जाने वाली बिल जैसी संरचना के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • bisectrix -- द्विभाजक, अर्धक
द्वि-अक्षीय किस्टल के प्रकाशिक अक्षों के बीच के कोण को दो बराबर भागों में बांटने वाली रेखा ।
  • bituminous shale -- बिटूमेनी शेल
हाइड्रोकार्बन या बिटुमेनी पदार्थ से युक्त एक प्रकार का शैल । उक्त पदार्थों से समृद्ध होने पर इसके आसवन से तेल या गैस की प्राप्ति होती है । इसे पाइरोशिस्ट या तेल-धर शेल भी कहते हैं ।
  • black cotton soil -- काली कपास मृदा
एक प्रकार की काली मृदा जो बेसाल्ट के अपरदन से उत्पन्न होती है ।
  • balastomylonitic texture -- ब्लास्टोमाइलोनाइटिक गठन
माइलोनाइट का एक गठन प्रकार जिसमें कायान्तरण द्वारा पुनः क्रिस्टलन की प्रक्रियाएं मूल अपदलनी (cataclastic) गठन को अंशतः ढके रहती हैं ।
  • balstopelitic texture -- ब्लास्टोपैलिटिक गठन
कायान्तरित मृदाश्मी (pelitic) शैलों के गठन के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिसमें मूल शैल के अवशेष प्रमुखतः विद्यमान रहते हैं ।
  • balstophitic texture -- ब्लास्टोफिटिक गठन
कायान्तरित शैलों में वह अवशिष्ट गठन जिसमें मूल ओफिटिक गठन के चिह्र विद्यमान रहते हैं ।
  • balstoporphyritic texture -- ब्लास्टोपॉरफिराइटी गठन
पॉफिराइटी शैलों के कार्यान्तरण से निर्मित ऐसा गठन जिसमें मूल पॉफिराइटी गठन पुनःक्रिस्टलन से पूर्णतः नष्ट नहीं होता ।
  • balstopsammitic texture -- ब्लास्टोसैमिटिक गठन
कायान्तरित बालुकामय (sandy) शैलों का एक ऐसा गठन जिसमें मूल अवसादी गठन के अवशेष मिलते हैं ।
  • balstopsephitic texture -- ब्लास्टोसेफिटिक गठन
कायान्तरित संगुटिकाश्मी (conglomeratic) शैलों का गठन जिसमें मूल गटन के कुछ अवशेष विद्यमान रहते हैं ।
  • block lava -- ब्लॉक लावा
ज्वालामुखी उद्गार (eruption) के पश्चात् जमा हुआ लावा जो कोणीय आकार में पाया जाता है ।
  • blue schist -- ब्ल्यू शिस्ट, नीला शिस्ट
एक प्रकार का शिस्टाभ (schistose) कायान्तरित शैल जिसमें सोडियम एम्फिबोल, ग्लूकोफेन अथवा क्रॉसाइट आदि खनिजों की विद्यमानता के कारम उसका रंग नीला होता है ।
  • bone bed -- अस्थि-संस्तर
यह शब्द उन अनेक पतले शैल-स्तरों या परतों के लिए प्रयुक्त होता है जिनमें फॉसिल अस्थियों के असंख्य खण्ड, शल्क, दांत, कोप्रोलाइट तथा अन्य जैव अवशे, मिलते हैं ।
  • boss -- 1. बॉस 2. गुलिकाधार
1. एक लघु महास्कंध (batholith) जो अनुप्रस्थ काट में वृत्ताकार, दीर्घवृत्तीय अथवा अनियमित होता है । इसके पार्श्व अति प्रवण होते हैं ।
2. एकिनॉइड कवच में गुलिका का आधार ।
  • bottom-set bed -- डेल्टाग्र तली संस्तर
डेल्टा के सामने जल-राशि की तली पर बहाकार ले जाए गए और निक्षेपित सूक्ष्म अवसादों की परत । जैसे-जैसे डेल्टा आगे की ओर बनता जाता है ये परतें डेल्टाग्र नत संस्तरों से ढक जाती हैं और अन्ततोगत्वा डेल्टा उनके ऊपर बन जाता है ।
  • boulder -- गोलाश्म, उपल
शैलों के लगभग गोल आकार के खण्ड । ये सामान्य उपलिका (cobble) से बड़े होते हैं और इनके व्यास की न्यूनतम सीमा 256 मिo मीo होती है । गोलाश्म प्रायः जल या हिम द्वारा वाहित होने से निरंतर घिसने के कारण गोल हो जाते हैं, परन्तु कुछ गोलाश्म स्वस्थाने अपक्षय द्वारा गोल बन जाते हैं और तब उन्हें “अपक्षय-गोलाश्म” कहते हैं ।
  • boulder clay -- गोलाश्म मृत्तिका
मृत्तिकामय अथवा सिल्टमय पदार्थों से निर्मित एक अवर्गीकृत हिमनदीय निक्षेप जिसमें रेणु से लेकर गोलाश्म के साइज तक के शैल-खण्ड अन्तःस्थापित रहते हैं ।
  • boudinage -- बूडिनाज
तनावजन्य (tensional) बलों से प्रतिफलित एक लघु संरचना । इसका विकास संस्तरण तलों (bedding plane) के साथ-साथ समर्थ संस्तरों के खिचने से होता है जिसके कारण तनाव-दरार अथवा ग्रीवाभ शैल भाग दोनों ओर की असमर्थ (incompetent) संस्तरों के शैल पदार्थों से भर जाते हैं ।
  • box-stone -- बॉक्स स्टोन
एक लोहमय अथवा फॉस्फेटी गोलाकार या चपटा बाक्सनुमा संग्रथन जिसके भीतर श्वेत चूर्णी बालू या जीवाश्मी कास्ट मिलते हैं ।
  • breccia -- संकोणाश्म
कोणीय घटकों से निर्मित एक खण्डमय शैल । इसके घटक संगुटिकाश्मों (conglomerate) की तरह जलधृष्ट नहीं होते । संकोणाश्म कई प्रकार के होते हैं जैसे घर्षण अथवा भ्रंश-संकोणाश्म, टैलस संकोणाश्म तथा उद्गारी संकोणाश्म ।
  • brecciation -- संकोणाश्मन
संकोणाश्म बनने का प्रक्रम ।
  • burial metamorphism -- अंतर्हित कायांतरण
अल्पकोटीय क्षेत्रीय कायांतरण का एक प्रकार जिसमें बिना पर्वतन (orogenesis) अथवा मैग्मीय अन्तर्वेधन के प्रभाव से भू-अभिनति में स्थित अवसादों और अन्तः संस्तरित (interbedded) ज्वालामुखी शैलों का कायांतरण होता है (देखिए dynomothermal metamorphism) ।
  • burrow -- बिल
मृदु अवसादों में जैविक क्रियाओं द्वारा निर्मित नलिकाकार संरचना जो सीधी, टेढ़ी-मेढ़ी आकार में पायी जाती है ।
  • bysmalith -- रोधनी स्कंध
एक रूपांतरित लैकोलिथ जिसकी छत परिधीय भ्रंशन द्वारा अंशतः उठगई हो ।
  • calcareous -- चूनेदार, कैल्सियममय, कैल्सियमी
उन शैलों के लिए प्रयुक्त एक विशेषण जो कैल्सियम कार्बोनेट से संघटित होते हैं ।
  • calcarenite -- कैल्क रेणुकाश्म
खण्डज प्रकार का चूनापत्थर जिसके कण बालू साइज (1/16 से 2 मिली मीटर) के होते हैं और वे द्रोणी (basin) के अन्दर ही बनते हैं ।
  • calcrete -- कैल्क्रीट
कैलसियम कार्बोनेट द्वारा सीमेन्टित एक बजरी निक्षेप जिसमें कैलसियम कार्बोनेट घोल से अवक्षेपित होता है अथवा अन्तःस्पन्दी जलकारकों द्वारा पुनः निक्षेपित होता है ।
  • calc-flinta -- कैल्क फ्लिंटा
कैल्सियमी पंकाश्म द्वारा जनित फिलंट की प्रकृति का एक अति सूक्ष्म कणीय कयान्तरित शैल । इसमें नवीन खनिजों का विकास कुछ सीमा तक ऊष्मावाष्पीय प्रक्रिया द्वारा होता है । इसमें फेल्डस्पार तथा कैल्कसिलिकेट खनिज बनते हैं और कैल्क-सिलिकेट-हार्नफेल्डस की तुलना में फेल्डस्पार की मात्रा कम होती है ।
  • calc-schist -- कैल्कसिंटर, कैल्क-शिस्ट
वह संगमरमर जिसमें कैल्साइट के पट्टकित क्रिस्टलों की समांतरता के कारण थोड़ी बहुत स्पष्ट शिष्टाभता होती है ।
  • calc-sinter -- कैल्कसिन्टर, कैल्क निसाद
चूने का स्टैलेक्टाइटी तथा स्टैलेग्माइटी कार्बोनेट जो विलयन रूप में चूने का कार्बोनेट धारण करने वाले गरम झरनों से निक्षेपित होता है ।
  • caldera -- ज्वालामुखी कुंड
विस्तृत परन्तु अपेक्षाकृत उथला ज्वालामुखी गर्त ।
  • camptonite -- कैम्पटोनाइट
श्यामवर्णी (melanocratic) मध्यकणिक (medium grained) शैल जिसमें बर्वेकाइट, बायोटाइट और ऑगाइट के लक्ष्य क्रिस्टल (phenocryst) एक लैब्रेडोराइट, एम्फिबोल तथा ऑगाइट युक्त आघात्रिका में पाए जाते हैं ।
  • carbonaceous -- कार्बनमय, कार्बनयुक्त
(क) सामान्यतः जैव उत्पति के कार्बन से युक्त; जैसे पादप अवशेषों से युक्त कोई शैल ।
(ख) कोयले से युक्त ।
  • carbonaceous rock -- कार्बनयुक्त शैल
वह शैल अथवा अवसाद (sediment) जो पादप और प्राणि-अवशेषों तथा उनके उत्पादों से युक्त होता है चाहे वे शैलों में एक मूल घटक के रूप में या बाद में समाविष्ट हुए हों ।
  • carbon-14 dating -- कार्बन-14 कालनिर्धारण
रेडियोऐक्टिव आइसोटोप कार्बन-14 की सहायता से 50,000 वर्ष से कम आयु वाले कार्बनयुक्त पदार्थों की आयु का काल-निर्धारण ।
  • carbonatite -- कार्बोनेटाइट
कार्बोनेट अथवा कार्बोनेट-सिलिकेट युक्त शैल जिनका उपविभाजन उनमें विद्यमान विभिन्न कार्बोनेट खनिजों के प्रकार के आधार पर किया जाता है ।
  • carbonization -- कार्बनन
कोयला भवन की प्रक्रिया में जैव पदार्थों तथा अपघटन-उत्पादों में परिवर्तन द्वारा अवशिष्ट कार्बन का संचयन ।
  • cast -- ढलाश्म, संचकाश्म
किसी प्राकृतिक सांचे से बनी हुई अश्मीभूत छाप ।
  • catablastic texture -- कैटाब्लास्टिक गठन
शैलों की ठोस अवस्था में पुनःक्रिस्टल की प्रक्रिया के फलस्वरूप उत्पन्न एक कायांतरित गठन ।
  • cataclasis -- अपदलन
कायांतरण के दौरान घटक-खनिजों के कणों के संदलन या विभंजन से प्रतिफलित शैल-विरूपण ।
  • cataclasite -- अपदलाश्म, कैटाक्लेसाइट
अपदलन से प्रतिफलित शैल ।
  • cataclasitc -- अपदलनी, कैटाक्लास्टिक
गतिक कायान्तरण के दौरान अत्यधिक यांत्रिक दबाव की क्रिया से शैलों में उत्पन्न खण्डमय (clastic) संरचना अथवा प्रतिफलित गठन से संबंधित एक शब्द ।
  • cataclasitc metamorphism -- अपदलनी कायांतरण
एक प्रकार का कायान्तरण जिसमें शैलों का गठन गतिक बलों के कारण खंण्डमय हो जाता है ।
  • cataclasitc rudite -- अपदलनी गुटिकाश्म
वह संगुटिकाश्म अथवा संकोणाश्म जो विर्वतनिक प्रक्रिया से अथवा एक शैल काय का दूसरे शैल काय पर संचलन से उत्पन्न गतिक बलों से निर्मित हुआ हो ।
  • catalytic deposits -- उत्प्रेरक निक्षेप
चूना और लौह लवणों के जैविक निक्षेप जो जीवाण्विक और शैवाली अवक्षेपों द्वारा निर्मित होते हैं ।
  • cauldron subsidence -- लावापृष्ठ धंसन
मैग्मीय सक्रियता से संबद्ध एक प्रक्रम जिसमें वलय विभंग में उपवेलनाकार शैलखण्ड धंस जाते हैं । इस प्रक्रम के फलस्वरूप मैग्मा स्थानीय शैलों के साथ-साथ ऊपर आ जाता है जिसके कारण वलय डाइक का निर्माण होता है ।
  • cavernous -- कंदरी, गुहामय
उन शैल समूहों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो गुहाओं से परिपूर्ण हों । यह विशेषण उस किसी भी प्रकार के शैल के लिए प्रयुक्त किया जाता है जिसमें गुहिकाओ, कोशिकाओं तथा दीर्घ अन्तराकाशों की प्रचुरता होती है । आग्नेय शैलों में गैसों के प्रसार के कारण जो सरंध्र संरचनाएं बन जाती हैं वे इसके अन्तर्गत नहीं आतीं ।
  • cellular structure -- कोशिकीय संरचना
छोटा बड़े छिद्रों वाली एक शैल संरचना जो मुख्यतः चूना पत्थरों में मिलती है ।
  • cement -- सीमेन्ट
खंडज शैलों के कणों को आपस में जोड़ने वाला प्राकृतिक पदार्थ ।
  • cementation -- सीमेन्टन, सीमेन्टीभवन, संयोजन
वह प्रक्रम जिसके द्वारा अवसादों के रंध्राकाशों (pore spaces) में सीमेंट के निक्षेपण से उनका कठोर शैलों के रूप में संपिंडन हो जाता है ।
  • chadacryst -- गृहीत क्रिस्टल
वह क्रिस्टल या क्रिस्टल-खण्ड जो किसी बड़े क्रिस्टल के भीतर समाविष्ट होता है ।
  • chalk -- चाक
एक मृदु, शुद्ध, सूक्ष्म गठनवाला (microtexture), सफद, धूसर या बर्फ के रंग का चूनाश्म जो उथले जल में प्लवनशील सूक्ष्म जैविक पदार्थों से निर्मित होता है ।
  • channel cast -- वाहिका संचक
अवसादी शैलों में सामान्य रूप से पाया जाने वाला एक प्रकार का खांच (groove) जो बालू से भरा होता है और इसका साइज 2 मीटर तक चौड़ा तथा आधा मीटर तक गहरा होता है ।
  • charnockite -- चार्नोकाइट
ग्रनाइट (अधिसिलिका) से लेकर नोराइट और पाइरॉक्सीनाइट (अत्यल्पसिलिक) की शैलश्रेणी का वह कोई भी शैल जिसमें हाइपरस्थीन एक मुख्य मैफिक घटक के रूप में विद्यमान रहता है ।
  • charnockite series -- चार्नोकाइट श्रेणी
एक स्थूल कणिक शैल जिसमें मुख्यतः क्वार्ट्ज फ़ेल्सपार व हाइपरस्थीन खनिज होते हैं ।
  • chemical deposits -- रासायनिक निक्षेप
वे निक्षेप जो संतृप्त विलयनों और कोलाइडी विलयनों के अवक्षेपण तथा क्रिस्टलीकरण द्वारा निर्मित होते हैं । इस प्रकार के अधिकांश निक्षेपों की रचना में जैविक योगदान होता है । यह शब्द अवसादी शैलों के संदर्भ में प्रयुक्त होता है । उदाहरणार्थ-क्लोरेट, सल्फेट, कार्बोनेट, बोरेट, नाइट्रेट इत्यादि ।
  • chemical metamorphism -- रासायनिक कायान्तरण
कायान्तरण की वह प्रक्रिया जिसमें रासायनिक अभिक्रिया की प्रधानता होती है ।
  • chevron marks -- कोणीय चिह्र
अवसादी शैलों में v आकार के श्रेणीबद्ध चिह्र ।
  • chiastolite slate -- काइऐस्टोलाइट-स्लेट
संस्पर्श कायान्तरण द्वारा उत्पन्न एक निम्न कायान्तरी कोटि का काइऐस्टोलाइट युक्त पेलिटिक शैल जिसमें विदलन (cleavage) सुस्पष्ट नहीं होता ।
  • china clay -- चीनी मिट्टी
फेल्सापार के अपघटन (decomposition) से व्युत्पन्न मृत्तिका जिसे चीनी के बर्तन तथा पोर्सेलेन बनाने के काम में लाया जाता है ।
  • chonolith -- कोनोलिथ
एक पूर्णतः अनियमित रूप का अन्तर्वेधी आग्नेय पिंड ।
  • cinder -- सिंडर
किसी उद्गारी ज्वालामुखी से निकले लावा के छोटे-छोटे सामान्यतः स्फोटगर्ती (vesicular) खंड जो 1/4″ से डेढ़ इंच व्यास के होते हैं । सिंडर ज्वालामुखी भस्म की अपेक्षा स्थूल और बम से छोटे होते हैं ।
  • cinder cone -- सिन्डर शंकु
ज्वालामुखी द्वार के चारों ओर उसके बहिःक्षिप्त मलवे (भस्म तथा सिंडर) के संचयन से बनी एक शंकुवत् पहाड़ी ।
  • C. I. P. W. classification -- सी.आई.पी.डब्ल्यू.वर्गीकरण
क्रॉस, इडिंग्स, पिर्सन, वाशिंगटन द्वारा प्रस्तावित आग्नेय शैलों का वर्गीकरण जो शैलों में विद्यमान कुछ मानक खनिजों के अनुपातों पर आधारित होता है ।
  • C.I.P.W. norm -- सी.आई.पी.डब्ल्यू. मानक
शैलों में एक भूरासायनिक मानक जिस में किसी खनिज की अंशमात्रा इसके भार प्रतिशत से निरूपित होती है और इसमें सभी खनिज निर्जल होते हैं ।
  • clastic -- खंडज
पूर्ववर्ती शैलों से उत्पन्न खण्डमय पदार्थों से निर्मित शैल से संबंधित ।
  • clastic rock -- संखंडाश्म, खंडज शैल
पूर्ववर्ती शैलों से व्युत्पन्न खण्डमय पदार्थों से निर्मित शैल, उदाहरणार्थ-बालुकाश्म, संगुटिकाश्म आदि ।
  • clay -- चिकनी मिट्टी, मृत्तिका
(क) असंपिडित खंडज (clastic) निक्षेप जिसके कणों का साइज 1/256 मिoमीo से कम होता है ।
  • -- (ख) अत्यन्त सूक्ष्म गठन का एक मटियारा निक्षेप जो गीला होने पर प्रायः प्लास्टिक होता है और गरम करने पर कठोर तथा अश्मवत् हो जाता है । रासायनतः इसकी विशेषता यह है कि इसमें ऐलुमिना के जलीय सिलिकेट प्रचुर मात्रा में होते हैं तथा साथ ही साथ फल्सपार, विभिन्न सिलिकेट, क्वार्ट्ज एवं कार्बोनेट और लोहमय तथा जैव पदार्थ विचरणशील मात्रा में विद्यमान रहते हैं । इसके घटकों का कुछ अनुपात प्रायः कोलाइडी अवस्था में रहता है और तब यह अकोलाइडी पदार्थों के कणों तथा पत्रकों के प्रति एक स्नेहक के रूप में कार्य करता है ।
  • clay marl -- मृत्तिका मार्ल
वह मार्ल जिसमें मृत्तिका अधिक मात्रा में होती है ।
  • clay minerals -- मृत्तिका खनिज
सूक्ष्म क्रिस्टलीय, मेटाकोलाइडी तथा अक्रिस्टलीय, जलीय सिलिकेट खनिजों का एक जटिल वर्ग (complex group) जिसकी व्याख्या स्पष्ट रूप से नहीं की गई है ।
  • clay shale -- मृत्तिका शेल
पूर्णतः अथवा मुख्य रूप से मृण्मय पदार्थ से निर्मित शेल जो अपक्षयण से पुनः मृत्तिका में परिवर्तित हो जाता है ।
  • clay slate -- मृत्तिका स्लेट
स्लेट की एक किस्म जिसके विदलन तलों में वह चमक नहीं होती जो कि अधिक कायांतरित स्थिति को प्राप्त स्लेटों में होती है ।
  • clay stone -- मृत्तिकाश्म
(क) किसी मृत्तिका संस्तर में निर्मित कैल्सियमी संग्रथन ।
(ख) मृत्तिका युक्त मटियारा फेल्सपारी शैल ।
  • coarse-grained -- स्थूल कणिक
मोटे-मोटे कणों से निर्मित शैलों के गठन को वर्णन करने के लिए प्रयुक्त एक शब्द । इन कणों का औसत व्यास प्रायः 5 मिo मीo से अधिक होता है ।
  • cobble -- उपलिका, गोलाश्मिका
गुटिका से बड़ा और गोलाश्म से छोटा, 64 मिo मीo से 256 मिoमीo व्यास के बीच के साइज का एक गोलाकार शैल-खण्ड ।
  • cognate -- सजात
पिंडित लावा में उन ज्वालामुखी खण्डों से संबंधित जो एक ही बहिर्वेधन (extrusion) के भाग हों ।
  • cognate ejecta -- सजात इजेक्टा, सजात बहिःक्षेप
सजातीय ज्वलखंडाश्मी शैल-मलवा जो ज्वालामुखी द्वार के चारों ओर जमा रहता है ।
  • coagulation texture -- स्कंदनी गठन
बेसाल्टिक शैल गठन जिसकी आधात्री में पाइरोक्सीन व फैल्सापर युक्त धब्बे स्पष्ट दिखाई पड़ते हैं ।
  • cocolithic texture -- कोकोलिथी गठन
कुछ फैल्सपैथायडी और बेसाल्टी शैलों में पाया जाने वाला धब्बेदार गठन ।
  • colloform texture -- कोलाइडी गठन
कोलाइडी खनिज निक्षेपों में निर्मित गोलाकार अथवा वृक्कार गठन ।
  • colluvial -- मिश्रोढ
मिश्रोढक से संबंधित या उसके लक्षणों से युक्त ।
  • colluvium -- मिश्रोढक
पर्वत-ढालों तथा भृगुओं के नीचे मुख्यतः गुरुत्व के प्रभाव द्वारा लाए गए शैल मलवे का विषमांगी, असंपिंडित समुच्चय ।
  • colour index -- वर्ण सूचकांक
किसी शैल में असित और रंगीन खनिजों का योग जो प्रतिशतताओं में व्यक्त किया जाता है ।
  • columnar -- स्तंभी, स्तंभाकार
अलग-अलग स्तंभों से निर्मित अथवा स्तंभ सदृश ।
  • columnar jointing -- स्तंभी संधि
संधियों (joints) का वह प्रकार जिसमें शैल अलग-अलग स्तंभों में विभक्त हो जाते हैं । इस प्रकार की संधियां बेसाल्टी शैलों में संकुचन के परिणामस्वरूप निर्मित होती हैं ।
  • columnar structure -- स्तंभी संरचना
बेसाल्ट और अन्य लावाओं में मिलने वाली एक सामान्य भूवैज्ञानिक संरचना । इसमें शैल कुछ ऊर्ध्वाधर प्रिज्मों या स्तंभों में विभाजित रहते हैं जिनमें सामान्यतः 6 पार्श्व परन्तु कभी-कभी 3 से लेकर 8 पार्श्व विकसित हो जाते हैं ।
  • comagmatic -- सहमैग्मीय
उन आग्नेय शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिनमें रासायनिक, खनिजीय तथा गठन संबंधी एक समान लक्षण मिलते हों और इस प्रकार से वे एक ही जनक मैग्मा (parent magma) से व्युत्पन्न माने जाते हैं ।
  • comb structure -- करंड संरचना
खनिज शिराओं में क्रिस्टल पुंजों की करंड सदृश एक रचना ।
  • compaction -- संहनन
संपीडन-प्रतिबल (compressive stress) के फलस्वरूप अवसादों के आयतन में ह्रास जो सामान्यतः उनके ऊपर सतत निक्षेपण से प्रतिफलित होता है, परन्तु यह शुष्कन तथा अन्य कारणों से भी हो सकता है ।
  • competent bed -- समर्थ संस्तर
वे संस्तर या स्तर जो संस्थूलता अथवा सहज सामर्थ के कारण न केवल अपना भार उठाने में सक्षम होते हैं बल्कि ऊपरिशायी शैल का भी भार अनुवहन करने में सक्षम होते हैं ।
  • composite dyke -- मिश्र डाइक
वह डाइक जो भिन्न-भिन्न रासायनिक तथा खनिजीय संघटनों वाले दो या अधिक अन्तर्वेधनों से निर्मित होता है ।
  • conchoidal -- शंखाभ
उन खनिजों के टूटने की प्रवृत्ति को वर्णन करने के लिए एक शब्द जिनमें विभंग से किसी द्विकपाटी कवच के भीतरी भाग के सदृश वक्रित पृष्ठ बन जाते हैं ।
  • concordant -- अनुस्तरी
उन अन्तर्वेधी आग्नेय पिंडों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो स्थानीय शैल (country rock) के संस्तरण-तल के समांतर स्थित रहते हैं ।
  • concretion -- संग्रथन
अकार्बनिक अवसादी पदार्थ का एक गोलीय या चक्रिकाभ समुच्चय जो इससे भिन्न संघटन के अवसादी शैलों में एक केन्द्रिय नाभिक के चारों ओर जलीय घोल से निक्षेपण द्वारा निर्मित होता है । यह अन्तर्धारी (enclosing) शैल की अपेक्षा कठोर होता है ।
  • concretionary -- संग्रथित
संग्रथन उत्पन्न करने वाला या उससे युक्त ।
  • cone in cone structure -- शंकुस्थ शंकु संरचना
मार्लों, लोहाश्मों (ironstones), कोयलों इत्यादि में मिलने वाली एक संग्रथनी संरचना जिसमें अभिलक्षणिक रूप से एक दूसरे के भीतर स्थित शंकुओं का एक अनुक्रम विकसित हो जाता है ।
  • conglomerate -- संगुटिकाश्म
जल की क्रिया से घिसे हुए तथा गोलित हुए शैल-खण्डों या गुटिकाओं के परस्पर संयोजन से निर्मित एक शैल ।
  • conglomerite -- दृढ़ संगुटिकाश्म
वह संगुटिकाश्म जो क्वार्ट्जाइट के ही समान दृढ़ीभवन की प्रावस्था में पहुँच गया हो ।
  • connate water -- सहजात जल
वह जल जो शैल (अवसादी या बहिर्वेधी आग्नेय) के अन्तराकाशों में शैल पदार्थों के निक्षेपण के समय अन्तःपाशित हो गया हो ।
  • consolidation -- संपिंडन
भूविज्ञान में वह प्रक्रम या वे सभी प्रक्रम जिनके द्वारा श्लथ, असंपिंडित मृदु अथवा द्रव भूपदार्थ दृढ़ और संसक्त (coherent) हो जाते हैं ।
  • constructive metamorphism -- रचनात्मक कायान्तरण
उष्मीय या उष्मजलीय प्रक्रियाओं द्वारा नियंत्रित कायान्तरण की एक प्रक्रिया जिसके परिणामस्वरूप तत्रजनित खनिजों का निर्माण होता है ।
  • constructive phase -- रचनात्मक प्रावस्था
पेग्मेटाइटों की क्रिस्टलन में आरम्भिक प्रावस्था जिसके दौरान बिना खनिज कारकों के प्रभाव से मैग्मीय क्रिस्टलन अग्रसर होता है ।
  • contact deposit -- संस्पर्श निक्षेप
दो असमान शैलों के बीच मिलने वाला खनिज निक्षेप; यह शब्द प्रायअवसादी और आग्नेय शैलों के बीच संस्पर्श पर स्थित अयस्क-पिंडों के लिए प्रयुक्त होता है ।
  • contact metamorphism -- संस्पर्श कायान्तरण
वह कायान्तरण जो मैग्माओं के अन्तर्वेधन (या बहिर्वेधन) से जननिक रूप से संबंधित होता है और उन शैलों में घटित होता है जो किसी आग्नेय शैल के पिंड पर या उसको संस्पर्श करते हुए स्थित होते हैं ।
  • contact matasomatism -- संस्पर्श तत्वांतरण
आग्नेय अन्तर्वेधन से सम्बद्ध तत्वांतरण की वह प्रक्रिया जिसमें मैग्मा के निकट के शैलों में तत्वों का स्थानान्तरण एवं प्रतिस्थापन होता है ।
  • continental deposit -- महाद्वीपीय निक्षेप
समुद्री निक्षेपों से भिन्न, भूभाग के ऊपर नदियों, वायु और हिमानी द्वारा निक्षेपित अवसादी संचय ।
  • convolute bedding/lamination -- संवलित संस्तरण/स्तरिका
कुछ अवसादी या स्तरित शैलों में तरंगिल, व्यावर्तित या वलित संस्तर अथवा स्तर ।
  • coral limestone -- प्रवाल चूनापत्थर, प्रवाल चूनाश्म
अधिकांशतः प्रवालों के कैल्सियममय कंकाल से निर्मित चूनापत्थर ।
  • coralline -- प्रवाली
प्रवालों से संबंधित उनसे संघटित या उनकी संरचना से युक्त ।
  • coral reef -- प्रवाल भित्ति
बृहत् विस्तार की एक भित्ति जिसकी रचना मुख्यतः प्रवाल खंडों, प्रवाल रेणु, शैवाल और अन्य जैव निक्षेपों तथा रसायनतः अवक्षेपित (precipitated) कैल्सियम एवं मैग्निशियम कार्बोनेटों से होती है ।
  • cordierite-amphibole facies -- कॉडिएराइट-ऐम्फिबोल संलक्षणी
एम्फिबोलाइट संलक्षणी के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिसमें कॉर्डिएराइट खनिज के विद्यमान होने के कारण इसे एलमेन्डाइट-ऐम्फिबोलाइट संलक्षणीं से भिन्न मानते हैं ।
  • corrosion -- संक्षारण
रासायनिक घोलों द्वारा शैलों का अपरदन या विघटन ।
  • corrosion rim -- संक्षारण नेमि
खनिजों के ऊपर मैग्मा की संक्षारी क्रिया के कारण लक्ष्य क्रिस्टलों (phenocrysts) की परिसीमाओं में एक प्रकार का रूपान्तरण, यद्यपि ये खनिज-क्रिस्टल इससे भिन्न परिस्थितियों में पहले स्थायी थे; अभिक्रिया नेमि की एक विशिष्ट अवस्था ।
  • corrugated bedding -- वलित संस्तरण
वे वलन संस्करण जो अवसादी शैलों के संस्तरो में छोटे पैमाने पर विकसित हो जाते हैं ।
  • cosmochemistry -- ब्रह्माण्ड-रसायन
(क) शैल रसायन विज्ञान की वह शाखा जिसमें उल्का-पिण्ड व अन्य ब्रह्मांडी पिण्डों के रसायन का अध्ययन किया जाता है ।
(ख) ब्रह्माण्ड के तत्वों के उद्गम, वितरण एवं उनकी व्यापकता का अध्ययन ।
  • cotectic -- सहक्रांतिक
(क) तापमान, दाब और संघटन की वह अवस्था जिसमें दो या अधिक प्रावस्थाएं एक साथ (simultaneous) क्रिस्टलित होती हैं और गिरते तापमान के सीभित परिसर में एकल द्रव से पुनः शोषित (resorption) नहीं होती ।
(ख) प्रावस्था आरेख के लिक्विड्स पर अनुवर्ती प्रावस्था सीमा को निरूपित करने वाली ज्यामितीय आकृति (रेखा या सतह) ।
  • country rock -- स्थानीय शैल
(क) किसी आग्नेय अन्तर्वेध (igneous intrusion) द्वारा आक्रांत तथा उसके चारों ओर पहले से स्थित शैल ।
(ख) किसी खनिज शिरा के परिवेशी तथा उसके द्वारा अन्तर्वेधित शैल ।
  • crater -- क्रेटर
सामान्यतः ज्वालामुखी के शीर्ष पर निर्मित एक द्रोणी सदृश या कीप के आकार का गर्त जिसका व्यास लगभग 1000 मीटर होता है और गहराई इससे कहीं अधिक होती है ।
भूपृष्ठ पर उल्का पिंण्ड के संघट्ट से निर्मित गर्त को भी क्रेटर कहते हैं ।
  • crater type caldera -- क्रेटर प्ररूप ज्वालामुखी कुण्ड
ज्वालामुखी शंकु के शीर्ष पर स्थित एक वृत्ताकार अथवा अण्डाकार ज्वालामुखी कुण्ड ।
  • creep -- विसर्पण
अदृढ़ खंडित शैल-पदार्थों का ऊपर से नीचे की ओर मंद संचलन ।
  • crinoidal limestone -- क्राइनॉइडी चूनापत्थर
मुख्यतः क्राइनॉयडी कंकाल से संघटित एक शैल जिसमें फोरेमिनीफेरा, प्रवाल मोलस्क भी मिल सकते हैं ।
  • critical phase -- क्रांतिक प्रावस्था
दाब, तापमान और संघटन की उस दशा (स्थिति) को निरूपित करने वाली प्रावस्था जिस पर दो प्रावस्थाओं में भौतिक विभेद नहीं किया जा सकता ।
  • critical point -- क्रांतिक बिन्दु
एक घटक वाले निकाय में वह तापमान और दाब जिस पर द्रव और उसका वाष्प सब गुणों में समान होते हैं ।
  • critical pressure -- क्रांतिक दाब
क्रांतिक बिन्दु पर गैस के संघनन के लिए अपेक्षित दाब । इसके ऊपर गैस द्रव में नहीं परिवर्तित हो सकती, भले ही दाब कुछ भी हो ।
  • critical temperature -- क्रांतिक तापमान
क्रांतिक बिन्दु पर वह तापमान जिसके ऊपर कोई पदार्थ केवल गैसीय अवस्था में ही रह सकता है ।
  • cross assimilation -- क्रॉंस स्वांगीकरण
एक ऐसा स्वांगीकरण जिसमें मैग्मा व स्थानीय शैल में परस्पर अभिक्रिया से दोनों में एक ही प्रकार की खनिज प्रावस्थाएं उत्पन्न हो जाती हैं ।
  • cross bedding -- क्रॉस संस्तरण
अवसादी शैलों में पाया जाने वाला ऐसा स्तरण (stratification) जो मुख्य स्तरण तल के प्रति तिरछा या अनुप्रस्थ होता है तथा किसी एक ही संस्तर में सीमित रहता है । इस प्रकार का स्तरण तीव्र स्थानीय धाराओं या भंवरदार वायु के झोंकों से उत्पन्न हो जाता है ।
  • cross lamination -- क्रॉस स्तरिकाविन्यास
देखिए ‘cross bedding’
  • crown -- मुकुट, किरीट
(क्राइनाइडिया में) क्रिनायड में स्तंभ को छोड़कर शेष समस्त भाग ।
  • crustification -- पर्पटीभवन, पपड़ी बनना
खनिज या अयस्क-निक्षेपों का परतों या पर्पटियों के रूप में निर्माण ।
  • cryptic layering -- गूढ़ स्तरण
स्तरित आग्नेय शैलों के अनुक्रम में अधस्तल (bottom) से शीर्ष तक खनिज संघटन में विविधता जो आवर्ती संस्तरण (rhythmic layering) की अपेक्षा कम स्पष्ट होती है ।
  • cryptobatholithic stage -- गूढ़महास्कंधी अवस्था
बैथोलिथ के अपरदन की ऐसी अवस्था, जिसमें अपरदन मुख्य बैथोलिथ तक न पहुँच कर केवल ऊपरी स्तर के डाइकों और सिलों को ही काट पाता है ।
  • cryptocrystaline -- गूढ़क्रिस्टली
(शैलों के लिए प्रयुक्त) ऐसी संरचना वाला जो यद्यपि क्रिस्टलीय तो होता है परन्तु इतने सूक्ष्म रूप से क्रिस्टालित रहता है कि उसके कण सूक्ष्मदर्शी की सहायता से भी स्पष्टतः पहचाने नहीं जा सकते ।
  • cryptographic (texture) -- गूढ़ालेखी (गठन)
आग्नेय शैलों में प्रायः क्वार्ट्ज और फ़ेल्सपार के गूढ़ क्रिस्टलीय अन्तवृद्धि के कारण उत्पन्न एक प्रकार का गठन जो इतना सूक्ष्म होता है कि उनके अलग-अलग घटक सूक्ष्मदर्शी की सहायता भी से नहीं पहचाने जा सकते ।
  • cryptovolcanic structure -- गूढ़ज्वालामुखीय संरचना
लगभग वृत्ताकार रूपरेखा वाली एक ज्वालामुखी संरचना जिसका केन्द्रीय भाग तीव्र संरचनात्मक अपविन्यास के साथ उभरा हुआ होता है और इसके किनारों पर अनियमित तथा स्थानीय भ्रंशन से युक्त वलयाकार गर्त होते हैं । यह अति प्राचीन तथा अस्पष्ट अर्थ वाला शब्द है ।
  • crystal -- क्रिस्टल
सामान्यतः ठोस, परन्तु आवश्यक रूप से ऐसा न होकर, एक पिंड जिसके घटक-परमाणु निश्चित त्रिविम जालकों (space lattice) में विन्यस्त होते हैं और उसके बाहर दिखाई देने वाले फलक सामान्यतः घटक परमाणुओं के आवर्ती आन्तरिक विन्यास को अभिव्यक्त करते हैं ।
  • crystalline -- क्रिस्टलीय, रवेदार
(क) क्रिस्टल से निर्मित,
(ख) क्रिस्टलों या क्रिस्टल खंडों से युक्त अथवा उनसे संबंधित ।
  • crystallinohyalline -- क्रिस्टली काची
पॉफिरिटिक शैलों के घटन के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिसकी आधात्री (ground mass) काचीय (glassy) होती है ।
  • crystallisation (crystallization) -- क्रिस्टलन, क्रिस्टलीकरण
वह प्रक्रम जिसके द्वारा क्रिस्टलीय प्रावस्थाएं, तरल, श्यान या परिक्षिप्त अवस्था (dispersed state) से अलग हो जाती हैं ।
  • crystallites -- क्रिस्टलाणु
काचाभ आग्नेय शैलों में पाए जाने वाले सूक्ष्म पिंड । ये किसी निश्चित खनिज प्रजाति या क्रिस्टल रूप से संबंधित नहीं कहे जा सकते । ये पिंड एक प्रकार से अविकसित भ्रूणीय रूप होते हैं और क्रिस्टलन की दिशा में उसकी प्रारम्भिक अवस्थाओं के द्योतक हैं ।
  • crystalloblastic -- कायांतर क्रिस्टली, क्रिस्टलोब्लास्टिक
एक प्रकार का क्रिस्टलीय गठन जो कायांतरिक पुनः क्रिस्टलन के फलस्वरूप विकसित होता है ।
  • cumulative frequency curve -- संचयी आवृत्ति वक्र
वह आवृत्ति वक्र जिसमें प्रत्येक प्रेक्षण वर्ग का योग अपने पूर्ववर्ती वर्ग के साथ जुड़ता हुआ शत-प्रतिशत हो जाता है ।
  • cup-and ball structure -- चषक-कदुक संरचना
स्तंभी आग्नेय शैलों में एक प्रकार की क्रॉसित संधि जिसमें संधि का एक फलक अवतल और दूसरा उत्तल होता है ।
  • cupola -- गुंबद, क्यूपोला
किसी महास्कंध के ऊपरी भाग से निकला हुआ गुंबद या बॉस सदृश एक पिंड जो उसकी छत पर एक सुस्पष्ट अनियनितता के रूप में पाया जाता है ।
  • current bedding -- धारा-संस्तरण
जल धाराओं या वायु प्रवाहों से उत्पन्न तिर्यक् संस्तरण ।
  • cyclic sedimentation -- चक्रीय अवसादन
एक विशेष प्रकार का शैल-विन्यास क्रम जिसमें स्तरिकी कॉलम (stratigraphic column) में अवसादी स्तरों की पुनरावृत्ति होती है ।
  • cyclolith -- साइक्लोलिथ
वह मैग्मीय शैल सम्मिश्र जिसकी रूपरेखा वृत्ताकार अथवा अण्डाकार होती है ।
  • cyclothem -- चक्रीय निक्षेप, साइक्लोथेम
एक ही अवसादी चक्र (sedimentary cycle) के दौरान निक्षेपित संस्तरों की श्रेणी से निर्मित स्तरीय शैल इकाई ।
  • dacite -- डेसाइट
क्वार्ट्ज डायोराइट का समतुल्य बहिर्वेधी आग्नेय शैल जिसमें मुख्य खनिज प्लैजियोक्लेज तथा क्वार्ट्ज होते हैं जिनके साथ इसमें बायोटाइट, हॉर्नब्लेड या पाइरॉक्सीन खनिज भी मिलते हैं ।
  • debris -- मलवा
शैलों के विघटन से प्रतिफलित असंपिंडित शैल पदार्थ ।
  • debris cone -- मलवा शंकु
मृदा, बालू, बजरी तथा गोलाश्मों का एक टीलानुमा निक्षेप जो उस स्थल पर निर्मित होता है जहां कोई पहाड़ी नदी किसी घाटी से मिलती है । यह जलोढ पंखा सदृश होता है, परन्तु इसके प्रवण ढालों पर कुछ अधिक स्थूल शैलपदार्थ मिलते हैं ।
  • deep sea deposit -- गभीर सागर-निक्षेप
भूमि के अनाच्छादन से व्युत्पन्न पदार्थ के परिसर (range) से परे महासागरों में निक्षेपित अवसाद । उदाहरणार्थ-सिंधुपंक, लाल मृत्तिका आदि ।
  • decollement -- अपकर्तन, डिकालेमेन्ट
अधःस्थ शैलों के ऊपर अवसादी संस्तरों का सर्पण के कारण वलन या भ्रंशन द्वारा विदारण (disruption) ।
  • decollement scarp -- डिकॉलेमेन्ट कगार
अधःस्थ शैलों के ऊपर अवसादी शैलों में विसर्पण से निर्मित कगार ।
  • decussate texture -- क्रॉसित गठन
ऊष्मीय कायान्तरित (thermal metamophosed) शैल में बलकृत आन्तरिक दबाव से उत्पन्न शल्कित खनिजों द्वारा निर्मित सूक्ष्म अन्तर्ग्रथित विन्यास । उदाहरणार्थ-हार्नफेल्स ।
  • dedolomitization -- विडोलोमाइटीभवन
वह प्रक्रम जिसके द्वारा डोलोमाइट या डोलोमाइटी चूनाश्म में विद्यमान मैग्नीशियम अंशतः या पूर्णतः कायांतरण के दौरान मैग्नीशियम खनिजों (जैसे फॉरस्टेराइट, ब्रूसाइट) तथा कैल्सियम-मैग्नेशियम खनिजों (जैसे ट्रेमोलाइट) के निर्माण में व्ययित हो जाता है जिससे शैल में कैल्साइट की समृद्धि हो जाती है ।
  • deformation texture -- विरूपण गठन
गतिक कायान्तरण द्वारा उत्पन्न सभी गठनीय परिवर्तनों के लिए एक सामूहिक शब्द ।
  • delta -- डेल्टा
नदी के मुहाने पर प्रायः त्रिकोणीय आकार का जलोढ निक्षेप ।
  • deltaic -- डेल्टा
डेल्टा सदृश या उससे संबंधित अथवा उसे निर्मित करने वाला ।
  • dendrite -- द्रुमाश्म
(क) कुछ खनिजों या शैलों में उत्पन्न वृक्ष सदृश एक चित्राम (पैटर्न) जो किसी बाहरी खनिज (प्रायः मैंग्नीज़ ऑक्साइड) के समावेशन के फलस्वरूप बन जाता है । उदाहरणार्थ-मॉस अगेट में ।
(ख) उपर्युक्त प्रकार से चिह्रित कोई खनिज ।
  • dendritic lava -- द्रुमाकृतिक लावा
वह लावा जिसमें विभंग (frature) तलों के साथ-साथ द्रुमाकृतिक संरचनाएं विकसित रहती हैं ।
  • denudation -- अनाच्छादन
अपरदन का वह संपूर्ण प्रक्रम जिसके द्वारा भूपृष्ठ की अनियमितताएं कटछंट कर समतलता की ओर अग्रसर होती हैं । इस शब्द का प्रयोग अपरदन (erosion) की अपेक्षा अधिक व्यापक प्रभाव के लिए किया जाता है ।
  • deposit -- निक्षेप
कुछ प्राकृतिक कारकों द्वारा लाकर संचित किया हुआ कोई भी पदार्थ । यह शब्द पहले जल के माध्यम से बहाकर लाए हुए पदार्थों (निलंबित) के लिए प्रयुक्त होता था लेकिन अब इसके अन्तर्गत किसी भी रूप में संचित खनिज-पदार्थ भी आते हैं चाहे वे रासायनिक अथवा अन्य कारकों से ही अवक्षेपित हुए हों जैसे शिराओं में अयस्क ।
  • deposition -- निक्षेपण
(क) शैलकर (rock forming) पदार्थों के किसी स्थान पर संचित होने का प्रक्रम ।
(ख) विलयन (solution) से खनिज पदार्थ का अवक्षेप जैसे अगेट, शिरा क्वार्ट्ज आदि का निक्षेपण ।
  • dermolith -- डर्मोलिथ
समपृष्ठी बेसाल्टी लावा जिसकी सतह चिकनी, तरंगित अथवा रज्जुक होती है तथा जिसमें सामान्यतः अनेक गोल स्फोटगर्त होते हैं ।
  • destructive phase -- विनाशकारी प्रावस्था
पैग्मेटाइटों के क्रिस्टलन में बाद की प्रावस्था जिसके दौरान खनिजकारकों का पूर्वनिर्मित खनिजों के साथ अन्योन्य क्रिया के कारण नए खनिजों का निर्माण होता है ।
  • detrital -- अपरदी
अपदर से प्रतिफलित या उससे संबंधित ।
  • detrital rock -- अपरदी शैल
अन्य शैलों के मलवे से निर्मित शैल ।
  • detritus -- अपरद
(क) शैलों के विघटन (disintegration) तथा अपक्षयण (weathering) से उत्पन्न पदार्थ जो अपने उद्भव स्थल से हट गए हों ।
(ख) उपरोक्त प्रकार के पदार्थों से निर्मित निक्षेप ।
  • deuteric -- पश्चकालिक
सडरहोम द्वारा उन परिवर्तनों और खनिजों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो मैग्मा के संपिण्डन की अन्तिम प्रावस्थाओं के दौरान घटित या निर्मित हुए हों ।
  • diabase -- डायाबेस
बेसाल्टी संघटन का एक शैल जो लैब्राडोराइट तथा पाइरॉक्सीन खनिजों से अनिवार्य रूप से युक्त होता है । इसका गठन अभिलाक्षणिक रूप से ओफाइटी होता है ।
  • diabase facies -- डायाबेस संलक्षणी
(क) डायोरिटीक और गंब्रोवत् शैल का एक सामूहिक नाम ।
(ख) उच्च ताप और कम दाब पर बने आग्नेय शैल की संलक्षणी जिसमें लैब्रेडोराइट-प्लेजिओक्लेज और पॉइरॉक्सीन प्रमुख खनिज होते हैं ।
  • diablastic texture -- चालनी गठन
कायान्तरित शैल का वह गठन जिसमें छड़ के आकार के खनिज जटिल रूप से अन्तर्वेधित दिखाई पड़ते हैं ।
  • diagenesis -- प्रसंघनन
प्रारम्भिक अवसादी निक्षेपण के उपरान्त अवसाद में घटित रासायनिक, भौतिक एवं जैविक क्रियाओं के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • diagenestic texture -- प्रसंघाती गठन
प्रसंघनन प्रक्रिया द्वारा अवसादी शैलों में विकसित गठन ।
  • diagnostic -- निदानसूचक, नैदानिक
(क) किसी खनिज या जीवाश्म को पहचानने में सहायक ।
(ख) किसी शैलसमूह की उत्पत्ति की अवस्थाओं या उसकी आयु का सूचक ।
  • diaphthorite -- डायाफ्थोराइट
वह शैल जिसमें पश्चगतिक कायान्तरण के प्रभाववश उच्च कोटि कायांतरण के खनिज निम्न कोटिय कायान्तरिक खनिजों में परिवर्तित हो जाते हैं । उदाहरणार्थ, बायोटाइट से क्लोराइट शिस्ट ।
  • diatectic solution -- अपगलन घोल
मैग्मा द्वारा किसी पूर्व विद्यमान ठोस शैल के आंशिक गलन से प्रतिफलित घोल ।
  • diatectic structure -- अपगलन संरचना
शैलों में पुनर्गलन (remelting) से उत्पन्न संरचना जिसमें विभिन्न खनिज अपनी सीमाओं पर संक्षारण (corrosion) अभिलक्षित (characterised) करते हैं ।
  • dictyonitic structure -- डिक्टियोनाइटी संरचना
पृथ्वी की गहराई में विद्यमान शैलों में खनिजों द्वारा विकसित रैखिक, जालीनुमा, द्रुमीय संरचना ।
  • differential anatexis -- विभेदक पुनर्गलन
अतिकायान्तरण के दौरान शैलों में पुनर्गलन की विभेदी प्रक्रिया ।
  • differential compaction -- विभेदी संहनन
किसी शैलसमूह में संपीडन के प्रभाववश आयतन में कमी जो शैल-संघटन और उसके ऊपर निक्षेपण पर निर्भर होता है ।
  • differentiation -- विभेदन
वह प्रक्रम जिसके द्वारा किसी मूल तथा अपेक्षतया समांगी मैग्मा से रासायनतः स्पष्ट एक या दो अथवा विभिन्न प्रकार के आग्नेय शैल व्युत्पन्न होते हैं ।
  • diffusion -- विसरण
विलेय पदार्थों के परमाणुओं अथवा आयनों का विलायक में स्वच्छन्दता से विचरण । इसके कारण विलयन का सांद्रण एक समान हो जाता है ।
  • dike -- 1. डाइक, 2. भित्ति
1. आग्नेय शैल का एक सपाट पिंड जो स्थानीय शैलों के संस्तरण या अन्य स्तरित संरचना को आर-पार काटता है । यद्यपि अधिकांश डाइक मैग्मा के अन्तर्वेधन के फलस्वरूप बनते हैं, परन्तु कुछ तत्वान्तरणी प्रतिस्थापन (metosomatic replacement) से भी प्रतिफलित होते हैं ।
2. किसी निम्न स्थल क्षेत्र के चारों ओर बाढ़ रोकने के लिए बनाया गया भित्ति सदृश्य टीला ।
  • dike rock -- भित्ति शैल
आग्नेय शैल का एक समूह जो गभीरस्थ और निःसृत (effusive) शैलों के बीच में पाया जाता है ।
  • dimorphism -- द्विरूपता
एक ही रासायनिक यौगिक का दो क्रिस्टल रूपों में क्रिस्टलन । उदाहरणार्थ, पायराइट और मार्कासाइट ।
  • dimorphous -- द्विरूपी
एक ही रासायनिक संघठन का, परन्तु दो भिन्न क्रिस्टल समुदायों में क्रिस्टलित होने वाला ।
  • diorite -- डाइओराइट
सोडा-प्लैजियोक्लेस तथा हार्नब्लेन्ड, पाइरॉक्सीन या बायोटाइट से अनिवार्यतः संघटित एक वितलीय शैल जिसमें अल्प मात्रा में क्वार्ट्ज तथा आर्थोक्लेज भी विद्यमान हो सकते हैं ।
  • diorite porphyrite -- डाइओराइट पॉर्फिराइट
डाइओराइटी संघटन का पॉर्फिराइटी शैल ।
  • discontinuous reaction series -- असतत अभिक्रिया श्रेणी
वह अभिक्रिया श्रेणी जिसमें पुर्व निर्मित क्रिस्टलों के शेष द्रव से अभिक्रिया होने पर एक असम्बद्ध प्रावस्था का निर्माण होता है । आलिवीन, पॉइराक्सीन, एम्फिबोल और बायोटाइट एक असतत अभिक्रिया श्रेणी को निरूपित करते हैं ।
  • discordant -- अननुस्तरी
उन अन्तर्वेधी पिंडों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो स्थानीय शैलों को आरपार काटते हैं ।
  • discordant intrusion -- अननुस्तरी अन्तर्वेधन
वह अन्तर्वेधन जो स्थानीय शैल (country rock) की संरचना तल को आर-पार काटता है जैसे डाइक, प्लग, शंकु चादर इत्यादि ।
  • dislocation metamorphism -- विस्थापन कायांतरण
क्षेप एवं भ्रंश (fault) के निकट विकसित एक प्रकार का अपदलनी कायांतरण (cataclastic metamorphism) जो दबाव प्रधान और पश्चगतिक होता है । इसमें शैलों की मोटाई के कारण खनिजों का पुनःक्रिस्टलन भी सम्भव होता है ।
  • diverse fabric -- विविध संविन्यास
वह संविन्यास जिसमें क्रिस्टल पट्टिकाएं विभिन्न दिशाओं में स्थित रहती हैं ।
  • dolerite -- डॉलराइट
वह कोई भी असित वर्णी आग्नेय शैल जिसके घटक बिना सूक्ष्मदर्शी की सहायता से निर्धारित नहीं किए जा सकते ।
  • doleritie -- डॉलराइटी
(क) डॉलराइट की प्रकृति वाला ।
(ख) ऑफिटिक गठन का समानार्थी ।
  • dolomite -- डोलोमाइट
(क) कैल्सियम मैग्नीशियम कार्बोनेट से संघटित सफेद से लेकर गुलाबी रंग का एक खनिज CaMg (CO3)2 । इसके क्रिस्टल, त्रिसमनताक्ष (rhombohedral) होते हैं ।
(ख) वह शैल जो संघटन में डोलोमाइट खनिज के निकट होता है ।
  • dolomitic limestone -- डोलोमाइटी चूनापत्थर
डोलोमाइट युक्त चुनाश्म (चूनापत्थर) जिसमें MgCO3 की अपेक्षा CaCO3 अत्यधिक प्रचुर मात्रा में विद्यमान होता है ।
  • dolomitisation -- डोलोमाइटी भवन
वह प्रक्रम जिसके द्वारा चूनाश्म में कैल्साइट के स्थान पर डोलोमाइट खनिज प्रतिस्थापित हो जाता है और चूनाश्म डोलोमाइट शैल में परिवर्तित हो जाता है ।
  • dome -- 1. डोम 2. गुम्बद
1. (खनिजिकी) चार फलकों से युक्त एक क्रिस्टलीय रूप जिसका प्रत्येक फलक दो अक्षों को काटता है और तीसरे अक्ष के समान्तर होता है ।
2. एक अपनतिक उत्थान जिसका खाका (प्लान) लगभग वृत्तीय या दीर्घवृत्तीय होता है । इसमें शैल संस्तर किसी बिन्दु से सभी दिशाओं में नत होते हैं ।
  • dormant volcano -- प्रसुप्त ज्वालामुखी
वह ज्वालामुखी जो संदेहास्पद रूप से निष्क्रिय अवस्था में होता है ।
  • drag mark -- कर्ष चिह्र
किसी ठोस पदार्थ के मृदु अवसादी (soft sediment) परत पर घर्षण से उत्पन्न लम्बे, खाँचनुमा रेखा-चिन्ह ।
  • dreikanter -- त्रिकोणक
वायु की क्रिया से घिस कर बनी हुई तीन फलकों वाली गुटिका । यह शुष्क जलवायु जैसे उष्ण व शीत मरूस्थली पर्यावरण का द्योतक है ।
  • drusite structure -- ड्रूसाइट संरचना
आग्नेय शैलों की एक विशेष संरचना अथवा गठन जिसमें खनिजों का संकेन्द्री विन्यास मिलता है । इसमें प्रत्येक खनिज एक परत का निर्माण करता है ।
  • dune -- टिब्बा
वायु द्वारा संचित बालू या अन्य पदार्थ का ढेर जिसका बाह्य आकार पहाड़ी या कटक जैसा होता है ।
  • dunite -- डूनाइट
एक गभीरस्थ, स्थूल कणिक तथा अत्यल्पसिलिक शैल जो कि प्रायः पूर्ण रूप से ऑलीविन से निर्मित होता है । इसमें क्रोमाइट रूप से प्रायः सदा विद्यमान रहता है ।
  • dyke -- 1. डाइक 2. भित्ति
देखिए : ‘dike’
  • dynamic metamorphism -- गतिक कायांतरण
बलकृत प्रतिबल (mechanical Stress) से घटित कायांतरण जिसमें तापमान का कोई महत्व नहीं होता ।
  • eclogite -- एक्लोजाइट
एक असाधारण रूप से भारी, स्थूलकणिक आग्नेय शैल जो हरे पाइरॉक्सीन, लाल गार्नेट तथा गौण मात्रा में कुछ अन्य खनिजों से युक्त होता है । इस शैल की उत्पत्ति संदेहास्पद है परंतु खनिज समुच्चय तथा अन्य शैलों के साथ इसके क्षेत्रीय संबंधों से यह प्रतीत होता है कि इसका क्रिस्टलन उच्च ताप तथा अत्यन्त उच्च दाब के प्रभाव में घटित हुआ होगा ।
  • eclogite facies -- एक्लोजाइट संलक्षणी
कायांतरित खनिज संघटन का एक समुच्चय जिसमें अधिसिलिक शैलों का प्रतिनिधित्व ओम्फेसाइट पाइरॉक्सीन और अलमन्डाइन पाइरोगार्नेट करते हैं । सामान्यतः इसमें पाइरोप, ऑलिवीन, डायोबसाइड, एन्सटाटाइट खनिज विद्यमान रहते हैं । इस प्रकार के उच्च घनत्व वाले खनिजों की उत्पत्ति परिवर्तनशील उच्च दाव व तापक्रम पर क्रिस्टलन से होती है ।
  • effusion -- निःसरण
ज्वालामुखी विज्ञान में, मुख अथवा विदर से द्रव, लावा या ज्वालामुखी पदार्थों के बाहर निकलने का प्रक्रम ।
  • effusive rocks -- निःसृत शैल
भूपृष्ठ पर बहिःक्षिप्त मैग्माओं या मैग्मीय पदार्थों से व्युत्पन्न आग्नेय शैल ।
  • eikanter (einkanter) -- आइकांटेर, एककोणक
वायु द्वारा घिसा हुआ पत्थर जिसमें वातोढ़ बालू के घर्षण से केवल एक फलक बना होता है ।
  • ejecta -- निष्कासित पदार्थ, इजेक्टा
ज्वालामुखी से बाहर निकले हुए पदार्थ जैसे राख, लैपिली तथा बम आदि ।
  • embryonic volcano -- प्रारम्भिक ज्वालामुखी
स्वाबिया तथा स्कॉटलैण्ड में मलवा से भरे कुछ ज्वालामुखीय नाल जिनकी सतह से किसी भी ज्वालामुखी क्रिया की अभिव्यक्ति नहीं होती और वे किसी सतही विस्फोट से व्युत्पन्न समझे समझे जाते हैं ।
  • enclave -- प्रांतर्वेंश
आग्नेय शैलों में अन्तर्विष्ट (interealated) सभी प्रकार के शैल-खण्डों के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • endogeneous dome -- अंतजाति गुम्बद
वह ज्वालामुखी गुम्बद जो मुख्यतः भीतर से फैल कर बना हो और उसमें प्रवाह (flow) परतों का संकेन्द्री विन्यास विद्यमान रहता है ।
  • endogenic -- अंतर्जनित
उन उपक्रमों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो पृथ्वी के भीतर उत्पन्न होते हैं तथा यह उन शैलों, अयस्क-निक्षेपों और भूमि-रूपों के लिए भी प्रयुक्त होता है जो ऐसे प्रक्रमों से निर्मित होते हैं ।
  • endomorphism -- अंतःरूपांतरण
संस्पर्श कायान्तरण की वह प्रावस्था जिसमें स्थानीय शैलों की अपेक्षा अन्तर्वेधी आग्नेय शैलों में ही पूर्ण एवं आंशिक स्वांगीकरण के कारण खनिज परिवर्तन होते हैं ।
  • endosmotic metamorphism -- अंतःपरासरणी कायांतरण
मैग्मा से परिबद्ध (enclosed) शैलों के स्वांगीकरण (assimilation) एवं अन्तःपरासरण से प्रतिफलित कायान्तरण की एक प्रक्रिया ।
  • eolian (aeolian) -- वायूढ, वायुकृत
देखिए : ‘aeolian’
  • eolian rock -- वायूढ शैल
वह शैल जो वायु की क्रिया द्वारा निर्मित या निक्षेपित हुआ हो ।
  • epidiorite -- एपिडाइओराइट
एक डायाबेसिक, डोलेराइटी या बेसाल्टी शैल जिसमें औजाइट, हॉर्नब्लेण्ड में परिवर्तित हो चुका होता है, जिससे शैल का संघटन डायोराइट के सन्निकट हो जाता है ।
  • epidote -- एपिडोट
एक खनिज Ca2 (Al Fe)3 (SiO4)8 (OH) जो एकनताक्ष समुदाय में क्रिस्टलित होता है और कायान्तरित शैलों में सामान्य रूप से पाया जाता है ।
  • epidote-amphibolite facies -- एपीडोट-एम्फिबोलाइट संलक्षणी
देखिए : ‘albite epidote amphibolite facies’
  • epigene -- अधिपृष्ठजन
पृथ्वी की सतह पर या उसके निकट घटित होने वाले भूवैज्ञानिक प्रक्रमों और इन प्रक्रमों के उत्पादों के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • epigenesis -- पश्चजनन
उन खनिजों के निर्माण की क्रिया के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो स्थानीय शैलों के बाद निर्मित हुए ।
  • epimagma -- अधिमैग्मा
वह शीतलित, विगैसित और अंशतः क्रिस्टलित, उच्चतापीय मैग्मा जिसकी गाढ़ता अर्ध ठोस, पेस्टी और चीज़ जैसी होती है ।
  • epimagmatic -- एपिमैग्मेटिक/अधिमैग्मीय
आग्नेय शैलों के निर्माण में पश्चमैग्मीय (late magmatic) प्रावस्था के प्रक्रमों और उत्पादों के लिए प्रयुक्त शब्द ।
  • epimetamorphism -- उपरिकायान्तरण
भूपर्पटी के ऊपरी भाग में कायान्तरण की वह प्रक्रिया जो सामान्य ताप, दाब व अत्यधिक जल की उपस्थिति में घटित होती हैं ।
  • epiphysis -- अधिप्रवर्ध, एपिफिसिस
देखिए : ‘apophysis’
  • epithermal -- अल्पतापीय
उन अयस्क-निक्षेपों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो आरोही (ascending) तप्त विलयनों से निक्षेपण द्वारा शैलों के विदरों या छिद्रों में कम गहराई पर निर्मित होते हैं ।
  • epixenolith -- उपरिअपराश्म
वह अपराश्म जिसकी व्युत्पत्ति संलग्न मित्ति शैल से होती है ।
  • epizone -- उपरिमंडल
कायान्तरण का ऊपरी क्षेत्र । इसकी भौतिक अवस्था की विशेषता यह है कि इसमें ताप और द्रवस्थैतिक दाब क्रमशः मध्यम और कम होते हैं और प्रतिबल (stress) बहुत अधिक । इस मण्डल में निर्मित होने वाले शैल अभिलक्षणिक रूप से माइलोनाइट तथा अपदलनी कायान्तरिक (cataclastic) शैल यथा-फाइलाइट, क्लोराइट शिस्ट, टाल्क-शिस्ट और अंशतः संगमरमर एवं क्वार्ट जाइट होते हैं ।
  • equigranular -- समकणिक
उन शैलों के गठन के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिनके सभी अनिवार्य खनिज एक ही साइज-क्रम के होते हैं ।
  • erosion -- अपरदन
प्राकृतिक कारकों द्वारा भू-पर्पटी के पदार्थों का घिसना और उनका अपनयन (removal) । इसके अन्तर्गत सामान्यतः अपक्षयण, संरक्षण, संक्षारण एवं परिवहन आदि प्रक्रम सम्मिलित किए जाते हैं । जिन कारकों से घिसने क्रिया प्रतिफलित होती है उनमें प्रवाही जल, लहरें, गतिमान बर्फ और वायु-धाराएं मुख्य हैं ।
  • eruption -- उद्गार, विस्फोट, उद्भेदन
पृथ्वी की सतह पर किसी ज्वालामुखी द्वारा लावा, राख आदि का या किसी गाइजर द्वारा पानी और पंक का निष्कासन । उद्गार न्यूनाधिक रूप से सहसा, प्रचण्ड और विस्फोटक होते हैं ।
  • eruptive rocks -- उद्गारी शैल
वे शैल जो द्रवीभूत मैग्मा से बने हों और जो या तो पुराने शैलों में अन्तर्वेधित हो गए हों या भू-पृष्ठ पर बहिःक्षिप्त होकर आ गए हों ।
  • eucrystalline -- सुक्रिस्टलीय
उन आग्नेय शैलों (यथा-ग्रेनाइट) के गठन से संबंधित एक शब्द जो भलीभांति क्रिस्टलित होते हैं ।
  • euhedral -- पूर्णफलकी
देखिए : ‘automorphic’
  • eutectic -- गलन क्रांतिक
मैग्मा में घटकों के उस स्थायी अनुपात के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिसमें दो घटक साथ-साथ क्रिस्टलित होते हैं ।
  • eutectic point -- गलन क्रांतिक बिन्दु
वह निम्नतम तापमान जिस पर गलन क्रांतिक मिश्रण पिघलता है ।
  • eutectic mixture -- गलन क्रांतिक मिश्रण
दो या अधिक खनिजों का निश्चित अनुपात में विविक्त (discrete) मिश्रण जो अपने अवयवों के पारस्पारिक विलयन से एक ही समय क्रिस्टलित हुए हों ।
  • eutectic texture -- गलन क्रांतिक गठन
वह गठन जिसमें दो या अधिक खनिज प्रावस्थाओं का एक साथ क्रिस्टलीकरण हुआ हो, जिसके फलस्वरूप खनिजों की अन्तःवृद्धि निश्चित अनुपात में होती है ।
  • eutectite -- यूटेक्टाइट
वह शैल जो आग्नेय तंत्र के एक बड़े भाग के संपिडन के बाद अवशिष्ट मैग्मा के क्रिस्टलन से निर्मित होता है । ऐसे अवशेष प्रायः निम्न गलनांक व वाष्पशील अवयवों से युक्त होते हैं ।
  • exfoliation -- अपशल्कन
भौतिक या रासायनिक बलों की क्रिया द्वारा, अनावृत शैल पृष्ठों से पतले शल्कों (scales), पटलिकाओं और संकेन्द्री परतों का टूटना या अलग होना ।
  • exogenetic -- बहिर्जनिक
पृथ्वी की सतह पर या उसके निकट उत्पन्न होने वाले सक्रिय प्रक्रमों या इन प्रक्रमों से विकसित पदार्थों जैसे-शैल, अयस्क-निक्षेप अथवा भूआकृतियों से संबंधित । इन प्रत्रमों के अन्तर्गत सामान्यतः अपक्षयण, अनाच्छादन, निम्नीभवन और निक्षेपण आदि क्रियाएं सम्मिलित होती है ।
  • exomorphism -- बाहयांतरण
संस्पर्श कायान्तरण की वह प्रावस्था (phase) जिसमें आग्नेय अन्तर्वेधी शैलों की अपेक्षा स्थानीय शैलों (country rock) में खनिज परिवर्तन होते हैं ।
  • exomigmatization -- बाहयमिग्मेटीकरण
वह प्रक्रिया जिसमें गतिशील पदार्थों की उत्पत्ति शैल के बाहरी हिस्सों में मिग्मेटीकरण के फलस्वरूप होती है ।
  • exosmotic metamorphism -- बहिःपरासरणी कायांतरण
कायान्तरण की वह प्रक्रिया जिसमें मैग्मा से निकला हुआ पदार्थ स्थानीय शैलों के साथ मिश्रित हो जाता है ।
  • expansion texture -- प्रसार गठन
पॉर्फिराइटी शैलों का वह गठन जिसमें विकासशील लक्ष्यक्रिस्टल अपने सतत प्रसार से आधात्री के माइक्रोलाइटों को पृथक किए रहते हैं ।
  • exsolution -- अपविलयन
किसी समांगी खनिज का एक बहुप्रावस्थीय (polyphase) अन्तर्वृद्धि में रूपान्तरण ।
  • exsolution texture -- अपविलयन गठन
खनिज समुच्चय का गठन अथवा उसमें अन्तर्वृद्धि जो अपविलयन के प्रभाव में हुआ हो ।
  • extinction angle -- विलोप-कोण
खनिजों के सूक्ष्मदर्शीय अध्ययन में क्रासित निकॉल स्थिति के अन्तर्गत असमदैशिक खनिजों के किसी क्रिस्टल संरचनात्मक दिशा तथा प्रकाशिक दिशा के बीच का कोण जिसमें खनिज अधिकतम अंधेरे की स्थिति में आ जाता है ।
  • extrusive -- बहिर्वेधी
(क) भू-पृष्ठ पर गलित अवस्था में फेके गए आग्नेय पदार्थों और ज्वालामुखी-द्वारों से निःसृत सभी आमापों के खण्डमय पदार्थ से संबंधित, जैसे लावा के स्तर और टफ संस्तर ।
(ख) बहिर्वेधित शैल या पिंड ।
  • extrusive rock -- बहिर्वेधी शैल
भूपृष्ठ पर बहिःक्षिप्त मैग्माओं या मैग्मीय पदार्थों से व्युत्पन्न आग्नेय शैल ।
  • fabric -- संविन्यास
शैल-गठन का वह भाग जो उसके घटकों के आकार तथा विन्यास पर निर्भर करता है; जबकि गठन, क्रिस्टलता, कणिकता तथा संविन्यास पर निर्भर माना जाता है ।
  • fabric analysis -- संविन्यास विश्लेषण
किसी शैल की आन्तरिक संरचना या संविन्यास का अध्ययन जिसका उद्देश्य शैल विरुपण (deformation) के इतिहास का ज्ञान प्राप्त करना है ।
  • facies -- संलक्षणी
यह शब्द विभिन्न अर्थों में प्रयुक्त होता है इसलिए इसकी परिभाषा देना कठिन है । सामान्यतः संलक्षणी शब्द किसी भू-द्रव्य संहति के उस पहलू या रूप को लक्षित करता है जो अपने आस-पास के पदार्थ से एक या अनेक रूपों में भिन्न होता है । जिन लक्षणों के आधार पर संलक्षणियों का नामकरण किया जाता है या उन्हें पहचाना जाता है वे सामान्यतः न्यूनाधिक रूप से स्वेच्छापूर्वक चुने जाते हैं और वे या तो आश्मिक (अश्म-संलक्षणी) होते हैं या जैविक (जैवसंलक्षणी) ।
  • false gossan -- आभासी गॉजन
फेरिक ऑक्साइड या फेरिक हाइड्रोऑक्साइड का निक्षेप (deposit) जो किसी समृद्ध अयस्क के ऊपर स्थित नहीं होता । यह ऑक्सीभूत मण्डल (zone) से विस्थापित (displacement) होकर किसी अन्य स्थान पर अवक्षेपित हो जाता है ।
  • fanglomerate -- संपंखाश्म
संपंखाश्म ऐसे विषमांग पदार्थों से निर्मित होते हैं जो मूल रूप से पहले किसी जलोढ पंख में निक्षेपित थे, परन्तु निक्षेपण के बाद वे ठोस शैल के रूप में सीमेंटित (संयोजित) हो गए ।
  • fascicular texture -- पूलीय गठन
पंखाकार तथा पुलिंदों के आकार में माइक्रोलाइटों के समुच्चय द्वारा निर्मित गठन ।
  • fault breccia -- भ्रंश संकोणाश्म
ऐसे कोणीय खण्डों से निर्मित शैल जो भ्रंश से संबद्ध शैलस्तरों के संचलन के फलस्वरूप निर्मित होते हैं ।
  • felsic -- फेल्सिक
फेल्सपार, फेल्डस्पेथाइड तथा सिलिका में से किसी एक अथवा अधिक खनिजों की प्रचुरता वाले शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • felsiphyric texture -- फेल्सीफायरिक गठन
पॉर्फिराइटी शैल का वह गठन जिसमें आधात्री गूढ़क्रिस्टलीय होती है ।
  • felsite -- फेल्साइट
हल्के रंग का एक आग्नेय शैल जिसमें सुस्पष्ट क्रिस्टल बहुत कम होते हैं अथवा बिल्कुल नहीं होते । इसकी आधात्रिका ऐसे सूक्ष्मतः क्रिस्टलीय खनिजों तथा कांच से बनी होती है कि उनका निष्चयन बिना लेन्स की सहायता से नहीं किया जा सकता ।
  • felsoblastic texture -- फेल्सोब्लास्टिक गठन
फेल्साइट शिस्ट में पाया जाने वाला गठन जिसमें सूक्ष्मकणिक खनिजों के समुच्चय के साथ-साथ बायोटाइट के पत्रक बिखरे रहते हैं ।
  • felsoclastic texture -- फेल्सपारी खंडज गठन
मुख्यतः सूक्ष्मकणिक खंडजों द्वारा निर्मित फेल्साइट शिस्ट का एक गठन ।
  • felsophyre -- फेल्सोफायर
पॉर्फिराइटी फेल्साइट का सामान्य नाम ।
  • felsophyric -- फेल्सोफायरिक
फैल्साइटी आधात्री वाले पॉर्फिराइटी शैल के गठन के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • femic -- फेमिक
अंग्रेजी में “फेरम” तथा “मैग्नीशियम” के आदि अक्षरों को मिला कर एक गढ़ा हुआ शब्द जो आग्नेय शैलों के C.I.P.W. वर्गीकरण-तंत्र में किसी शैल के नॉर्म में उन खनिजों के लिए प्रयुक्त किया जाता है जिनमें लोहा, मैग्नीशिया अथवा कैल्सियमकी प्रचुरता होती है, जैसे डायोप्साइड, हाइपरस्थीन, ऑलिवीन तथा लोह ऑक्साइड ।
  • field geology -- क्षेत्र भूविज्ञान
प्रयोगशाला से बाहर, क्षेत्र में प्रायोगिक भूवैज्ञानिक कार्य ।
  • filling deposits -- पूरक निक्षेप
गुहिकाओं को भरने वाले निक्षेप ।
  • fine-grained -- सूक्ष्मकर्णिक, सूक्ष्मकणीय
1 मिoमीo औसत साइज से छोटे कणों से निर्मित शैलों के लिए प्रयुक्त शब्द ।
  • fire clay -- अग्निसह मिट्टी
बिना परिवर्तित हुए, बहुत अधिक ऊष्मा को सहन करने में समर्थ कोई भी मृत्तिका ।
  • fish bed -- मत्स्य संस्तर
वह निक्षेप जिसमें मत्स्य जीवाश्मों की प्रचुरता होती है ।
  • fissure -- विदर
शैलों में एक दरार, भंग या विभंग जिसमें उनकी दीवारें स्पष्ट रूप से अलग-अलग हो जाती हैं । विदर खनिज-पदार्थों से भरे जा सकते हैं परन्तु मूल दीवारें सीधे संपर्क में नहीं आती ।
  • fissure eruption -- विदर उद्गार
किसी दीर्घ दरार से उत्पन्न ज्वालामुखी उद्गार ।
  • fissure vein -- विदर-शिरा
विदर-शिरा एक वह सपाट अयस्क-पिंड है जो एक या अधिक विदरों को घेरे रहता है । इसकी दो विमाएं (dimensions) तीसरी से बहुत बड़ी होती है । विदर शिराएं सभी प्रकार के गुहिका-भरणों में सर्वाधिक महत्वपूर्ण हैं और विस्तृत रूप से पाई जाती हैं तथा उनसे अनेक प्रकार के खनिज और धातुएं उपलब्ध होती हैं, इनकी छः किस्में होती हैं-सरल, मिश्र, श्रृंखलित, चादरित, विस्फारित तथा कक्षमय, जिनमें से प्रत्येक संस्थूल या पर्पटित हो सकती है ।
  • flagstone -- पटियाश्म, पटिया पत्थर
पतले संस्तरों वाला प्रायः मृण्मय बलुआपत्थर ।
  • flaky structure -- पत्रक संरचना
कायान्तरित शैलों में विद्यमान एक संरचना जिसमें मुख्यतः माइका, क्लोराइट टाल्क इत्यादि पत्रक खनिज विकसित मिलते हैं ।
  • flaser bedding -- रेखित संरचना
बालू ऊर्मिकाओं के द्रोणी (trough) में पंक के वक्राकार लेन्सों द्वारा निर्मित असंतत मसूराकार रेखित संस्तरण ।
  • flaser structure -- रेखित संरचना
ऊमिका क्रॉस संस्तरण जिसमें द्रोणी में पंक प्ररेख (streaks) संरक्षित रहते हैं, किन्तु ये द्रोणी शीर्षों पर अपूर्ण रूप से अथवा बिल्कुल ही नहीं विकसित होते ।
  • flaser structure or texture -- रेखित संरचना या गठन
गतिक कायान्तरण द्वारा किसी शैल में लेन्साकार, परतदार, दानेदार खनिजों से निर्मित संरचनाएं, जिनकी आधात्री विरूपित एवं अतिविक्षत पदार्थों से बनी होती है और इसके कारण शैल में प्रवाही संरचना दिखाई पड़ती है ।
  • flexible sandstone -- लचकदार बलुआपत्थर
एक प्रकार का बलुआपत्थर जिसकी लचक क्वार्ट्ज कणों के अन्तःग्रथन (interlocking) के कारण होती है । यह इटेकोलुमाइट के नाम से भी जाना जाता है और विश्व में बहुत कम स्थानों में मिलता है । भारत में यह हरियाण के चरखी-दादरी स्थानों में पाया जाता है ।
  • flood basalt -- बाढ़ बेसाल्ट/पूर बेसाल्ट
एक विशाल क्षेत्र में फैला हुआ दरार से उद्गीर्ण संयुक्त संचयी बैसाल्टी लावा । ये क्षैतिज या उपक्षैतिज प्रवाह के रूप में होते हैं । उदाहरणार्थ डेकन ट्रैप ।
  • flow breccia -- प्रवाह संकोणाश्म
प्रायः अधिसिलिक संघटन वाला एक प्रकार का लावा-स्तर जिसमें विस्फोटन या प्रवाह्यता से उत्पन्न पिंडित अथवा अंशतः पिंडित खंड लावा के गतिहीन तरल भागों द्वारा परस्पर जुड़ या संयोजित हो गए हैं ।
  • flow texture -- प्रवाह गठन
एक ऐसा गठन जो सूक्ष्मकणिक तथा काचीय आग्नेय शैलों में पाया जाता है । इस गठन में चपटे या प्रिज्मीय खनिज स्तरित प्रवाह अथवा प्रवाह-रेखाओं के प्रभाव से तरंगित या भंवरदार चित्राम (pattern) बनाते हैं ।
  • fluid cast -- तरल संचक
शैलों के संस्तरण पृष्ठों पर पाई जाने वाली चमकीली गोलाकार अथवा अण्डाकार संरचना ।
  • fluvial deposit -- नदीय निक्षेप
नदियों या अपेक्षाकृत बड़ी सरिताओं द्वारा निक्षेपित अवसादी निक्षेप ।
  • fluvio-glacial -- सरिताहिमी
हिमनदी से बहने वाली सरिताओं से संबंधित अथवा इस प्रकार की सरिताओं द्वारा निर्मित निक्षेपों से संबंधित ।
  • fluvio-marine -- नद-समुद्री, नद सागरी
नदी और समुद्र की संयुक्त क्रिया से निर्मित यथाः-नदियों के मुहानों के निक्षेप ।
  • fluvio-terrestrial -- नदस्थलीय
स्थल तथा अलवण जलराशियों (freshwater) से संबंधित ।
  • flysch -- फ्लिश
मुख्यतः किसी पर्वतनिक समुद्री शैल-संहति से संबद्ध एक टेक्टोफेसीज जो प्रायः मार्ल तथा शेलमय अवसादों और कभी-कभी गोलाश्मों तथा कुछ आग्नेय शैलों से निर्मित होता है ।
  • foliated structure -- शल्कित संरचना
शैलों में विद्यमान एक ऐसी संरचना जो पतली-पतली पट्टियों या पत्रकों द्वारा निर्मित होती है । इस शब्द का प्रयोग क्रिस्टलीय शिस्ट का वर्णन करने के लिए किया जाता है जिसमें खनिज इत्यादि समानांतर, तरंगिल या पतली पट्टियों के रूप में व्यवस्थित होते हैं ।
  • foliation -- शल्कन
कायान्तरित शैलों में विद्यमान विदलन (cleavage) या शिस्टाभता (schistosity) जैसी समतलीय संरचनाओं को वर्णित करने के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • foredeep -- अग्रगभीर
(क) एक लम्बा, संकीर्ण अन्तःसमुद्री अवनमन (गर्त) जो महासागर की तली के अधोवलन या अधोभ्रंशन के फलस्वरूप बनता है । इस प्रकार के अधिकांश अग्रगभीर ज्वालामुखी द्वीप-चापों के उत्तल पार्श्व के निकट स्थित होते हैं ।
(ख) अल्पतः भिन्न अर्थ में इस शब्द का अभिप्राय एक लम्बे तथा संकरे विवर्तनिक गत से भी है जो एक ऐसी पट्टी (belt) के साथ संलग्न रहता है जहां पर्वत-निर्माण का प्रक्रम चलता रहता है । इस अर्थ में अग्र गभीर का तात्पर्य यह होता है कि वह अपने निकट उठ रहे पर्वतों की तलछटों से बड़ी तेजी से भरा जा रहा है और सदा तो नहीं पर सामान्यतः पानी से ढका रहता है ।
  • foreland -- अग्रभूमि
(क) समुद्र के भीतर निकला हुआ भूमि का एक न्यूनाधिक रूप से बृहत् क्षेत्र ।
(ख) वलित पर्वत श्रेणियों में तीन भाग स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ते हैं ।
(1) दृढ़ भाग जिस पर वलन क्रिया का कोई प्रभाव नहीं पड़ता ।
(2) वलित होने वाला भाग ।
(3) वह भाग जहां वलन क्रिया का प्रभाव बहुत कम हो जाता है और अन्ततोगत्वा वह भ्रंशन के रूप में समाप्त हो जाता है । पर्वत श्रेणी का वह पार्श्व जिस तरफ प्रतिवलन (overturned folds) झुके होते हैं, अग्रभूमि कहलाता है जो कि या तो अवलित संहति हो सकती है या ह्रासमान क्रिया-क्षेत्र ।
  • fore-set bed -- डेल्टाग्रनत संस्तर
डेल्टा के प्रवण अग्रढाल पर अवसादों के लुढ़कने से निक्षेपित नत परतों की श्रेणी ।
‘bottom-set bed’ तथा ‘top-set bed’ की भी परिभाषा देखें ।
  • foreshore -- तटाग्र, अग्रतट
निम्नतम तथा उच्चतम ज्वार तलों में मध्य निचला तट क्षेत्र ।
  • formation -- शैलसमूह
स्तरिकी (stratigraphy) में यह शब्द उन शैल स्तरों के समुच्चय के लिए प्रयुक्त होता है जिसमें आश्मिक या प्राणिजातीय समानता मिलती है ।
  • framboidal texture -- गुलिका गुच्छ गठन
पाइराइट के सूक्ष्मदर्शीय कणों के समुच्चयों से निर्मित गठन ।
  • fringing reef -- तटीय प्रवाल भिति
वह प्रवाल भित्ति जो तट से संलग्न रहती है । इसमें भित्ति और उस भूमि के बीच जिसके साथ यह संलग्न रहती है, कोई लैगून या खुली जल राशि नहीं होती । यह आमतौर पर एक ऐसी उथली वेदिका के ऊपर निर्मित होती है जो तट रेखा से बाहर की ओर निकली हुई होती है और अत्यधिक निम्न ज्वार के समय अनावृत हो सकती है ।
  • fuller’s earth -- मुल्तानी मिट्टी
मृत्तिका से मिलती-जुलती एक प्रकार की सूक्ष्म मिट्टी जिसमें प्लास्टिकता नहीं होती । इसमें जल तथा मैग्नीशियम की मात्रा निश्चित रूप से अधिक होती है और तेलों तथा वसाओं को विरंजित करने का गुण भी होता है ।
  • fumarole -- वाष्पमुख
ज्वालामुखी क्षेत्रों में एक विवर (छिद्र) जिसमें से भाप, गरम गैस तथा वाष्प या धुआं ज़ोर से या हलके-हलके निकलता रहता है ।
  • furrow -- खांच
हिमनदों या भ्रंशन से निर्मित खरोंच अथवा खांच-चिह्र । इस प्रकार के चिह्र किसी भ्रंश-पृष्ठ पर या उस स्थान पर भी प्रायः दिखाई पड़ते हैं जहाँ से होकर कोई हिमनद संचलित हुआ हो ।
  • gabbro -- गैब्रो
एक स्थूलकणिक आग्नेय शैल जो मुख्यतः कैल्सियममय प्लेजिओक्लेस फेल्डस्पार तथा पाइरॉक्सीन अथवा ऑलिवीन या दोनों से संघटित होता है । मैगनेटाइट, इल्मेनाइट तथा ऐपाटाइट खनिज इस शैल में उपखनिज के रूप में विद्यमाम रहते हैं ।
  • gabbroid -- गैब्रोवत्
गैब्रो सदृश शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • gabbro-pegmatite -- गैब्रो-पेग्माटाइट
स्थूलकणिक गैब्रो का एक प्रकार ।
  • geanticline -- भू-अपनति
किसी अपनति के सामान्य रूप जैसी भू-पर्पटी की एक बृहत् दीर्घ ऊर्ध्वावलि (upwarp) जिससे भू-अभिनति को अवसाद प्राप्त होता है ।
इसे भू-अभिनति का पूरक भाग (counter part) भी कहा जा सकता है ।
  • geochemistry -- भूरसायन
वह विज्ञान जिसमें भू-पर्पटी के रासायनिक संघटन तथा उसके वास्तविक अथवा संभाव्य रासायनिक परिवर्तनों का अध्ययन किया जाता है ।
  • geochronology -- भूकालानुक्रम
पृथ्वी के इतिहास से संबंधित भू-वैज्ञानक समय का अध्ययन तथा इस कार्य के लिए प्रयुक्त कालांकन की एक प्रणाली ।
  • geode -- जियोड
किसी पत्थर में एक ऐसी खोखली ग्रंथिका जो क्रिस्टलों अथवा खनिज पदार्थों से आस्तरित होती है ।
  • geological age -- भूवैज्ञानिक काल
रूढ़ भूवैज्ञानिक काल मापक्रम में निर्दिष्ट किसी फॉसिल जीव की विद्यमानता का समय या किसी विशिष्ट घटना के घटित होने का समय अथवा उसकी अवधि का काल । जिस घटना का काल निर्धारण वर्षों में नहीं किया जा सकता उसे सामान्यतः एक सापेक्ष भूवैज्ञानिक आयु दे दी जाती है ।
  • geological column -- भूविज्ञान-स्तंभ
किसी विशेष स्थान के शैलसमूह अथवा सम्पूर्ण भू-वैज्ञानिक काल या उसके किसी भाग के उपविभाजनों को प्रदर्शित करने वाला एक आरेख ।
  • geological map -- भूवैज्ञानिक मानचित्र
वह मानचित्र जिस पर भूवैज्ञानिक सूचना आलेखित होती है । इसमें शैलसमूहों का वितरण प्रतीकों, प्रतिरूपों या रंगों द्वारा दर्शाया जाता है और वलनों, भ्रंशों तथा खनिज-निक्षेपों आदि को उपयुक्त प्रतीकों द्वारा दिखाया जाता है ।
  • geologist -- भूविज्ञानी
वह व्यक्ति जो भूविज्ञान का ज्ञाता हो या भूविज्ञान के अध्ययन अथवा तत्संबंधी अन्वेषण में लगा हुआ हो ।
  • geology -- भूविज्ञान
वह विज्ञान जिसमें पृथ्वी की उत्पत्ति, संरचना तथा उसके संघटन एवं शैलों द्वारा व्यक्त उस के इतिहास की विवेचना की जाती है । यह विज्ञान उन प्रक्रमों पर भी प्रकाश डालता है जिनसे शैलों में परिवर्तन आते रहते हैं । इसमें अभिनव जीवों के साथ प्रागैतिहासिक जीवों का संबंध तथा उनकी उत्पत्ति और उनके विकास का अध्ययन भी सम्मिलित है । इस विज्ञान के अनेक उपविभाग हैं जिनमें से निम्नलिखित अत्यन्त महत्वपूर्ण हैं-ऐतिहासिक भूविज्ञान, भौतिक भूविज्ञान, आर्थिक भूविज्ञान, संरचनात्मक भूविज्ञान, खनिज विज्ञान, खनन भूविज्ञान, भूआकृति विज्ञान, शैल वर्णना, ज्वालामुखी विज्ञान, स्तरिक भूविज्ञान एवं जीवाश्म विज्ञान ।
  • geosyncline -- भूअभिनति
भूपर्पटी में एक बड़ी तथा लम्बी निम्नावलि (down warp) जिसके पृष्ठ के विस्तार को बीसियों मीलों में नापा जा सकता है और इसमें संचित अवसादों की मोटाई लगभग 30,000 फुट से 40,000 फुट तक हो सकती है । भूअभिनतियों का निर्माण आमतौर पर ग्लोब के अपेक्षतया अधिक ठोस शील्ड-क्षेत्रों या प्लेटफार्मों के बीच अथवा उनके निकट होता है । ये कुछ समुचित संरचनात्मक विकास के साथ व्यापक अपरूपण के स्थल बन सकते हैं और यह बात सर्वमान्य है कि कई बड़े-बड़े पर्वत-तंत्रों का निर्माण संपीडित भूअभिनतिक अवसादों से ही हुआ है ।
  • geotectocline -- भूविवर्तनति, जिओटेक्टोक्लाइन
वह भूअभिनतिक द्रोणी (geosynclinal basin) जिसके नीचे स्थित विवर्तनजन (tectogene) अवसाद की एक मोटी परत से ढका रहता है ।
  • geothermal -- भूतापीय
भूगर्भ की ऊष्मा से संबंधित ।
  • geothermal gradient -- भूतापीय प्रवणता
पृथ्वी में गहराई के साथ-साथ तापमान में वृद्धि की दर ।
  • geothermal metamorphism -- भूतापीय कायांतरण
वह गभीरस्थ (deep seated) स्थैतिक (static) कायान्तरण जो गहराई की ओर लगातार ताप बढ़ने एवं उपरि शैलसमूहों के भार के कारण गहराई में स्थित शैलों को कायांतरित कर देता है ।
  • ghost structure -- कपट संरचना
स्थूल ग्रेनाइट में विद्यमान एक अवशिष्ट संरचना जिसकी पहचान छाया स्तर-विन्यास (ghost stratigraphy) से होती है ।
  • glacial boulder -- हिमनद गोलाश्म
वह गोलाश्म जिसे हिमनद उसके मूल स्थान से कहीं दूर बहा ले जाते हैं ।
  • glacial deposits -- हिमनदीय निक्षेप
हिमनदों द्वारा वाहित या निक्षेपित बजरी, मृत्तिका तथा गोलाश्म की संहतियां जो प्रायः अस्तरित अथवा कुछ परिस्थितियों में स्थूलतः स्तरित होती हैं ।
  • glacio-aqueous -- हिमजलीय
हिम तथा जल की मिली-जुली क्रिया से संबद्ध अथवा उससे परिणत ।
  • glacio-lacustrine -- हिम सरोवरी
हिमनद और सरोवरी परिस्थितियों से संबंधित जैसे किसी हिमनद के उपांतस्थ सरोवरों में, बर्फ के पिघलने से बनी सरिताओं द्वारा निक्षेपित अवसाद ।
  • glass -- काच
मैग्मा का रवाहीन, संपिडित उत्पाद जिससे कुछ शैलों का सम्पूर्ण रूप से निर्माण हो सकता है, जैसे-ऑब्सीडियन या झावां अथवा केवल शैल की आधात्रिका ।
  • glassy -- काचाभ, काच सदृश, काचीय
ज्वालामुखी शैलों में विकसित काचसम गठन के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • glauconite -- ग्लौकोनाइट
अभ्रक से घनिष्टतः संबंधित एक हरे रंग का खनिज जो अनिवार्यतः लोहे तथा पोटैशियम का एक जलीय सिलिकेट होता है । यह खनिज सामान्यतः समुद्री उत्पति के अवसादी शैलों में पाया जाता है । यह संज्ञा उन शैलों को भी दी जाती है जिनमें ग्लौकौनाइट खनिज की प्रचुरता होती है ।
  • glaucophane -- ग्लौकोफेन
एकनतिक ऐम्फिबोल खनिजों में से एक खनिज NaAl (SiO3)2 (FeMg) SiO3 जो कायांतरित शैलों में मिलता है ।
  • glaucophane-schist -- ग्लौकोफेन शिस्ट
एम्फिबोल शिस्ट का एक प्रकार जिसमें हॉर्नब्लेंड के स्थान पर ग्लौकोफेन अत्यधिक मात्रा में मिलता है । इसके अतिरिक्त इन शैलों में क्वार्ट्ज तथा माइका की विभिन्न किस्मों के साथ-साथ एपिडोट भी आवश्यक रूप से उपस्थित रहता है ।
  • glaucophane-schist facies -- ग्लौकोफेन शिस्ट संलक्षणी
वह शैल संलक्षणी जिसका उद्भव उच्च दाब (175Kb) तथा निम्न से मध्य तापमान (250-400° से∘ ग्रे∘ ) पर होता है । यह ब्लू शिस्ट संलक्षणी के समतुल्य है । इस संलक्षणी के अधिकांश शैलों में शिष्टामता नहीं होती । विकलर ने इस संलक्षणी का नाम लासोनाइट ग्लौकोफेन संलक्षणी रखा है ।
  • globulites -- गोल क्रिस्टलाणु
छोटे साइज तथा गोल आकार के क्रिस्टलाणु जो काचीय बहिर्वेधी शैलों में मिलते हैं ।
  • glomerogranular texture -- कणपुंजित गठन
स्थूलकणिक आग्नेय शैलों में एक जैसे खनिजों के (क्वार्टज्-फेल्डस्पार) क्रिस्टलों के संपृथकन से विकसित गठन ।
  • glomeropegmatoidal texture -- पुंजित पेग्मेटाइटी गठन
अभ्रक-पिग्मेटाइट का ऐसा गठन जिसमें अभ्रक पुंजों में मिलता है ।
  • glomeroporphic -- पुंजितपॉर्फिरीय
सभविमी क्रिस्टलों के गुच्छों से निर्मित एक पॉर्फिरिटिक गठन ।
  • glomerophitic -- पुंजितऑफिटिक
बेसाल्ट डोलेराइट का एक विशेष गठन जिसमें स्वरूपी प्लेजिओक्लेस पट्टियों के मध्य में पाइरॉक्सीन के लघुकणीय पुंज होते हैं ।
  • glomeroporphyritic -- पुंजित पॉर्फिराइटी
एक या अधिक खनिजों के सुस्पष्ट एवं सघन गुच्छों का पॉर्फिराइटी गठन ।
  • gneiss -- नाइस
अनियमित रूप से पट्टित एक कायान्तरित शैल जिसमें अभ्रकी खनिजों की अपेक्षा क्वार्ट्ज और फेल्डस्पार खनिजों की अतिप्रचुरता होने के कारण शिस्टाभता (schistosity) कुछ अल्प सी रहती है । यह शैल उच्च कोटी के प्रादेशिक कायान्तरण के फलस्वरूप निर्मित होता है ।
  • gneissic -- नाइसी
नाइस सदृश्य या उसके लक्षणों से युक्त ।
  • gneiss banding -- नाइसी पट्टन
कायान्तरित व आग्नेय शैलों में विद्यमान एक संरचना जो कि सुस्पष्ट, आश्मिक (lithological) इकाइयों, समानान्तर परतों, रेखाओं व लेंटीकल के एकान्तरण (alternating) से निर्मित होती है ।
  • gneissose structure -- नाइसी संरचना
कायान्तरित शैलों में (मुख्यतः नाइसी) सिलिसिक और मैफिक खनिज अवयवों के एकान्तरण परतों से निर्मित स्थूल संरेखण-गठन या पट्टाभ संरचना ।
  • gondite -- गोन्डाइट
गार्नेट (स्पेसार्टाइट) तथा क्वार्टज् से युक्त एक कायांतरित शैल । इस शैल का नामकरण गोन्ड जनजाति से किया गया है ।
  • Gondwanaland -- गोंडवाना महाखंड
अतीत भूवैज्ञानिक काल में दक्षिणी गोलार्ध में स्थित एक परिकल्पित बृहत् महाद्वीप जिसके विखण्डित होने से वर्तमान दक्षिणी अमरीका, अफ्रीका, अरब प्रायद्वीप, भारत, आस्ट्रेलिया तथा अन्टार्कटिका का निर्माण हुआ ।
  • gorge -- गाँर्ज
एक छोटी तंग गहरी घाटी जिसके दोनों ओर की शैल-भित्तियां ऊर्ध्वाधर (vertical) होती हैं ।
  • gossan -- गोज़न
सल्फाइड खनिजों की शिराओं अथवा उसके शिरा-निक्षेपों का ऑक्सीभूत ऊपरी भाग ।
  • gradation -- 1. तल संतुलन 2. श्रेणीकरण, क्रमण
1. भूमि की किसी सतह का या किसी सरिता की तली का प्रवाही जल के द्वारा अपरदन, परिवहन तथा निक्षेपण से संतुलित तल की स्थिति में आने का प्रक्रम ।
2. अवसादन और खण्डमय उत्पादों के संदर्भ में इस शब्द का आशय उन विभिन्न आकार के कणों की बारंबारता बंटन से है जिनसे अवसाद, मृदा या अन्य विशिष्ट पदार्थ बनते हैं ।
  • grade of metamorphism -- कायांतरण कोटि
कायांतरण तीव्रता की अवस्था जिसका माप मूल शैल पर पड़े दाब एवं ताप से प्रभावित खनिज परिवर्तन को सुस्पष्ट करता है ।
  • graded -- 1. तल-संतुलित 2. श्रेणीकृत
1. इस शब्द का प्रयोग उस सरिता के लिए किया जाता है जो अपने द्वारा निर्मित ढाल पर बहती है और उसमें यह ढाल केवल इतना होता है कि उसके ऊपर से नदोढक मात्र ले जाया जा सकता है । यद्यपि तलसंतुलित सरिता में अपरदन और निक्षेपण दोनों ही पाए जा सकते हैं परन्तु ये दोनों सुसंतुलित होते हैं जिससे तली के ढाल का सामान्य संतुलन बना रहता है ।
2. उन पदार्थों के सन्दर्भ में जो कणों में विभक्त हैं या जिन्हें कणों में विभाजित किया जा सकता है, इस शब्द के दो अर्थ हैं । दोनों ही अर्थ सामान्य प्रयोग के हैं परन्तु विपरीतार्थक हैं ।
(क) (भूविज्ञान) अनिवार्यतः एक समान साइज वाले कणों से निर्मित ।
(ख) (इंजीनियरी) अनेक साइजों के कणों से निर्मित ।
  • graded bedding -- क्रमिक संस्तरण
एक प्रकार का स्तरण जिसमें प्रत्येक स्तर में नीचे से स्थूल कणों वाले पदार्थों से लेकर ऊपर की ओर सूक्ष्म कण-प्रमाप के पदार्थों का एक क्रमण प्रदर्शित होता है ।
  • graded sediment -- क्रमिक अवसाद
(क) भूविज्ञान में इसका आशय उस अवसाद से है जो मुख्य रूप से एक ही प्रमाप-परास के कणों से बना हुआ हो ।
(ख) इंजीनियरी में इस शब्द का आशय उस अवसाद से है जिसमें स्थूल से लेकर सूक्ष्म कणों का एक समान या सम वितरण हो ।
  • gradient -- प्रवणता, ग्रेडिएन्ट
किसी ढाल का झुकाव जैसे किसी नदी की तली का या गिरिपार्श्व का । इसे भिन्न, प्रतिशत या कोणों में व्यक्त किया जाता है ।
  • grain size -- कण-साइज़
इस शब्द का संबंध शैल अथवा अवसाद को निर्माण करने वाले खनिज-कणों के साइज से है ।
  • granite -- ग्रेनाइट
मुख्यतः क्षारीय फेल्डस्पार तथा क्वार्ट्ज् से निर्मित एक स्थूलकणिक आग्नेय शैल जिसमें अल्प मात्रा में सोडा-प्लैजिओक्लेस (प्रायः ऑलिगोक्लेज) सामान्य रूप से मिलता है । मैफिक खनिजों के रूप में इसमें मस्कोवाइट, बायोटाइट, हॉर्नब्लेन्ड या यदाकदा पॉइरॉक्सीन खनिज भी विद्यमान हो सकते हैं ।
  • granite-gneiss -- ग्रेनाइट-नाइस
ग्रेनाइटी संघठन का स्थूल रूप से क्रिस्टलित, पट्टीदार, कायान्तरी शैल ।
  • granite-porphyry -- ग्रेनाइट पॉफिरी
पूर्ण क्रिस्टलीय अधिवितलीय पॉर्फिराइटी ग्रेनाइट ।
  • granitization -- ग्रेनाइटीभवन
पहले से ही विद्यमान किसी शैल में से ग्रैनाइट का निर्माण अर्थात् कायांतरण द्वारा शैल का स्वस्थाने ग्रेनाइट में परिवर्तन (रूपान्तरण) ।
  • granito-trachytic texture -- ग्रेनिटोट्रैकाइटिक गठन
ओफिटिक गठन का पर्यायवाची शब्द ।
  • granitoid -- ग्रेनाइटाभ, ग्रेनिटॉइड
यह शब्द उन पूर्णक्रिस्टली आग्नेय या मैटासोमैटिक शैलों (जैसे ग्रेनाइट) के गठन के लिए प्रयुक्त किया जाता है जिनके घटक अधिकांशतः अफलकीय अथवा अस्वरूपी तथा एक समान साइज के हों ।
  • granoblastic -- कणब्लास्टी, ग्रेनोब्लास्टी
कणिकामय अथवा समविमीय घटकों से संघटित कायांतरित शैलों के गठन के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • granodiorite -- ग्रेनोडाइयोराइट
क्वार्ट्ज् एवं फेल्डस्पार से युक्त स्थूलकणीय वितलीय आग्नेय शैल । इसमें प्लेगिओक्लेज की मात्रा कुल फेल्डस्पार की अपेक्षा आधे से अधिक होती है ।
  • granopatic texture -- ग्रैनोपैटिक गठन
ग्रैनोफाइटिक आधात्री वाला सूक्ष्म पैग्मेटाइटी गठन ।
  • granophyre -- ग्रेनोफायर
क्वार्ट्जपॉर्फिरी अथवा सूक्ष्मकणिक पॉर्फिराइटी ग्रेनाइट । इसमें सूक्ष्मलेखी गठन वाली आधात्रिका (groundmass) इसकी विशेषता होती है ।
  • granophyric texture -- ग्रेनोफायरिक गठन
पॉर्फिराइटी आग्नेय शैलों का गठन जिसमें फेल्डस्पार के लक्ष्य क्रिस्टल क्वार्ट्ज की आधात्री में अन्तर्वेधित रहते हैं ।
  • granular -- दानेदार, कणिकामय, रवेदार, कणिकी
सुस्पष्ट कणों से निर्मित ।
  • granulite facies -- ग्रेनूलाइट संलक्षणी
कायांतरित शैलों की वह संलक्षणी जिसकी उत्पत्ति मध्यम से उच्च दाब एवं उच्च तामपान में होती है । इसके मुख्य खनिज फेल्डस्पार (मुख्यतः परथाइट), सिलिमेनाइट या कायनाइट, एल्मेन्डीन (गार्नेट), कॉर्डिएराइट तथा क्लाइनों एवं आर्थो-पॉइरॉक्सीन होते हैं । इस संलक्षणी में हार्नेब्लेड तथा बायोटाइट स्थायी खनिज होते हैं ।
  • granulite -- कणिकाश्म, ग्रैनुलाइट
क्षारीय फेल्डस्पार, क्वार्टज तथा छोटे-छोटे लाल रंग वाले गार्नेटों से निर्मित एक पट्टीदार कायांतरित शैल ।
  • granulitic texture -- कणिकाश्मी गठन
समान साइज के जेनोब्लास्टिक क्रिस्टलों का अन्तर्ग्रथित (interlocking) गठन ।
  • granulitization -- कणीभवन
पुनः क्रिस्टलन की चरम सीमा पर वह प्रक्रिया जिनमें बड़े क्रिस्टल छोटे छोटे कणों में परिवर्तित हो जाते हैं ।
  • granulose -- दानेदार, कणिकामय
मुख्यतः समविमीय घटकों से निर्मित कायान्तरित शैलों के गठन के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • granulose structure -- कणिकामय संरचना
ग्रेनूलाइट शैलों की वह संरचना जिसमें क्वार्ट्ज, फैल्डस्पार, गार्नेट तथा पॉइरॉक्सीन के कण एकान्तर पटटियों या प्ररेखाओं के रूप में स्थूलदर्शी या सूक्ष्मदर्शी पैमाने पर विकसित होते हैं । यह एकान्तरित पटटियां विभिन्न रंगों, गठन या खनिज-संघटन वाली हो सकती हैं परन्तु इसमें कोई विशेष शल्कन (foliation) नहीं होता क्योंकि इसमें पत्रकी (flaky) और प्रिज्मीम खनिज नहीं होते ।
  • graphic granite -- ग्राफिक ग्रेनाइट, आलेखमय ग्रेनाइट
वह ग्रेनाइट जिसमें क्वार्ट्ज व फेल्डस्पार क्रिस्टलों की ग्राफिक अन्तर्वृद्धि होती है ।
  • graphic texture -- आलेखमय गठन
ग्राफिक ग्रेनाइटों द्वारा प्रदर्शित गठन ।
  • gravel -- ग्रेवेल, बजरी
छोटे-छोटे, गोल शैल-खण्डों का एक असंपिडित शैल जो प्राकृतिक कारकों द्वारा शैलों के अपरदन के फलस्वरूप बनता है । इसमें शैल खण्डों का साइज सामान्यतः 2 मिoमीo से लेकर 5 या 8 सेंoमीo के लगभग हो सकता है, जोकि पानी की क्रिया द्वारा घिसने के कारण आमतौर पर गोल हो जाते हैं । ग्रेवैल के निक्षेप सामान्यतः नदियों और पुलिनों के साथ पाए जाते हैं ।
  • gray wacke -- ग्रेवैक
गहरे घूसर रंग का एक प्रकार का बलुआ पत्थर जो क्वार्ट्ज और फेल्डस्पार के उपकोणित से लेकर गोल खण्डों एवं अन्य शैलों के कोणीय खण्डों से निर्मित होता है ।
  • green-schist facies -- हरित शिस्ट संलक्षणी
प्रादेशिक एवं निस्थापन कायान्तरण की विभिन्न कोटियों वाली विस्तृत संलक्षणी जो मध्यम से उच्च दाब तथा निम्नतम ताप पर पुनर्गठित होती है, इसमें हरे रंग के खनिज यथा क्लोराइट, एपीडोट तथा एक्टीनोलाइट अत्यधिक मात्रा में मिलते हैं ।
  • grit -- शितबालुकाश्म, ग्रिट
कोणीय कणों से निर्मित स्थूल बालुकाश्म । इसके कणों की साइज की सीमाएं ठीक-ठीक निर्धारित न होने के कारण यह शब्द आमतौर पर श्रेणी (ग्रेड) शब्दों के मानक पैमानों में सम्मिलित नहीं किया जाता । कुछ ग्रिट इतनी तरह संयोजित होते हैं कि उनका प्रयोग अपघर्षकों के रूप में भी किया जाता है ।
  • gritty -- शितकणी
बालू अथवा शितबालुकाश्म से युक्त या उनसे मिलता-जुलता; शितबालुकाश्म से बना हुआ ।
  • groove (cast) -- खांचा (संच)
गोल अथवा नुकीला, सरल रेखीय कटक (ridge) जिसकी ऊंचाई कुछ मिलीमीटर और लम्बाई कई सेन्टीमीटर होती हैं । यह पंकाश्म के ऊपर निक्षेपित बलुआ पत्थर की निचली सतह पर बनता है ।
  • ground mass -- आधात्री
(क) वह सूक्ष्मकणीय या काचीय पदार्थ जो पॉर्फिराइटी आग्नेय शैलों के लक्ष्यक्रिस्टलों के बीच में पाया जाता है ।
(ख) अवसादी खण्डों के बीच में सूक्ष्मकणीय पदार्थ ।
  • group -- संघ
स्तरिक (stratigraphic) वर्गीकरण की एक इकाई जो आश्मिक लक्षणों पर आधारित किसी शैल निकाय का स्थानीय या प्रादेशिक प्रविभाग होता है । यह आमतौर पर किसी मानक शैल श्रेणी से कम होता है और इसमें दो या अधिक शैलसमूह हो सकते हैं ।
  • half life -- अर्ध आयु
रेडियोएक्टिव पदार्थों में मूलतः विद्यमान परमाणुओं के आधे भाग को विघटित होने के लिए अपेक्षित समय ।
  • heavy minerals -- भारी खनिज
ब्रोमोफॉर्म के आपेक्षिक घनत्व (2.9) से अधिक आपेक्षिक घनत्व वाले खनिज ।
  • helicitic structure -- आकुण्डली संरचना
कायान्तरित शैलों के पॉर्फिरोब्लास्टों में विद्यमान अन्तर्वेशों (inclusion) के आवृत (enclosed) हो जाने के कारण निर्मित आकुण्डली संरचना । यह संरचना आतिथेय (host) खनिज के बनने से पहले ही विद्यमान होती है तथा उसमें परिरक्षित (preserved) रहती है ।
  • helicitic-porphyroblast -- अर्धकुंडली पॉर्फिरोब्लास्ट
अन्तर्वेशों से युक्त पॉर्फिरोब्लास्ट जिसका संविन्यास आतिथेय (host) क्रिस्टलों के बनने से पहले निर्मित हुआ होता है ।
  • hemihedral -- अर्धफलकीय
क्रिस्टल विज्ञान में; किसी क्रिस्टल समुदाय में उस वर्ग के लिए प्रसुक्त एक शब्द जिसके क्रिस्टलों में सभी फलकों के बजाय केवल उसकी आधी संख्या में फलक विकसित होते हैं ।
  • herringbone structure -- हेरिंगबोन संरचना
एक सममितिक रूपी (symmetrical shape) लम्बा, पतला कटक (ridge) जिसके दोनों ओर समान्तर रूप से स्थित ज़ोनों का संघटन भिन्न-भिन्न होता है ।
  • heteroblastic texture -- विषमब्लास्टी गठन
कायान्तरित शैलों का वह गठन जिसमें पुनः क्रिस्टलन के बाद क्रिस्टल कणों का साइज एक समान नहीं रहता ।
  • heterogeneous -- विषमांग, विषमांगी
भिन्न-भिन्न किस्मों वाला; असमान गुणों तथा अलग-अलग लक्षणों से युक्त । समांगी का विलोम ।
  • heterogeneous texture -- विषमांगी गठन
वह शैल-गठन जो शैल के विभिन्न भागों में भिन्न-भिन्न प्रकार का होता है ।
  • heteromorphism -- विषमरूपता
वह प्रक्रम जिसके द्वारा एक समान रासायनिक संघटन के दो मैग्मा भिन्न-भिन्न शीतलन-परिस्थितियों में गुजरने के परिणामस्वरूप दो अलग-अलग खनिज-पुंजों में क्रिस्टलित होते हैं ।
  • hiatus -- प्रांतराल
भूवैज्ञानिक अभिलेख में शैलसमूहों के अनुक्रम में अन्तराल या भंग जो किसी युग विशेष के शैलों की अनुपस्थिति से प्रकट होता है । ऐसा दो कारणों से हो सकता है, या तो अनुपस्थित शैल-स्तर उस अनुक्रम में कभी निक्षेपित ही नहीं हुआ या वह अपने ठीक ऊपर की परत के निक्षेपण के पूर्व ही अपरदित हो गया ।
  • high grade -- उच्चकोटीय
अपेक्षतया अधिक मूल्यवान या अधिक खनिजांश से युक्त अयस्कों के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • histogram -- आयत चित्र
आयताकार चित्रों द्वारा आवृत्ति वितरण का एक ग्राफीय निरूपण जिसमें चौड़ाई की दिशा में वर्ग अन्तराल और लम्बाई की दिशा में संबंधित आवृत्ति को दर्शाया जाता है ।
  • historical geology -- ऐतिहासिक भूविज्ञान
भूविज्ञान की वह शाखा जिसमें पृथ्वी के इतिहास में घटित घटनाओं का कालानुक्रमिक विवरण होता है ।
  • holocrystalline -- पूर्णक्रिस्टली
उन आग्नेय शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो पूर्णतः क्रिस्टलों से बने होते हैं ।
  • holohedral -- पूर्णफलकीय
किसी क्रिस्टल समुदाय में, उस वर्ग के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिसके क्रिस्टलों में फलक अधिकतम संख्या में विकसित होते हैं ।
  • holohyaline -- पूर्णकाचिक
पूर्णरूपेण काँच से निर्मित शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • hololeucocratic -- पूर्णल्पवर्णी
उन आग्नेय शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिनमें अल्पवर्णी खनिज 95 प्रतिशत से अधिक होते हैं ।
  • holomelanocratic -- पूर्णश्यामवर्णी
उन आग्नेय शैलों के लिए प्रसुक्त एक शब्द जिनमें असितवर्णी खनिज 95 प्रतिशत से अधिक होते हैं ।
  • homoblastic texture -- समब्लास्टी गठन
कायान्तरित शैलों का वह गठन जिसमें पुनःक्रिस्टल के बाद क्रिस्टल कणों का साइज एक समान रहता है ।
  • homogeneous rock deformation -- समाँगी शैल विरूपण
देखिए ‘homogeneous strain’
  • homogeneous strain -- समांगी तनाव
ऐसा तनाव जिसके कारण कणों की आपेक्षिक स्थितियों में परिवर्तन तो होता है पर उनकी आकृति एवं अभिविन्यास (orientation) पूर्ववत् रहता है ।
  • homogeneous texture -- समांगी गठन
वह शैल-गठन जो शैल के विभिन्न भागों में एक समान रहता है ।
  • honeycomb structure -- करंड संरचना
शैल में विकसित एक संरचना जो मधु के छत्ते सदृश दिखाई पड़ती है ।
  • honeycomb texture -- करंड गठन
कायान्तरित शैलों का वह गठन जिसमें क्रिस्टलीय कणों का विन्यास मधुकोश या करंड जैसा दिखाई देता है जो कि छोटे क्रिस्टलों के बड़े क्रिस्टलीय कणों द्वारा ढक जाने से घटित होता है ।
  • hornblende-hornfels facies -- हॉर्नब्लेड-हॉर्नफेल्स संलक्षणी
संस्पर्श कायान्तरण की वह संलक्षणी जिसकी विकास निम्नतम द्रव दाब तथा मध्यम से उच्च तापमान पर होता है तथा अल्पसिलिक शैलों में हॉर्नब्लैण्ड तथा प्लेजिओक्लेस का विकसित होना इसकी एक विशेषता है । इसे नीचे की ओर एल्बाइट, एपीडोट, हॉर्नफेल्स संलक्षणी तथा ऊपर की ओर पाइरॉक्सीन हॉर्नफेल्स संलक्षणी से क्रमबद्ध किया जाता है ।
  • hornblende-schist -- हॉनब्लेंड शिस्ट
वह शिस्ट जिसका प्रमुख खनिज हॉर्नब्लेण्ड होता है और प्लेजिओक्लेस तथा यदाकदा क्वार्टज् इसके प्रमुख फेल्सिक घटक होते हैं । इन शैलों में जब शिस्टाभ संरचना विलुप्त रहती है तो यह हॉर्नब्लेण्ड नाइस तथा एम्फ़िबोलाइट में बदल जाता है ।
  • hornfels -- हॉर्नफेल्स
संस्पर्श कायांतरण द्वारा उत्पन्न एक सूक्ष्मकणिक सिलिकेट शैल ।
  • hornfels facies -- हॉनफेल्स संलक्षणी
कायान्तरित शैलों की वह संलक्षणी जो मुख्यतः अल्पसिलिक अन्तर्वेधनों (intrusion) के मण्डल (aureole) में पायी जाती हैं जहां इसका विकास निम्न दाब तथा उच्च तापमान द्वारा नियमित होता है । इसके मुख्य खनिज संघटक प्लेजियोक्लेज, डाइयोपसाइड और हाइपरस्थीन होते हैं । इसे सामान्यतः पाइरॉक्सीन-हार्नफेल्स संलक्षणी या पोटाश फेल्डस्पार-कॉर्डिएराइट-हॉर्नफेल्स संलक्षणी भी कहा जाता है ।
  • host rock -- आतिथेय शैल
वह शैल जो उसमें बने या उसमें निवेशित (introduced) खनिजों से पुराना होता है ।
  • hybrid rock -- संकर शैल
दो मैग्माओं के मिश्रण या अन्तर्वेधी शैल द्वारा आक्रांत शैल के स्वांगीकरण से निर्मित शैल ।
  • hydrodynamic texture -- द्रवगतिक गठन
जल की क्रिया से निर्मित खण्डज (clastic) अवसादी शैलों में एक प्रकार का गठन । इस प्रकार के गठन में निक्षेपण (deposition) से कणों का एक ऐसा त्रिविमीय ढांचा उत्पन्न होता है जिसमें कण परस्पर संस्पर्श रेखीय सम्पर्क में रहते हैं ।
  • hydrothermal deposits -- उष्णजलीय निक्षेप
मैग्मीय तप्त जल से निर्मित (अवक्षेपित) खनिज निक्षेप ।
  • hydrothermal -- उष्णजलीय
तप्त जल (या भाप) से समृद्ध मैग्मीय प्रसर्गों (emanations) तथा परिणामी प्रक्रमों एवं उत्पादों से संबंधित ।
  • hydrothermal metamorphism -- उष्णजलीय कायांतरण
कायान्तरण की वह प्रक्रिया जिसमें उष्णजलीय घोल या गैस निकटवर्ती शैलों के खनिजकीय परिवर्तन में मुख्य भूमिका निभाते हैं । ऐसे घोल प्रायः विभंग तलों से उत्सर्जित होते हैं ।
  • hypabyssal rock -- अधिवितलीय शैल
वे आग्नेय शैल जो मैग्मा के रूप में, वितलीय शैलों की अपेक्षा भू-पृष्ठ के निकट आकर संपिडित हुए जैसे-डाइक और सिल ।
  • hyperleucocratic -- अतिअल्पवर्णी
ऐल्बाइट जैसे मुख्यतः अल्पवर्णी खनिजों से संघटित अधिसिलिक से लेकर अत्यधिसिलिक आग्नेय शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • hypidiomorphic -- अंशस्वरूपिक, अंशस्वरूपी
उन आग्नेय शैलों के गठन के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिनके अधिकांश खनिजघटक केवल अंशतः अपने अभिलक्षणिक क्रिस्टल फलकों से युक्त होते हैं और उनमें स्वरूपी घटक बहुत कम होते हैं ।
  • hypidiomorphic granular texture -- अंशस्वरूपी कणिक गठन
गभीरस्थ शैलों के गठन के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिसमें स्वरूपी क्रिस्टल वाले खनिज बहुत कम होते हैं और अधिकांश घटक अस्वरूपी (allotriomorphic) क्रिस्टल वाले होते हैं ।
  • hypothermal -- अतितापीय
उन उष्ण जलीय उत्पत्ति के अयस्क निक्षेपों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो 300˚C-500˚C के निकट तापमान पर निर्मित होते हैं ।
  • hypoxenolith -- अधः अपराश्म
वह अपराश्म (xenolith) जिसकी व्युत्पत्ति का स्रोत संलग्न भित्ति शैल (wall rock) के बजाय पृथ्वी की गहराइयों में सुदूर (remote) स्थित मैग्मा होता है ।
  • idioblastic -- स्वब्लास्टिक, पुनःस्वक्रिस्टली
आग्नेय शैलों में स्वरूपी गठन के अनुरूप, कायान्तरी शैलों में पाया जाने वाला एक प्रकार का गठन जिसमें खनिज-क्रिस्टल अपने अभिलक्षणिक फलकों से युक्त होते हैं ।
  • idiomorphic -- स्वरूपिक, स्वरूपी
देखिए ‘automorphic’
  • igneous -- आग्नेय
शैलों के तीन बृहत वर्गों में से उस वर्ग के शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो गलित शैलों (मैग्मा) के पिंडन से बनते हैं ।
  • igneous lamination -- आग्नेय स्तरण
वितलीय (plutonic) शैलों में सपाट क्रिस्टलों का समानान्तर विन्यास जैसा कि प्रायः स्तरित जटिल शैल-संघों में देखा जाता है ।
  • igneous rocks -- आग्नेय शैल
गलित मैग्मा के पिंडन (जमने) से निर्मित शैल ।
  • illite -- इलाइट
मृणमय अवसादों में पाया जाने वाला एक खनिज वर्ग जिसमें मस्कोवाइट की क्रिस्टल संरचना अनिवार्य रूप से मिलती है ।
  • imbricate structure -- अन्तर्ग्रथित संरचना, खपरैली संरचना
खण्डज (clastic) अवसादों में प्रदर्शित एक ऐसी संरचना जिसमें संगुटिकाश्म अथवा गुटिकाएं (pebble) एक दूसरे के ऊपर खपरैलों की तरह स्थित रहती हैं ।
  • impact metamorphism -- प्रतिघात कायांतरण
उल्कापिण्डीय प्रतिघात से उत्पन्न कायान्तरण ।
  • impervious -- अप्रवेश्य
अपारगम्य का समानार्थी । यह शब्द उन शैल स्तरों के लिए प्रयुक्त होता है (जैसे मृत्तिका, शेल आदि) जिसमें से होकर जल, पैट्रोलियम या प्राकृतिक गैस गुजर नहीं सकते ।
  • impervious rock -- अप्रवेश्य शैल
इस शब्द का प्रयोग जलविज्ञान में होता है, अप्रवेश्य शैल वे शैल होते हैं जिनके आरपार अधस्तल जल में आमतौर पर पाए जाने वाले दाबों और अवस्थाओं में जल व अन्य द्रव नहीं गुजर सकते । अप्रवेश्य शैल दो प्रकार के हो सकते हैं-सरंध्र शैल जैसे मृत्तिका अथवा असरंध्र शैल जैसे कोई संहत ग्रेनाइट । प्रथम स्थिति में छिद्र इतने छोटे होते हैं कि उनमें से पानी अति मंद केशिका-विसर्पण के अतिरिक्त आरपार गुजर नहीं सकता । पारगम्यता की दृष्टि से यद्यपि छिद्र आवश्यक हैं परन्तु वे काफी बड़े साइज के और परस्पर सम्बद्ध होने चाहिएं ताकि द्रवों को संचलन के लिए मुक्त और अविच्छिन्न मार्ग मिल सके ।
  • impregnation -- संसेचन
ऐसे खनिज निक्षेपों के निर्माण से संबंधित एक उत्पत्ति-मूलक शब्द जिसमें खनिज पश्चजनित होते हैं और आतिथेय शैल में बिखरे रहते हैं ।
  • inclusion -- अन्तर्वेश
(क) खनिज या शैल में परिबद्ध कोई बाहरी गैस, द्रव या ठोस पदार्थ ।
(ख) आग्नेय शैल में परिबद्ध किसी प्राचीनतर शैल का खण्ड ।
  • incompetent -- असमर्थ
संरचनात्मक भूविज्ञान में, यह शब्द उन शैल-संस्तरों के लिए प्रयुक्त होता है जो अपेक्षतया एक प्रकार से दुर्बल होते हैं अथवा वे संलग्न शैलों की अपेक्षा प्रतिबल (stress) को बिना विभंग के प्रेषित करने में बहुत कम समर्थ होते हैं ।
  • incrustation -- पपड़ी, पर्पटी
किसी पिंड के ऊपर या उसके भीतर किसी वस्तु की पपड़ी या कठोर लेप यथा-स्टीम बॉयलर के भीतर चूने का निक्षेप ।
  • index mineral -- सूचक खनिज
कायांतरित शैलों मे, वह खनिज जिसके प्रथम प्रकटीकरण (कायांतरण की निम्न कोटियों से उच्चतर कोटियों में गुजरने के दौरान) से ही कायांतरण मंडल की बाहरी सीमा का संकेत मिल जाता है ।
  • inequigranular -- असमरकणिक
क्रिस्टलीय शैलों का वह गठन जिसमें खनिज-कण विभिन्न प्रमापों के होते हैं ।
  • injection foliation -- अंतःक्षेपण शल्कन
शैल की प्लैस्टिक अवस्थाओं में अन्तःक्षेपण क्रिया के दौरान अत्यधिक दाब के फलस्वरूप विकसित शल्कन ।
  • injection gneiss -- अन्तःक्षेपण नाइस
वह नाइस जिसकी पट्ट रचना पूर्णतः अथवा अंशतः ग्रेनाइटी मैग्माओं के स्तरानुस्तर अन्तःक्षेपण के कारण होती है ।
  • injection metamorphism -- अंतःक्षेपण कायांतरण
परतदार, प्ररेखीय मैग्मा के अन्तःक्षेपण एवं तत्वान्तरण से सम्बद्ध अतिवितलीय अन्तर्वेशी शैलों के सन्निकट विकसित कायान्तरण ।
  • in situ -- स्वस्थाने
अपने ही स्थान में । यह शब्द उन शैलों, मृदाओं और जीवाश्मों के लिए प्रयुक्त होता है जो अपने उसी स्थान पर स्थित रहते हैं जहां वे मूलतः निर्मित या निक्षेपित हुए थे ।
  • intercalated -- अन्तर्विष्ट
यह शब्द ऐसे संस्तरों या परतों के लिए प्रयुक्त होता है जो किसी अन्य विपर्यासी लक्षण की परतों के बीच में स्थित या निविष्ट होती हैं । उदाहरणार्थ-अवसादी शैलों के परतों के बीच लावा की चादरों का समावेशन ।
  • interference ripples -- व्यतिकरण ऊर्मिका
अवसादी निक्षेपों (deposits) में परस्पर लम्बवत् काटते हुए सममितिऊर्मिका चिह्र ।
  • interformational -- अंतरा शैलसमूह
दो शैल समूहों के मध्यस्थ, जैसे अन्तराशैल समूही संगुटिकाश्म, अन्तराशैल समूही विषमविन्यास । इसका विलोभ शब्द है – अन्तः शैलसमूही ।
  • int ergranular (texture) -- अंतराकणिक
एक सूक्ष्मदर्शीय गठन जो पूर्णतः क्रिस्टलीय आग्नेय शैलों यथा-गैब्रो, बेसाल्ट आदि में पाया जाता है । उपर्युक्त शैलों के इस गठन में फेल्डस्पार के प्लेट और लैथ पाइरॉक्सीन के अप-अभिविन्यस्त कणों की आघात्री में स्थित होते है ।
  • interlaced structure -- अंतर्ग्रथित संरचना
शिस्ट में विद्यमान एक प्रकार की सरंचना जिसमें पत्रकी या कणिकीय खनिजों की जालीनुमा संरचना निर्मित होती है ।
  • Intermediate rock -- मध्यसिलिक शैल
उन आग्नेय शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो अधिसिलिक और अल्पसिलिक शैल वर्गों के बीच के होते हैं अर्थात् उनमें सिलिका की मात्रा सामान्य तौर पर 52 प्रतिशत से 65 प्रतिशत तक होती है ।
  • Intersertal -- निविष्टकाची
आग्नेय शैलों में वह सूक्ष्मदर्शी गठन जिसमें अनभिविन्यस्त फेल्डस्पार लेथों के बीच के अंतराकाश, काच अथवा अतिसूक्ष्म क्रिस्टलों से भरे होते हैं और शैल के अधिकांश भाग की रचना फेल्डस्पार क्रिस्टलों से हुई होती है ।
  • intraclast -- अंतः खण्डाश्म
वह चूनीय खण्ड जो अपनी ही द्रोणी (basin) में अपरदन (erosion) से बनता है ।
  • intraformational -- अंतःशैलसमूही
किसी शैल समूह के अंतरंग में स्थित या उसकी विशेषता से युक्त । जैसे अंतः शैलसमूही संगुटिकाश्म । इसका विपरीतार्थक शब्द है अंतराशैलसमूही ।
  • intraformational breccia -- अंतःशैलसमूही संकोणाश्म
किसी शैलसमूह के मध्य में स्थित वह संगुटिकाश्म जो आंशिक रूप से संपिडित स्थानीय अवसादों के टूटे हुए खंडों या बाहरी गुटिकाओं से बनता है ।
  • intraformational conglomerate -- अंतः शैलसमूही संकोणाश्म
एक गुटिकामय निक्षेप जो उन स्तरों के सकमालीनप्राय अपरदन तथा निक्षेपण से बनता है जिनमें वह मिलता है ।
  • intrazonal soil -- अन्तःस्तरी मृदा
एक सुविकसित मृदा जिसका निर्माण जलवायु के अतिरिक्त किसी स्थानीय मृदाकारी कारक से होता है ।
  • intrusion -- अन्तर्वेधन
गतिशील शैल-पदार्थ के पिंड का अन्य शैलों के भीतर या उनके मध्य बलपूर्वक प्रविष्ट अथवा अन्तःस्थापित होने का प्रक्रम । सामान्यतः इस शब्द का अभिप्राय गलित शैल या मैग्मा के प्राचीनतर शैलों में प्रविष्ट होने से है, किन्तु इसका प्रयोग उपरिशायी शैलों में लवण-गुम्बदों के प्लास्टिक अन्तःक्षेपण के लिए भी किया जाता है ।
  • intrusive rocks -- अन्तर्वेधी शैल
वे आग्नेय शैल जो मैग्मा से भूपृष्ठ के नीचे ही नीचे संपिडित हो गए । अन्तर्वेधी शैल अनेक रूपों में मिलते हैं जैसे डाइक, सिल, स्कंध एवं महास्कंध आदि ।
  • isograd -- समलक्षणी रेखा
(क) वह रेखा जो ऐसे बिन्दुओं को जोड़ती है जिस पर कायांतरण समान दाब व ताप की अवस्थाओं में हुआ हो ।
(ख) उन शैलों को मिलाने वाली रेखा जो एक ही प्रकार के संलक्षणी से युक्त हैं-विशेषतया वे शैल जो एक समान कायांतरण कोट पर पहुंच गए हों ।
  • isograde rock -- समलक्षणी शैल
ताप और दाब की अत्यंत समान भौतिक परिस्थितियों में प्रतिफलित शैल ।
  • isomorphism -- समाकृतिकता
एक ही क्रिस्टल समुदाय में क्रिस्टलित दो या अधिक पदार्थों का वह गुणधर्म जिसमें उनका रासायनिक संघटन, अक्षीय (axial) अनुपात और क्रिस्टल आकृतियां समान होती हैं ।
  • isostasy -- समस्थिति
भूपर्पटी के भीतर सन्तुलन की एक ऐसी अनुमानित स्थिति जिसके द्वारा पृथ्वी की बड़ी-बड़ी, ऊंची संहतियों का संधरण पर्पटी की शक्ति के द्वारा न होकर एक भारी प्लैस्टिक अभ्यंतर पर उनके प्लवन द्वारा होता है । यह उसी प्रकार से है जैसे कोई प्लावी हिम, जल में तैरता रहता है ।
  • kaolin -- केओलिन
एक सफेद या लगभग सफेद रंग का मृत्तिका-शैल जो कि अतिफेल्डस्पारी शैलों के अपघटन के फलस्वरूप बनता है । इसे पोर्सलेन का पेस्ट बनाने के काम में लाया जाता है ।
  • kamptomorphic -- नमितरूपी
कायांतरित शैलों में उन खनिओं से संबंधित एक शब्द जिनका रूप या आकार कायांतरण के दौरान बिना टूटे हुए ही परिवर्तित हो जाता है । ऐसे खनिज सामान्यतः मुड़े हुए होते हैं और तरंगी विलोपन दर्शाते हैं ।
  • katazone -- निम्न मंडल
प्रमुखतः अत्यधिक ताप, जल स्थैतिक दाब और अल्प प्रतिबल से युक्त कायांतरण का गभीरतम क्षेत्र ।
  • katamorphism -- निम्न कायांतरण
वह कायांतरण जिसमें जटिल खनिज सरल खनिजों की श्रेणी में परिवर्तित हो जाते हैं ।
  • katamorphic zone -- निम्न कायांतरण ज़ोन
पृथ्वी की पर्पटी में लगभग 12 किलो मीटर की गहराई पर घटित होने वाले कायांतरण का एक क्षेत्र ।
  • keratophyre -- केरैटोफ़ायर
उन ट्रैकाइटी शैलों के लिए प्रयुक्त एक नाम जिनमें अधिकांश लक्ष्यक्रिस्टल (phenocryst) सोडियम फेल्डस्पार होते हैं तथा आधात्री में एलबाइट अथवा फेल्डस्पार एवं द्वितीयक उत्पत्ति के क्लोराइट, एपिडोट और कैल्साइट विद्यमान रहते हैं ; ये सम्भवतः स्पिलाइटी शैलों से सम्बद्ध तथा समुद्री अवमादों के साथ अन्तरास्तरित होते हैं ।
  • khondalite -- खोंडालाइट
वह कायांतरित शैलसमूह जिसमें गार्नेट-क्वार्ट्ज-सिलीमेनाइट (sillimanite) खनिजों के साथ ग्रेफाइट, शिस्ट, क्वार्टजाइट और संगमरमर सम्मलित रहते हैं । इस शैल का नामकरण दक्षिण भारतीय खोण्ड जन जाति से किया गया है ।
  • kimberlite -- किम्बरलाइट
एक पॉर्फिराइटी-पेरिडोटाइट जिसमें रूपांतरित ऑलिवीन और फ्लोगोपाइट के लक्ष्य क्रिस्टलों की प्रधानता होती है तथा आधात्री में सूक्ष्मकणिक कैलसाइट एवं द्वितीयक उद्गम के ऑलिवीन और फ्लोगोपाइट तथा गौण मात्रा में इल्मेनाइट, सरपेन्टीन, क्लोराइट मैग्मेटाइट और पेरोवस्काइट (perovaskite) होते हैं । इस शैंल का नामकरण दक्षिण अफ्रीका के किम्बरले स्थान से किया गया है तथा इसमें प्रायः हीरा विद्यमान होता है ।
  • kinematic differentiation -- शुद्धगतिक विभेदन
मैग्मा संचलन के दौरान उत्पन्न विभेदन जो उस समय घटित होता है जब गलित शैल पदार्थ विभिन्न संघटन वाले गठन की पट्टियों और श्लीरेन (सूत्रिल अंतर्वेश) के रूप में पृथक्कृत हो जाते हैं ।
  • kinetic metamorphism -- गतिजकायांतरण
(क) देखिए ‘cataclastic metamorphism’
(ख) क्षेत्रीय अपरूपण (shearing) के दौरान ताप व दाब के प्रभाव से विकसित कायांतरण का एक प्रकार ।
  • kodurite -- कोडूराइट
एक स्थूल कणिकीय संदिग्ध उत्पत्ति का क्रिस्टलीय शैल जिसमें पोटाश फेल्डस्पार, मैंगनीज, गार्नेट व एपेटाइट होता है । यह शैल भारत के विशाखापटनम क्षेत्र में स्थित कोडूर खान में पाया जाता है ।
  • krithic texture -- क्रिथीक गठन
माइका के पतले पत्रकों से घिरे आर्थोक्लेज के छोटे कणों से निर्मित कायांतरित गठन ।
  • kyanite-sillimanite type facies series -- कायनाइट-सिलीमेनाइट प्ररूप संलक्षणी श्रेणी
एक ऐसी संलक्षणी श्रेणी जिसके पैलाइटी शैलों में कायनाइट सिलीमेनाइट विशेष रूप से विद्यमान होते हैं ।
  • labradorite -- लेब्रेडोराइट
एक प्लेजिओक्लेस फेल्डस्पार खनिज जिसमें एल्बाइट से लेकर एनार्थाइट तक का अनुपात 5:5 और 3:7 के बीच होता है । इस खनिज में सामान्यतः भूरे, नीले, हरे और अन्य रंगों का अति सुन्दर वर्ण-विलास (Play of colour) दिखाई पड़ता है और इसलिए इसे सजावटी कार्यों में बहुत अधिक काम में लाया जाता है ।
  • laccolith -- लैकोलिथ
गुम्बदी आकार का अंतर्वेधी आग्नेय शैल-पिंड जो परिवेशी संस्तरों के साथ लगभग अनुस्तरी होता है । इसकी छत इस प्रकार से उभरी हुई होती है कि इसके उपरिशायी संस्तरों में एक स्पष्ट अपनति-संरचना उत्पन्न हुई प्रतीत होती है । इसका आधार सामान्यतः क्षैतिज होता है परन्तु नीचे की ओर उत्तल (convex) हो सकता है ।
  • lacustrine -- सरोबरी
झीलों या सरावरों से संबंधित ।
  • lacustrine deposit -- सरोबरी निक्षेप
सरोवरी पर्यावरण में निक्षेपित पदार्थों का संचय ।
  • ladder vein -- सोपान शिरा
अनुप्रस्थ और समान्तरप्राय विदरों में पाया जाने वाला एक प्रकार का खनिजनिक्षेप । ये विदर डाइक के शीतलन के दौरान उसकी दीवारों के लम्बवत् शल्कन (foliation) तलों के साथ-साथ विकसित होते हैं ।
  • lagoon -- लैगून
समुद्र तट के निकट लवण या खारी जल की एक झील या जलाशय जो रोधिका पुलिन द्वारा समुद्र से पृथक्कृत सा रहता है परन्तु समुद्र का पानी उसमें आ-जा सकता है ।
  • lamellar -- पटलित
पतली परतों, शल्कों या पटलों में निर्मित; पुस्तक के पन्नों के समान परतों में निक्षेपित ।
  • lamellar layer -- पटलमय परत
(ग्रैप्टोलाइट्स में) ग्रैप्टोलाइट प्राबरक की बाहरी परत जो काइटिन की संकेन्द्री पटिलकाओं से बनी होती है ।
  • lamina -- स्तरिका, पटल
स्तरित शैल की एक पतली परत; विशेष रूप से वह परत जिसकी मोटाई एक सें.मी. या उससे कम होती है ।
  • laminar structure or texture -- पटलीय संरचना या गठन
वह शैल संरचना या गठन जिसमें शल्कीय शिस्टाभता तथा पटलीय लक्षण सम्मिलित रहते हैं ।
  • lamination -- 1. स्तरिकायन, पटलन 2. स्तर, पटल
1. स्तरण होने का प्रक्रम ।
2. स्तरित संरचना; स्तरिक ।
  • lamprophyre -- लैम्प्रोफायर
पॉर्फिराइटी गठन का असितवर्णी डाइक शैल जिसके प्रमुख लक्ष्य क्रिस्टल असितवर्णी सिलिकेट, औजाइट, हॉर्नब्लैंड या बायोटाइट होते हैं ।
  • lapilli -- लैपिली
ज्वालामुखियों के विस्फोटी उद्गार के दौरान बाहर निकलने वाले 4 मि.मी. से लेकर 32 मि.मी. व्यास के छोटे-छोटे अश्मीय या काचीय खंड ।
  • late magmatic -- पश्च मैग्मीय
मैग्मा के संपिण्डन की अन्तिम अवस्था से संबद्ध प्रक्रम और उत्पाद से संबंधित ।
  • lateral eruption -- पार्श्व उद्गार
वह ज्वालामुखीय उद्गार जो सामान्यतः ज्वालमुखी शंकु के ऊपरी ढालों पर घटित होता है । इसमें संभरण प्रणाल (channel) मुख्य ज्वालामुखी फ़नेल से जुड़ा होता है ।
  • lava -- लावा
ज्वालामुखियों के उद्गार से भू-पृष्ठ पर बाहर निकले हुए गलित शैल के लिए एक सामान्य नाम । इसके अतिरिक्त जब यह गलित पदार्थ ठंडा होकर संपिडित हो जाता है तो उसे भी लावा कहते हैं ।
  • lava cone -- लावा शंकु
पूर्णरूपेण या अधिकांशतः लावा से बना ज्वालामुखी-शंकु ।
  • lava dome -- लावा गुम्बद
प्रमुखतः लावा से निर्मित एक गुम्बदनुमा संरचना जिसमें गुम्बद के आकार का निर्धारण लावा की श्यानता (viscosity) से होता है ।
  • lava flow -- लावा स्तर
गलित या जमे हुए लावा की चादर । लावा स्तर अधोजलीय या भू-पृष्ठीय हो सकता है, जो कि इस बात पर निर्भर करता है कि उसका अंतिम शीतलन जल के अंतर्गत हुआ है या शुष्क भूमि पर ।
  • law of superposition -- अध्यारोपण नियम
वह सामान्य नियम कि अविक्षुब्ध स्तरित शैलों के किसी भी क्रम में निचले संस्तर ऊपर वाले संस्तरों की अपेक्षा पुराने होंगे । यह नियम अधिक्षेपण और प्रतिवलन की स्थितियों में लागू नहीं होता ।
  • layer -- परत
शैल का एकल संस्तर या स्तर । सामान्यतः इसकी मोटाई की कोई सीमा निर्धारित नहीं की गई है, परन्तु अत्यन्त पतली परतों को स्तरिका कहा जाता है ।
  • lee (side) -- प्रतिपवन (पार्श्वः)
टिब्बे या पहाड़ी का वह ढालू पार्श्व जो वायु अथवा हिमनद बहाव से अपेक्षतया अप्रभावित रहता है । यह शब्द “stoss” का विपरीतार्थक है ।
  • lenticular -- मसूराकार
यह शब्द उस शैल-संहति के लिए प्रयुक्त होता है जो उभयोत्तल लेंस के समान, केन्द्र से सभी दिशाओं में पतला होता जाता है ।
  • lenticular bedding -- मसूराकार संस्तरण
वह संस्तरण जिसमें ऊर्मिका रूपी बालू की अलग-अलग व संयुक्त मसूराकार परतें पंक की सतत परतों से एकान्तरित होती हैं ।
  • leucitolith -- ल्यूसिटोलिथ
वह बहिर्वेधी शैल जो लगभग पूर्णतः ल्यूसाइट से निर्मित होता है ।
  • leucitophyre -- ल्यूसिटोफायर
एक पॉर्फिराइटी बहिर्वेधी शैल जो मुख्यतः ल्यूसाइट, नेफिलीन व क्लाइनोंपॉइरॉक्सीन से निर्मित होता है ।
  • leucocratic -- अल्पवर्णी
हल्के रंग के खनिजों से युक्त; विशेषतया उन आग्नेय शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिसमें असितवर्णी खनिज 0 से लेकर 30 प्रतिशत तक ही होते हैं ।
  • leucophyre -- ल्यूकोफायर
(क) डायाबेस का एक प्रकार जो सायुराइटित फेल्सपार पीले, हरे तथा बैंगनी रंग के पाइरॉक्सीन, इल्मेनाइट एवं प्रचर मात्रा में क्लोराइट से युक्त होता है ।
(ख) सर्पेन्टीनीभूत पेरिडोटाइट का एक प्रकार जो अल्पवर्णी इन्स्टेटाइट तथा डायोप्साइड से युक्त होता है ।
  • limnocalcite -- लिम्नोकैल्साइट
अलवण जलीय उद्गम का मटियाला, अशुद्ध परतदार एवं सुसंहत (compact) चूना पत्थर जिसमें प्रायः वनस्पति और कवचों के अवशेष पाये जाते हैं ।
  • limonite -- लिमोनाइट
भूरे, अक्रिस्टलीय, प्राकृतिक रूप से मिलने वाले जलीय फेरिक ऑक्साइडों के वर्ग के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिसमें कई प्रकार के लोह हाइड्रॉक्साइड होते हैं । यह लोहा या लोहे से युक्त साधारण द्वितीयक खनिजों के ऑक्सीकरण से दलदलों, झीलों, समुद्रों में अकार्बनिक एवं जैविक अवक्षेपण से निर्मित होता है ।
  • linear elongation -- रेखीय दीर्धीकरण
खनिजों या शैलों के विस्तार या दीर्घीकरण से फलित संरचना ।
  • linear flow structure -- रेखिय प्रवाह संरचना
आंशिक रूप से क्रिस्टलित मैग्मा या लावा के प्रभाव से निर्मित दीर्घित क्रिस्टलों का रेखीय अभिविन्यास ।
  • linear schistosity -- रेखीय शिस्टाभता
कायांतरण प्रक्रिया के दौरान प्रिज्मीय क्रिस्टलों के समान्तर अभिविन्यास से प्रतिफलित एक संरेखण संरचना ।
  • lineation -- संरेखण
शैलों में विद्यमान विभिन्न प्रकार की रैखिक संरचनाएं जिनमें धारियां, श्लक्षण, पार्श्व वलन अक्ष, प्रिज्यमीय खनिजों की रेखीय समानान्तरता तथा अन्य शैल घटक सम्मिलित हैं ।
  • linguoid ripple marks -- जिह्वाभ ऊर्मिका चिंह्र
जलीयधारा ऊर्मिका चिह्र जिसका आकार जिह्वा सदृश होता है । इसका नुकीला भाग (horn) जल-प्रवाह की दिशा को इंगित करता है ।
  • lithic tuff -- शिली टफ़
ज्वालामुखी भस्म का संपिण्डित निक्षेप जिसमें सजातीय एवं/अथवा विजातीय खण्डाश्मों की विद्यमानता विशेष रूप से दिखाई पड़ती है ।
  • lithic wacke -- लिथिक वैके, शिली वैके
वह प्रक्रम जिसके सूक्ष्मकणिक शैल-खण्डों की मात्रा 40-50 प्रतिशत तक होती है ।
  • lithification -- शिलीभवन
वह प्रक्रम जिसके द्वारा कोई नया-नया निक्षेपित अवसाद एक कठोर शैल में परिवर्तित हो जाता है । यह क्रिया निक्षेपण के उपरान्त तुरंत ही हो सकती है, निक्षेपण के दौरान भी हो सकती है अथवा उसके बहुत बाद में भी घटित हो सकती है ।
  • lithogenesis -- शैल जनन
अवसादी शैलों के निर्माण एवं उनके संघटित होने की प्रक्रिया ।
  • lithology -- आश्मिकी, अश्मविज्ञान
प्रस्तरों या शैलों का अध्ययन जो सामान्यतः उनके प्रतिदर्शों (samples) के स्थूल परीक्षणों पर आधारित होता है ।
  • lithomarge -- लिथोमार्ज
सामान्य कैओलिन की एक चिकनी व दृढ़ीभूत किस्म जिस का कुछ भाग के ओलिनाइट एवं हैलोइजाइट के मिश्रण से युक्त होता है ।
  • lithophile element -- अश्मरागी तत्व
वे तत्व जिनमें लोहे की अपेक्षा प्रतिग्राम ऑक्सीजन में ऑक्सीकरण की मुक्त उर्जा अधिक होती है । ये ऑक्साइड अथवा ऑक्सीलवण के रूप में मिलते हैं जैसे सिलिकेट खनिज । ये तत्व आश्मिक उल्कापिण्डों तथा भूपटल में सान्द्रीभूत रहते हैं ।
  • lit-par-lit structure -- स्तरानुस्तर संरचना
शल्कित (foliated) या विखंड्य शैलों में प्रदर्शित होने वाली एक संरचना । यह संरचना इन शैलों के असंख्य अवांतर स्तरों (partings) के अनुदिश मैग्मा की चादरों तथा जिह्वाओं के अन्तर्वेधन के कारण दिखाई पड़ती है और यह आमतौर पर शिस्टाभ (schistose) शैलों में पाई जाती है ।
  • littoral -- वेलांचली
तट या तटीय प्रदेश से सम्बन्धित अथवा वहां पर स्थित । इस शब्द का प्रयोग विशेष रूप से उच्च और लघु ज्वारों की सीमाओं के बीच नितलस्थ (benthonic) वातारण के लिए भी किया जाता है ।
  • littoral deposit -- वेलांचली निक्षेप
समुद्र तट के निकट निर्मित निक्षेप जो प्रायः तरंग-क्रिया के प्रभाव के अन्तर्गत बनता है ।
  • littoral zone -- वेलांचल
समुद्री क्षेत्र का वह भाग जो उच्चतम तथा निम्नतम ज्वारभाटा तलों के बीच में स्थित होता है ।
  • load cast -- लोहकास्ट, भार संच
एक तली चिह्र (Sole marks) जो भारी बालू के पंक में नीचे की ओर धसने से बनता है । इसका आकार नीचे की ओर सामान्यतः गोलीय होता है ।
  • load metamorhpism -- भार कायांतरण
कायांतरण की विस्तृत प्रकृति वाली प्रक्रिया जो उपरि संस्तरों के उर्ध्वाधर दाब तथा अवसादी जमाव की गहराई में बढ़ते हुए तापमान के प्रभाव से घटित होती है । इस प्रकार के कायांतरण से प्रतिफलित शैलों के संस्तरों में अनुस्तरता तथा शिस्टाभता पायी जाती है ।
  • loess -- लोएस
वायु द्वारा निक्षेपित, मुख्यतः सिल्ट की साइज के शैल-कर्णों तथा खनिजकणों से संघटित एक असंपिडित तथा अस्तरित अवसादी निक्षेप जिसमें सामान्यतः थोड़ी बहुत मात्रा में सूक्ष्मबालू और मृत्तिका भी मिली होती है । इसका रंग हल्का भूरा, पीला, या धूसर होता है और इसकी विशेषता यह है कि यह अत्यन्त प्रवण या सीधे खड़े ढालों पर टिका रह सकता है ।
  • lopolith -- लोपोलिथ
विशाल तली वाला अन्तर्वेधी पिंड (intrusive body) जो कि मध्य से धंसा हुआ होने के कारण द्रोणी के आकार का होता है ।
  • lutaceous -- पंकमय
किसी सूक्ष्मकणिक गठन का वर्णन करने के लिए एक विशेषण जो विशेष रूप से (परन्तु एक मात्र नहीं) सिल्टों और मृत्तिकाओं तथा उनसे व्युत्पन्न पदार्थों के लिए प्रयुक्त होता है ।
  • macroscopic (megascopic) -- असूक्ष्म, स्थूल, स्थूलदर्शित
इस शब्द का प्रयोग बिना किसी लेन्स की सहायता से केवल आंखों द्वारा किए गए प्रेक्षणों के लिए किया जाता है ।
  • macro-crystalline -- स्थूल क्रिस्टलीय
उन आग्नेय तथा कायांतरी शैलों के गठन के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिनके क्रिस्टल इतने बड़े होते हैं कि वे बिना लेन्स की सहायता से देखे जा सकते हैं ।
  • maculose (structure) -- धब्बेदार (संरचना)
संस्पर्श कायांतरित शैलों तथा उनकी संरचनाओं में धब्बेदार अथवा गांठदार लक्षणों को वर्णन करने के लिए एक शब्द । उदाहरणार्थ-धब्बेदारस्लेट ।
  • mafelsic -- मैफेल्सिक
अल्पवर्णी और असितवर्णी दोनों प्रकार के खनिजों से संघटित शैल, जैसे गैब्रो ।
  • mafic -- मैफिक
लोह मैग्नीशियमी खनिजों तथा उनसे समृद्ध शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • magma -- मैग्मा
भूमि के अन्दर जनित, तप्त गतिशील पदार्थ जो गलित सिकिलेटों, जल भाप और अन्य वाष्पशील घटकों से संघटित होता है इसके शीतलन और क्रिस्टलीकरण के फलस्वरूप ही आग्रेय शैल बनते हैं ।
  • magmatic -- मैग्मीय
मैग्मा या गलित (द्रवीभूत) शैल से संबंधित ।
  • magmatic assimilation -- मैग्मीय स्वांगीकरण
देखिए : ‘assimilation’
  • magmatic differentiation -- मैग्मीय विभेदन
वह प्रक्रम जिसके द्वारा किसी जनक मैग्मा से विभिन्न प्रकार के आग्नेय शैल व्युत्पन्न होते हैं अथवा जिसके द्वारा किसी अकेले गलित पिंड के विभिन्न भाग उसके संपिडन के दौरान भिन्न-भिन्न संघटनों तथा गठनों के हो जाते हैं ।
  • magmatic water -- मग्मज जल
मैग्मा या गलित शैल में विद्यमान जल जो क्रिस्टलीकरण के दौरान निकल जाता है ।
  • mantle -- प्रावार, मैंटल
(क) भू-भौतिकीय दृष्टि से, मोहोरोविसिक असांतत्य के ऊपर के भाग को छोड़ कर पृष्ठ और क्रोड के बीच का भूभाग । सामान्य अर्थ में प्रावार से अभिप्राय आधार शैल के ऊपर असंपिडित पदार्थ से है जो सतह पर या उसके निकट होता है ।
(ख) (पेलिसिपोडा में) देह-भित्ति के पृष्ठ भाग से निकला हुआ आवरण जो जीव को पार्श्विक तथा अधर रूप से ढके रहता है । यह प्रत्येक वाल्व का एक-एक तरह से अस्तर होता है ।
  • marble -- संगमरमर
कणिक गठन का एक कायांतरित शैल जो कैल्साइट तथा/अथवा डोलोमाइट से संघटित होता है ।
  • marine deposits -- समुद्री निक्षेप
समुद्र में निर्मित अवसादी निक्षेप जो आमतौर पर वेलांचली (littoral) पट्टी के समुद्र की और वाले किनारे से परे निर्मित होते हैं ।
  • marl -- मार्ल
एक कैल्सियमी मृत्तिका या मृत्तिका तथा कैल्साइट अथवा डोलोमाइट के कणों का प्रगाढ़ मिश्रण जिसमें सामान्यतः कवच-खण्ड भी विद्यमान रहते हैं । मार्ल प्रायः भूरा होता है किन्तु इसकी पीली, हरी, नीली और काली रंग की किस्में भी पाई जाती हैं ।
  • marl stone -- मार्ल अश्म
मृत्तिका पदार्थों तथा कैल्सियम कार्बोनेट का एक दृढीभूत मिश्रण जिसमें सामान्यतः 25 प्रतिशत से 75 प्रतिशत तक मृत्तिका होती है ।
  • marly (marlaceous) -- मार्लमय
मार्ल से युक्त या उससे मिलता-जुलता अथवा उसकी प्रकृति का ।
  • marsh -- कच्छ
एक नमी वाला तथा प्रायः कीचड़ से भरा हुआ, जलाक्रांत भू-क्षेत्र, जिसमें घास, जलबेंत या अन्य शाकीय पौधों की भरमार होती है । कच्छ मुख्यतः घास या घास जैसे पौधों से भरा रहता है जबकि अनूप (swamp) बड़े-बड़े वृक्षों से भरपूर होता है । ज्वार-भाटों के प्रभाव तथा लवण-अलवण जल की विद्यमानता के अनुसार कच्छ की भिन्न-भिन्न किस्मों में भेद किया जा सकता है ।
  • massif -- गिरिपिंड, मैसिफ
प्रायः घाटियों के बीच में स्थित किसी पर्वत कटक का एक अपेक्षतया दृढ़ केंद्रीय भाग ।
  • massive -- स्थूल
(क) शैलिकी में-समांगी संरचना वाला; स्तरण, शल्कन (foliation) या शिस्टाभता (schistosity) से विहीन ।
(ख) अवसादी शैलों के संदर्भ में-गौण संधियों (joints) और संस्तरण से मुक्त; स्थूल संस्तरों में पाया जाने वाला ।
  • matrix -- आधात्री, मैट्रिक्स
(क) वह प्राकृतिक शैल या मृत्तिकामय पदार्थ जिसमें गुटिकाएं, जीवाश्म और खनिज-रत्न अन्तःस्थापित रहते हैं ।
(ख) आग्नेय शैलों की सूक्ष्मकणिक आधात्रिका जिसमें बड़े-बड़े क्रिस्टल स्पष्ट रूप से दिखाई देते हैं ।
(ग) अयस्क-निक्षेपों में गैन्ग पदार्थ ।
  • mechanical metamorphism -- बलकृत कायांतरण
कायांतरण का वह प्रकार जो भू-हलचल व विरूपण जैसी बलकृत प्रक्रियाओं द्वारा घटित होता है । इसके प्रभाव में शैलों में सामान्यतः संरचनात्मक एवं खनिजिकीय परिवर्तन होते हैं ।
  • megaphenocryst -- स्थूल लक्ष्य क्रिस्टल
शैलों में विद्यमान वे लक्ष्यक्रिस्टल जिन्हें बिना किसी यंत्र की सहायता से आंखों द्वारा देखा जा सकता है ।
  • megascopic -- स्थूलाकार
इतना बड़ा कि जिसे बिना किसी लेन्स की सहायता से देखा जा सके ।
  • melang -- मेलाँज, बहुरंगी
(क) आक्रामी (invading) मैग्मा के साथ ठोस शैलों के मिश्रण से प्रतिफलित संकर शैल (hybrid rock) ।
(ख) किसी अपरूपित और प्रायः पंकिल (muddy) आधात्री में विभिन्न साइज के खण्डों से युक्त विषमांगी अवसादी शैल ।
(ग) एक मानचित्रण योग्य शैलपिण्ड जो विभिन्न साइजों के आगत (exotic) और स्थानीय खण्डों से निर्मित होता है । ये खण्ड प्रायः अपरूपित आधात्री में पाये जाते हैं और इनका अनुरेखण सम्भव होता है ।
  • melanocratic -- श्यामवर्णी
उन शैलों के लिए प्रयुक्त एक विशेषण जिनमें असित वर्णी (dark coloured) खनिज 50 प्रतिशत से अधिक होते हैं ।
  • mesocratic -- मध्यवर्णी
उन आग्नेय शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिनमें 35-65 प्रतिशत मात्रा में असित वर्णी खनिज विद्यमान रहते हैं ।
  • mesothermal -- मध्यतापीय
मध्यताप और गहराई से संबंधित । इस शब्द का प्रयोग कुछ विशेष प्रकार के अयस्क-निक्षेपों के लिए किया जाता है ।
  • mesothermal deposits -- मध्यतापीय निक्षेप
वे अयस्क-निक्षेप जो भूपर्पटी की मध्यम गहराई में और मध्यम ताप के प्रभाव में निर्मित होते हैं ।
  • metallogeny -- धातुजननिकी
खनिज निक्षेपों के उद्भव का अध्ययन ।
  • metamorphic differentiation -- कायांतरण विभेदन
कायांतरण की वह प्रक्रिया जिसके प्रभाव में समरूपी मूल शैलों में भिन्न गुणों वाले खनिज पुंजों का विकास होता है ।
  • metamorphic diffusion -- कायांतरण विसरण
ठोस अवस्था में शैल संघटकों की आण्विक गतिशीलता और वितरण की प्रक्रिया जिसके फलस्वरूप पूर्व कायांतरित आश्मिक सीमायें धुंधली हो जाती हैं या मिट जाती हैं ।
  • metamorphic event -- कायांतरी घटना
कायांतरित शैलों के सक्रिय निर्माणकाल में हुई घटना ।
  • metamorphic facies -- कायांतरण-संलक्षणी
कुछ विशेष भौतिक परिस्थितियों के अंतर्गत कायांतरण के दौरान जब खनिजों में रासायनिक संतुलन स्थापित हो जाता है तो ऐसे शैल कुछ विशिष्ट कायांतरित खनिजों से अभिभूत हो जाते हैं और वे विभिन्न खनिजिकीय संघटन वाले शैलों की कायांतरित संलक्षणी को निरूपित करते हैं ।
  • metamorphic grade -- कायांतरण श्रेणी
देखिए : ‘grade of metamorphism’
  • metamorphic phase -- कायांतरण प्रावस्था
देखिए : ‘metamorphic events’
  • metamorphic rock -- कायांतरित शैल
वह कोई भी शैल जिसका गठन (texture) या संघटन उसकी मूल रचना के पश्चात् ताप, दाब या रसायनतः सक्रिय तरलों द्वारा बिल्कुल बदल गया हो । कायांतरित शैलों का निर्माण मूल आग्नेय या अवसादी शैलों से ही होता है जिनमें उपर्युक्त परिवर्तन, अपक्षयण (weathering) तथा संयोजन (cementation) क्षेत्र के नीचे गहराइयों में घटित होते हैं ।
  • metamorphic zone -- कायांतरण ज़ोन
भूपर्पटी में वे ज़ोन जिनमें कुछ निश्चित कायांतरण कोटियां एवं कायांतरित शैल-प्रकार विशिष्ट रूप से विद्यमान रहते हैं । उदाहरणार्थ – उपरिमण्डल (epizone), मध्यमण्डल (metazone) और निम्न मण्डल (katazone) ।
  • metamorphism -- कायांतरण
वह प्रक्रम जिसके द्वारा संपिंडित शैलों का संघटन, गठन या उनकी आंतरिक संरचना परिवर्तित हो जाती है । ये परिवर्तन केवल मात्र शैलों के नीचे दबे होने के कारण उपरिभार से प्रतिफलित परिस्थितियों या बलों से नहीं होते बल्कि दाब, ताप तथा नए रासायनिक पदार्थों के समावेश इसके मुख्य कारण होते हैं । इस प्रकार के परिवर्तन में सामान्यतः अपक्षयण का कोई हाथ नहीं होता ।
  • metasomatic -- तत्वांतरी, तत्वांतरणी
तत्वांतरण द्वारा निर्मित या उससे संबंधित ।
  • metasomatism -- तत्वांतरण, मेटेसोमैटिज़्म
वह कायांतरित परिवर्तन जिसके द्वारा कोई खनिज किसी बाहरी पदार्थ के समावेशन से प्रतिफलित अभिक्रियाओं के कारण एक भिन्न रासायनिक संघटन वाले खनिज द्वारा प्रतिस्थापित हो जाता है ।
  • meteorites -- उल्कापिंड
अंतरिक्ष से गिरकर भू-पृष्ठ के ऊपर प्राकृतिक रूप से मिलने वाले आश्मिक या धात्विक पिंड ।
  • mica schist -- अभ्रक शिस्ट
एक शल्कित, क्रिस्टलीय कायांतरी शैल जो क्वार्टूज़ और अभ्रक से अनिवार्यतः संघटित होता है । इसमें शल्कन मुख्य रूप से अभ्रक पत्रकों की समांतर स्थिति के कारण होता है और इसीलिए इसकी टूटने की प्रवृत्ति अभ्रकी परतों के अनुदिश होती है । इसमें क्वार्ट्ज़, कणिक या मसूराकार होते हैं तथा इस शैल की कई किस्में भी पाई जाती हैं ।
  • micrite -- मिक्राइट
वह चूना-पत्थर जिसकी अर्ध-अपारदर्शी आधात्री रासायनिक रूप से अवक्षेपित कार्बोनेट पंक के साथ 4 माइक्रोन से कम व्यास वाले क्रिस्टलों से युक्त होती हैं ।
  • microcrystalline -- सूक्ष्मक्रिस्टली
ऐसे क्रिस्टलों से बने हुए शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो सूक्ष्मदर्शी की सहायता से ही पहचाने जा सकते हैं, अर्थात् उन्हें केवल आंखों से नहीं पहचाना जा सकता । यदि क्रिस्टलों को सूक्ष्मदर्शी की सहायता से भी न पहचाना जा सकेतो उस शैल को “गूढ़ क्रिस्टलीय” कहते हैं ।
  • micropegmatitic texture -- सूक्ष्म आलेखी गठन
दो खनिजों प्रायः क्वार्ट्ज़ और एसिड फेल्डस्पार की सूक्ष्म अन्तर्वूद्धि (intergrowth) । इससे एक ऐसे पैटर्न का निर्माण होता है जो प्राचीन अपरिष्कृत लेखों से मिलता-जुलता है ।
  • microscopic -- सूक्ष्मदर्शीय
(क) सूक्ष्मदर्शी से संबंधित अथवा उसके द्वारा संचालित ।
(ख) आकार में अत्यन्त लघु ।
  • magmatic infrastructure -- मिग्मैटिक अवसंरचना
मिग्मैटिक शैलों का वह क्षेत्र जो मिग्मैटिक इतर अधि-संरचना (superstructure) के नीचे स्थित रहता है ।
  • migmatite -- मिग्मैटाइट
मिग्मैटीकरण प्रक्रिया से निर्मित एक मिक्षित शैल ।
  • migmatization -- मिग्मैटीकरण
वह प्रक्रिया जिसमें पुनर्गलन, पार्श्विक स्रवण, तत्वांतरण अथवा अन्तः क्षेपण के फलस्वरूप अधिक गतिशील, अल्पवर्णी मिग्मैटाइट का निर्माण होता है ।
  • migration structure -- अभिगमन संरचना
कुछ डायाबेस टफों की एक कूट प्रवाही (pseudo fluxion) संरचना जिसमें क्रिस्टलीय सूचिकायें और कणिकायें बड़े घटकों के चारों ओर पट्टियों के रूप में विन्यस्त रहती हैं ।
  • miliolite -- मिलियोलाइट
जैविक उद्गम का चूना पत्थर जिसमें मिलियोलिड फोरामिनीफेरा के कवचों की भरमार होती है । यह कच्छ की खाड़ी में बहुत अधिक मात्रा में मिलता है ।
  • mineral facies -- खनिज संलक्षणी
कायांतरण संलक्षणी का समतुल्यप्राय शब्द ।
  • mineralization -- खनिजीभवन, खनिजन
पूर्ववर्ती शैलपिंडों में अयस्क-खनिजों के निर्माण या समावेशन का प्रक्रम ।
  • mineralizer -- खनिज कारक
वे मैग्मीय वाष्पशील पदार्थ जो खनिज निर्माण प्रक्रिया में सहायक होते हैं ।
  • mineralizing solution -- खनिजकारी विलयन
मैग्मा से बाहर निकलने वाली वे गैसें और अपशिष्ट द्रव जो मैग्मा के क्रिस्टलन के दौरान निर्मित होती हैं और अपने साथ ऐसे पदार्थों को वहन करती हैं जिनके द्वारा अन्त में खनिज निपेक्षों का निर्माण होता है ।
  • mineralogical phase rule -- खनिजिकीय प्रावस्था नियम
शैल विज्ञान में प्रयुक्त गिब्बस प्रावस्था नियम का संशोधित रूप जिसमें F=O होता है और गिब्बस के मौलिक प्रावस्था नियम से दो को हटा दिया जाता है । दूसरे शब्दों में तंत्र के इस नियम में तंत्र के ताप व दाब के स्थिर होने पर प्रावस्था की संख्या घटकों की संख्या के बराबर हो जाती है (P=C) ।
  • mineraloid -- खनिजजाम
प्रकृति में मिलने वाले सामान्यतया अजैविक पदार्थ जिन्हें खनिज की श्रेणी में नहीं रखा जाता क्योंकि ये अक्रिस्टलीय होते हैं और इस प्रकार इसमें खनिज के भौतिक एवं रासायनिक लक्षण नहीं होते ।
  • miogeosyncline -- उपांत भूअभिनति
वह भूअभिनति जिसमें अवसादन के दौरान ज्वालामुखीय क्रियाएं नहीं होती ।
  • mode -- मोड
किसी अरूपांतरित आग्नेय शैल का वास्तविक खनिजिकीय संघटन । “नॉर्म” शब्द से तुलना कीजिए ।
  • molasse -- मोलासे
एक तटांचली (paralic) अवसादी संलक्षणी । इसमें अकोटीकृत (ungraded) जीवाश्म, संगुटिकाश्म, बलुआपत्थर, शैल और मार्ल एक मोटे अनुक्रम का निर्माण करते हैं । प्राथमिक अवसादी संरचनाएँ इसके विशिष्ट लक्षण हैं तथा कभी-कभी इसमें कोयला एवं चूने के निक्षेप भी मिलते हैं । फ्लैश संलक्षणी की अपेक्षा यह अधिक खण्डज और कम आवर्ती होती है ।
  • monzonite -- मोन्ज़ोनाइट
(क) एक प्रकार का कणिकीय आग्नेय शैल जिसमें क्षारीय फेल्डस्पार और प्लेजिओक्लेस की मात्रा समान होती है । क्वार्ट्ज़ 10 प्रतिशत से कम और फेल्सपेथायड अनुपस्थित अथवा फेल्डस्पार की मात्रा से 10 प्रतिशत से भी कम होता है ।
(ख) साइनाइट वर्ग और डायोराइट-गैब्रो वर्ग के शैलों के मध्य का शैल वर्ग ।
  • mortar structure -- दलित कण-संरचना
ग्रेनाइटों और नाइसों में गतिक कायांतरण द्वारा विकसित एक अपदलनी संरचना जिसमें क्वार्ट्ज़ और फेल्डस्पार के छोटे दलित कण बृहत कणों के मध्य अन्तराकाशों में अन्तःस्थापित रहते हैं और जो देखने में ऐसी लगती है जैसे कि किसी खरल में पत्थर जड़े हुए हों ।
  • mosaic texture -- मोज़ैक गठन
कायांतरित शैलों का कणिकामय गठन जिसमें विभिन्न कणों का आपस में सीधा या वक्रिल सम्पर्क होता है ।
  • mud crack (sun crack) -- आतप विदर, पंक विदर
मृत्तिका या मृत्तिका-संस्तरों में सूर्य की गर्मी के प्रभाव से उनके सूखने के दौरान संकुचन के परिणामस्वरूप विकसित दरार या विभंग ।
  • mud flow -- पंक प्रवाह
पंक सदृश गाढ़ापन लिए हुए मृदा (या शैल) तथा पानी के मिश्रण की द्रुत प्रवाही धारा ।
  • mud stone -- पंकाश्म
एक कठोरीभूत मृत्तिका शैल जो विखंडनीय (fissile) नहीं होता ।
  • mud volcano -- पंक ज्वालामुखी
(क) द्वार या दरार जिससे गंधकी या बिटूमिनी पंक बाहर निकलता है ।
(ख) सामान्य ज्वालामुखी पर्वत सदृश एक शंक्वाकार टीला जो भूकंप सक्रियता के दौरान दरारों से पंकिल पदार्थों के निकलने के फलस्वरूप बन जाता है ।
  • mullion structure -- मुलियन संरचना
कायांतिरत शैलों के वलित पृष्ठों पर अथवा उनके किसी भ्रंशित सतह के साथ-साथ विकसित समान्तर कटकों और खांचों की एक तरंग जैसी संरचना । इसे छड़ संरचना भी कहते हैं ।
  • multiple intrusion -- बहु अन्तर्वेधन
यह शब्द सिल, डाइक, लैकोलिथ और अन्य ऐसे अन्तर्वेधनों के लिए प्रयुक्त होता है जो लगभग एक ही मैग्मा के दो या अधिक उत्तरोत्तर अंतःक्षेपणों (injections) से निर्मित होते हैं ।
  • mylonite -- माइलोनाइट
भ्रंश-पृष्टों पर संचलन के दौरान शैलों के चरम सूक्ष्म विखंडन (microbrecciation) और पेषण द्वारा निर्मित एक सूक्ष्मकणिक, पटलित शैल (laminated rock) जिसके मूल खनिज चूर-चूर और संकर्षित हो जाते हैं, परन्तु शैल के खनिज-संघटन में कोई परिवर्तन नहीं आता ।
  • mylonite gneiss -- माइलोनाइट नाइस
माइलोनाइट तथा शिस्ट के बीच का शैल प्रकार जो अंशतः कणिकायित तथा अंशतः क्रिस्टलित होता है । इसमें फेल्सिक खनिज बिना अधिक पुनः क्रिस्टलन के अपदलनी (cataclastic) परिघटना को प्रदर्शित करते हैं और प्रायः चाक्षुष संपुजों के रूप में पाए जाते हैं ।
  • mylonite structure -- माइलोनाइट संरचना
तीव्र सूक्ष्म संकोणश्मन एवं अपरूपण से उत्पन्न संरचना जिसमें खनिज रेखित अथवा प्रवाही प्रतीत होते हैं ।
  • myrmekite -- मिर्मिकाइट
मैग्मा के सबसे अन्तिम चरणों में संपिण्डन (consolidation) के दौरान अथवा अतिकायांतरण (ultrametamorphism) द्वारा निर्मित कृमिरूपी (vermicular) क्वार्ट्ज़ और फेल्डस्पार की एक किणक (wart) सदृश अंतर्वृद्धि ।
  • myrmekitic texture -- मर्मिकाइटिक गठन
शैल में मिर्मिकाइट रूपी गठन ।
  • nematoblastic texture -- नेमाटोब्लास्टी गठन, सूत्रब्लास्टी गठन
कायांतरित शैलों में पुनःक्रिस्टन के दौरान सिल्लिमिनाइट या एम्फिबोल जैसे प्रिजमीय व तंतुरेखीय खनिजों के विकास से प्रतिफलित गठन ।
  • neopegmatoidal texture -- निओपेग्माटांयडी गठन
माइका पेग्माटाइटों का एक गठन जिसमें मूल पेग्माटाइट का द्वितीयक माइका और क्वार्ट्ज़ द्वारा लगभग पूर्ण प्रतिस्थापन (replacement) हो जाता है ।
  • nepheline-syenite -- नेफलिन-सायनाइट
एक प्रकार का सायनाइट जिसमें क्षारीय और मैफिक खनिजों के अतिरिक्त 5-20 प्रतिशत मात्रा में नेफलिन और फेल्डस्पार पाया जाता है । यह सामान्यतः कणिकीय अथवा ट्रेकाइटाभ गठन से युक्त अल्पवर्णी दृश्य क्रिस्टलीय (phenocrystalline) होता है ।
  • neritic zone -- नेरिटांचल
समुद्र-तली का वह भाग जो निम्न ज्वार-भाटा रेखा से लेकर 200 मीटर की गहराई तक फैला होता है ।
  • non-rotational deformation -- आधूर्णात्मक विरूपण
देखिए : ‘non-rotational strain’
  • non-rotational strain -- आधूर्णात्मक विकृति
एक ऐसी विकृति जिसमें विरूपण के प्रभाव से मुख्य विकृति-अक्षों का अभिविन्यास परिवर्तित नहीं होता ।
  • norite -- नोराइट
एक दानेदार वितलीय आग्नेय शैल जो मुख्यतः कैल्सिक प्लेजियोक्लेस और विषमलंबाक्ष पाइरॉक्सीन से संघटित होता है । यह गैब्रो की एक किस्म है ।
  • norm -- मानक
किसी शैल का सैद्धांतिक खनिज-संघटन जो रासायनिक विश्लेषण के आधार पर कुछ निश्चित नियमों के अनुसार परिकलित किया जाता है । यह आमतौर पर शैल के वास्तविक खनिज-संघटन या मोड से बहुत भिन्न होता है ।
  • normative mineral -- मानकी खनिज
नॉर्म के परिकलन में प्रयुक्त होने वाला एक परिकल्पित खनिज संघटन ।
  • obsidian -- ऑब्सीडियन
(क) काचीय रायोलाइट
(ख) एक ज्वालामुखीय काच जो सामान्यतः काला, पट्टित और स्फेरूलाइटी होता है । इसका विभंग (fracture) स्पष्टतः शंखाभ (conchoidal) होता है और द्युति चमकीली होती है । संघटन में यह रायोलाइट के समान होता है परन्तु इसमें जल का अंश अधिक होता है ।
  • obtuse bisectrix -- अधिककोण द्विभाजक
वह रेखा जो द्विअक्षीय क्रिस्टलों के प्रकाशिक अक्षों से निर्मित अधिक कोण को दो बराबर भागों में बांटती है ।
  • occult minerals -- गूढ़ खनिज
वे खनिज जिनके किसी पूर्णतया क्रिस्टलीय आग्नेय शैल में रासायनिक विश्लेषण के साक्ष्य के आधार पर विद्यमान होने की सम्भावना रहती है परन्तु वे उसमें मिलते नहीं ।
  • ochre -- गैरिक
एक मटियारा और आमतौर पर लाल यापीले रंग का अशुद्ध लोह-अयस्क जो वर्णक (pigment) के रूप में व्यापक रूप से प्रयुक्त होता है । इस शब्द का प्रयोग इसके अतिरिक्त किसी भी लोहमय मृत्तिका, मृत्तिकामय धात्विक ऑक्साइडों के लिए भी किया जाता है ।
  • off lap -- अव्याप्ति
एक समविन्यासी अनुक्रम में स्तरिकीय सम्बन्ध जिसमें ऊपर के संस्तर अपेक्षाकृत लघु क्षेत्रों को आच्छादित करते जाते हैं जैसा कि सामान्यतः समुद्री प्रतिक्रमण (regression) के दौरान होता है ।
  • oil shale -- तैल-शेल
वह शेल जिसमें हाइड्रोकार्बन इस अनुपात में होते हैं कि उसके मंद आसवन (distillation) से खनिज-तेल निकाला जा सकता है ।
  • oolite -- अंडकाश्म, उओलाइट
प्रायः (CaCO3) से निर्मित, अधिक से अधिक 2 मिoमीo प्रमाप का एक छोटा, गोलाभ या दीर्घवृतीय कण तथा वह कोई भी शैल जो अधिकांशतः इस प्रकार के कणों से निर्मित होता है । ये कण अकार्बनिक अवक्षेपण द्वारा उत्पन्न माने जाते हैं । कुछ शैल अधिकांशतः अंडकाश्मों से ही निर्मित मिलते हैं जैसे-चूनाश्म ।
  • ooze -- सिंधुपंक, निपंक
एक सूक्ष्मकणिक, पैलेजिक निक्षेप जिसमें जैव उत्पत्ति के पदार्थ 30% से अधिक होते हैं ।
  • ophiolite -- ऑफियोलाइट
अल्प मैफिक और अतिअल्प मैफिक आग्नेय शैलों का समूह जिसमें सरपेंटीन, कलोराइट, एपिडोट, गार्नेट आदि खनिजों का बाहुल्य होता है । इसकी उत्पत्ति भूअभिनति (geosyncline) के विकास की प्रारम्भिक प्रावस्था से सम्बद्ध होती है ।
  • ophitic (texture) -- ओफाइटी (गठन)
ऐसा शैल-गठन जिसमें प्लेजिओक्लेस फेल्डस्पार के लैथ रूपी क्रिस्टल प्लेजिओक्लेस के पश्चात् निर्मित औजाइट क्रिस्टलों द्वारा पूर्ण रूप से या आंशिक रूप से परिबद्ध रहते हैं । यह गठन अल्पसिलिक ज्वालामुखी स्तरों, सिलों और डाइकों में मिलता है । अर्थ विस्तार से इस शब्द का प्रयोग कभी-कभी अन्य खनिजयुगलों द्वारा निर्मित इसी ही प्रकार के गठनों के लिए भी किया जाता है ।
  • orbicular structure -- सकेंद्रशल्की संरचना
कुछ स्थूल कणिक (coarse grained) आग्नेय शैलों (उदाहरणार्थ ग्रेनाइट, डायोराइट) में पायी जाने वाली एक संरचना जो विभिन्न संघटन वाले संकेन्द्री (concentric) खनिज खोलों (shell) से युक्त होती है ।
  • ore magma -- अयस्क मैग्मा
वह मैग्मा जिसके किस्टलन से अयस्क का निर्माण होता है ।
  • ore mineral -- अयस्क खनिज
अयस्क का वह भाग जो सामान्यतया धात्विक होता है तथा (आधात्री खनिजों की तुलना में) आर्थिक दृष्टि से महत्वपूर्ण होता है ।
  • ore shoot -- अयस्क पिण्ड
किसी अयस्क निक्षेप का वह भाग जिसमें अपेक्षाकृत अयस्क का सान्द्रण अधिक होता है । यह निक्षेप में सामान्यतः एक नलिका, रिबन अथवा चिमनी के रूप में पाया जाता है ।
  • orogenic metamorphism -- पर्वतनी कायांतरण
पर्वतन (orogeny) क्रिया के साथ-साथ घटित निम्न कोटि का कायांतरण ।
  • orogenic sediment -- पर्वतनी अवसाद
विवर्तनिक (tectonic) प्रक्रिया के फलस्वरूप निर्मित अवसाद ।
  • orthoclase-porphyry -- ऑर्थोक्लेस पॉर्फिरी
वह सूक्ष्मकणिक सायनाइट शैल जिसमें आर्थोक्लेस के लक्ष्यक्रिस्टल (phenocryst) कुछ असितवर्णी (dark colour) खनिजों सहित आर्थोक्लेस से ही निर्मित आधात्री में (ground mass) स्थापित रहते हैं ।
  • orthogneiss -- आग्नेय नाइस
आग्नेय शैलों से व्युत्पन्न नाइस ।
  • orthoquartzite -- ऑर्थोक्वार्ट्ज़ाइट
वह बलुआपत्थर जो 90-95 प्रतिशत से अधिक क्वार्ट्ज़ व अपरदी चर्ट के सूक्ष्म, सुप्रवरित (well sorted) व पूर्णगोलाकार कणों से निर्मित होता है । ये कण प्रमुखतः द्वितीयक सिलिका द्वारा सीमेन्टीभूत रहते हैं ।
  • oscillation ripple marks -- दोलनी ऊर्मिका चिह्र
दोलनी तरंग से निर्मित सममित ऊर्मिका चिह्र जिनके नुकीले, पतले शीर्ष गोल व चौड़ी द्रोणिकाओं के बीच में होते हैं ।
  • outcrop -- 1. दृश्यांश, 2. अंशदर्शन
1. शैल समूह का वह भाग जो भूमि की सतह पर दृष्टिगत होता है । और भी सामान्य अर्थ में यह शब्द उन क्षेत्रों के लिए भी प्रयुक्त होता है जहां शैलसमूह ठीक मृदा के नीचे स्थित होता है चाहे वह बाहर भले ही न दिखाई पड़े ।
2. आधार शैल या किसी असंपिडित निक्षेप का भूमि की सतह तक बाहर निकलना ।
  • outlier -- पुरान्तःशायी
किसी शैलसमूह का एक गौण भाग जो अपरदन द्वारा मुख्य पिंड से अलग हो कर पुराने शैलों से घिर गया हो ।
  • outwash -- हिमानीधौत
हिम-जल की धाराओं द्वारा हिमानी (हिमनद) से दूर बहाकर निक्षेपित किया हुआ स्तरित अपरदी पदार्थ ।
  • overlap -- अतिव्याप्ति
विषमविन्यास का एक प्रकार जिसमें नवीन संस्तर क्रमिक रूप से अपेक्षतया पुराने संस्तरों के ऊपर उनके कोरो से आगे तक फैले रहते हैं ।
  • over saturated rocks -- अति संतृप्त शैल
वे शैल जिनमें समस्त विद्यमान क्षारकों से संतृप्त खनिज बनाने के लिए जितना सिलिका आवश्यक है उससे भी कहीं अधिक होता है ।
  • palagonite -- पैलेगोनाइट
जल योजन द्वारा परिवर्तित भूरे, पीले अथवा नारंगी रंग का ट्रैकीलाइट शैल । यह शिरोधानी लावाओं (pillow lava) में अंतराकाशी (interstitial) पदार्थों अथवा वालामकों (amygdaloids) के रूप में मिलता है ।
  • paludal deposits -- कच्छीय निक्षेप
लवणीय व अलवणीय दलदली निक्षेप ।
  • panidiomorphic -- पूर्णस्वरूपी, सर्वस्वरूपी
उन शैलों के गठन से संबंधित एक विशेषण जिनमें समस्त घटक-खनिज पूर्णफलकी (euhedral) होते हैं ।
  • paragenesis -- क्रमिक सहजनन
शैलों या शिराओं में, साथ-साथ मिलने वाले खनिजों का अभिलक्षणिक क्रमिक निक्षेपण या निर्माण ।
  • paragenesis -- अवसादी नाइस, पैरानाइस
किसी अवसादी शैल के कायान्तरण (metamorphism) से निर्मित नाइस ।
  • pebble -- गुटिका
4 मिo मीo से लेकर 64 मिoमीo के व्यास वाले शैल-खण्ड जो वायु, जल या हिमानी बर्फ के द्वारा घिसकर चिकने और गोलाकार हो जाते हैं ।
  • pedestal rock -- पीठिका शैल
वह अवशिष्ट या अपरदनात्मक शैल-संहति जो एक अपेक्षतया कृश (पतले) स्तंभ या पीठिका द्वारा आधृत (supported) होती है ।
  • pegmatite -- पेग्माटाइट
अति दीर्घ आकार के क्रिस्टलों से युक्त एक अत्यधिक स्थूल गठन वाला आग्नेय शैल, जो सामान्यतः किसी महास्कंध (batholith) के सीमांत पर निर्मित होता है । इसकी संरचना अभिलक्षणिक रूप से आलेखमय होती है । कुछ पेग्माटाइट शैलों में लिथियम, बोरोन, फ्लोरीन, नायोबियम, टैन्टेलम, यूरेनियम जैसे तत्वों से समृद्ध विरल खनिज पर्याप्त मात्रा में मिलते हैं ।
  • pegmatitic texture -- पेग्माटाइटिक गठन
वह अन्तर्वृद्धी (inter growth) गठन जिसमें दो घटक एक दूसरे को परस्पर वेधित करते हैं ।
  • pegmatization -- पेग्माटाइटीभवन
पेग्माटाइट का निर्माण, समावेशन (introduction) या उसके द्वारा प्रतिस्थापन का प्रक्रम ।
  • pegmatoidal rock -- पेग्माटाइडाभ शैल
वह आग्नेय शैल जिसका गठन पेग्मेटाइट की तरह स्थूल कणिक होता है किन्तु उसमें आलेखी अन्तर्वृद्धियां नहीं होतीं ।
  • pelagic -- अम्बुधी, पैलेजिक
(क) समुद्र-अधस्तल से भिन्न सागरी जल से संबंधित ।
(ख) सीधे भूमि से व्युत्पन्न अवसादों से भिन्न गभीर सागरी अवसादों से संबंधित ।
  • pelagic deposit -- अम्बुधी निक्षेप, पैलेजिक निक्षेप
गंभीर सागर में निर्मित तथा निक्षेपित पदार्थ । उदाहरणार्थ, सिंधु पंक ।
  • pelite -- मृदाश्म
‘mudstone’ का समानार्थी ।
  • pelolithic -- पेलोलिथिक
“argrillaceous” का पर्यायवाची ।
  • pencil structure -- पेन्सिल संरचना
शैलों में एक रैखिक संरचना जिसकी उत्पत्ति विदलन एवं संस्तरण तलों के प्रतिच्छेदन (intersection) से होती है ।
  • penecontemporaneous deformation -- समकालीनप्राय विरूपण
अवसादों में होने वाला विरूपण जो उसके निक्षेपण के तुरन्त बाद या उसके संपिडन से पहले होता है ।
  • peridotite -- पेरिडोटाइट
आग्नेय शैलों के वर्ग का एक शैल जो ओलीविन तथा सामान्यतः अन्य लोह मैग्नीश्यिमी खनिजों से संघटित होता है किन्तु इसमें फेल्डस्पार बहुत कम मात्रा में अथवा बिल्कुल ही नहीं होता । इस प्रकार के शैल डाइकों अथवा लघु अन्तर्वेधी शैल पिण्डों में मिलते हैं ।
  • peritectic point -- परक्रांतिक बिन्दु
मैग्मा के क्रिस्टलन प्रक्रिया में एक निश्चर (invarient) बिन्दु जिस पर द्रव अवस्था का रासायनिक संघटन ठोस अवस्था के रासायनिक संघटन से भिन्न होता है ।
  • perlite -- पर्लाइट
परलिटिक संरचना प्रदर्शित करने वाला ज्वालामुखीय काच जिसमें असंख्य सकेन्द्री दरारें होती हैं ।
  • perlitic structure -- मुक्ताभ दरारी संरचना, परलिटिक संरचना
काचीय तथा विकाचित (devitrified) आग्नेय शैलों में शीतलन के दौरान संकुचन से उत्पन्न अनियमित, गोलाकार, उपगोलाकार, वक्रित दरारों का समुच्चय । इस प्रकार की संरचना सामान्यतः प्राकृतिक काच में पायी जाती है किन्तु यह यदाकदा क्वार्ट्ज और अन्य अविदलनीय (non-cleavable) खनिजों में भी मिलती है ।
  • permeability -- पारगम्यता
शैल का वह गुण या उसकी क्षमता जिससे तरल पदार्थ और गैसे उसमें से होकर गुजर सकती हैं । शैलों की परगम्यता की मात्रा उनके रंध्रों के प्रमाप तथा आकार एवं रंध्रों के अन्तरायोजकों (interconnections) के प्रमाप और आकार तथा विस्तार पर निर्भर करती हैं ।
  • permeable -- पारगम्य
उन शैलों या मृदाओं से संबंधित जिनका गठन इस प्रकार का होता है कि द्रव या गैसें उनके आर-पार संचरित हो सकती हैं ।
  • persilicic rocks -- अधिसिलिक शैल
वे आग्नेय शैल जिनमें सिलिका की मात्रा 60 प्रतिशत से अधिक होती है ।
  • petroblastic rock -- पेट्रोब्लास्टी शैल
मैग्मीय शैलों के समान संरचना वाले शैल जिनकी उत्पत्ति ठोस अवस्था में अणुओं के अभिगमन के कारण होती है ।
  • petroblastic texture -- पेट्रोब्लास्टी गठन
कायान्तरण के दौरान विकसित एक विशेष गठन जो आग्नेय शैलों के गठन से मिलता-जुलता है ।
  • petrochemistry -- शैल रसायन
शैल का रासायनिक अध्यन ।
  • petrofabric analysis -- शैल संविन्यासी विश्लेषण
शैल की आन्तरिक संरचना के संविन्यास का अध्ययन ।
  • petrogenesis -- शैलजनन, शैलोत्पत्ति
शैलिकी (petrology) की वह शाखा जो शैलों की विशेषतया आग्नेय शैलों की उत्पत्ति की विवेचना करती है ।
  • petrogenetic grid -- शैल जननिक ग्रिड
खनिज स्थिरता को दर्शान वाला संतुलन वक्र रेखाओं द्वारा निर्मित एक आरेख जिसके निर्देशांक शैल निर्माणकारी पर्यावरण के पैरामीटर (जैसे ताप, दाब आदि) होते हैं ।
  • petrography -- शैल वर्णना
शैलों का सूक्ष्मदर्शी अध्ययन एवं उनका क्रमबद्ध वर्गीकरण ।
  • petrographic province -- सजातीय शैल-क्षेत्र
वह प्राकृतिक क्षेत्र या प्रदेश जिसके कुछ या सभी आग्नेय शैल समोद्भवी (consanguineous) या एक ही जनक मैग्मा से व्युत्पन्न माने जाते हैं ।
  • petrologist -- शैलवेत्ता, शैलविज्ञानी
शैल-विज्ञान में विशेषज्ञता रखने वाला भूविज्ञानी ।
  • petrology -- शैलविज्ञान, शैलिकी
वह विज्ञान जो शैलों की उत्पत्ति, प्राप्ति, संरचना, उनके इतिहास, रासायनिक संघटन तथा वर्गीकरण की विवेचना करता है ।
  • phacolith -- फैकोलिथ
वलित अवसादी संस्तरों में लगभग अनुस्तरी (concordant) रूप से अन्तर्वेधित, लेन्स के आकार का आग्नेय शैल-पिण्ड जिसकी मोटाई अपनतियों (anticlines) और अभिनतियों (synclines) के अक्ष के अनुदिश अधिकतम होती है ।
  • phaneritic -- दृश्यक्रिस्टली
शैलों के गठन से संबंधित एक शब्द जो उन आग्नेय शैलों के लिए प्रयुक्त होता हैं जिनमें सभी अनिवार्य खनिजों के क्रिस्टल बिना किसी लेन्स की सहायता से केवल आंखों से ही देख कर पहचाने जा सकते हैं ।
  • phanerocryst -- दृश्यक्रिटल
देखिए ‘phenocryst’
  • phase rule -- प्रावस्था नियम
किसी रासायनिक संतुलन तंत्र में स्वतंत्रता की कोटी को दर्शाने वाला नियम जिसके अनुसार स्वतंत्रता की कोटियों का मान घटकों व प्रावस्थाओं की संख्याओं के अन्तर से दो अधिक होता है (F=C=P+2) । (P=प्रावस्था संख्या, C=घटक संख्या और F=स्वतन्त्रता की कोटि) ।
  • phenoblast -- फेनोब्लास्ट
ऊष्मा गतिक कायान्तरी शैलों में (जिनका बाह्य रूप कूटपॉर्फिरिटी होता है) मिलने वाले स्वब्लास्टिक (idioblastic) क्रिस्टलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • phenoclast -- फेमनोक्लास्ट
अवसादों या अवसादी शैलों की सूक्ष्म गठित आधात्री में अन्तःस्थापित बड़े साइज की सुस्पष्ट गोलाश्मिकाओं (cobbles) या गुटिकाओं (pebbles) के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • phenocryst -- लक्ष्यक्रिस्टल
पॉर्फिरिटिक शैलों में वे क्रिस्टल जो अपने आसपास के अन्य खनिज-क्रिस्टलों से सुस्पष्टतः बड़े आकार के होते हैं ।
  • phonolite -- फोनोलाइट, ध्वनि प्रस्तर
नेफलीन-सायनाइट का समतुल्य एक बहिर्वेधी शैल (extrusive rock) जिसके प्रमुख खनिज सोडा ऑर्थोक्लेज या सैनीडीन है तथा अन्य मुख्य खनिज नेफलिन और एजीरीन-डायोप्साइड हैं जिनके साथ कुछ फेल्सपैथायड खनिज भी मिल सकते हैं । ऐपाटाइट तथा स्फीन इस शैल में गौण खनिज के रूप में मिलते हैं ।
  • phosphatic nodules -- फॉस्फेटी ग्रंथिका
धूसर, काले, भूरे रंग के फॉस्फेट युक्त गोल पिण्ड जो विभिन्न समुद्री निक्षेपों में मिलते हैं और वर्तमान समय में भी समुद्र की तली पर निर्मित हो रहे हैं ।
  • phosphate rock -- फॉस्फेट शैल
कैल्सियम फॉस्फेट से संघटित अवसादी शैल ।
  • phreatic water -- अधोभौमजल
भौमजल (underground water) का समानार्थी, यद्यपि मूलतः यह शब्द एक भिन्न अर्थ में प्रयोग में लाया जाता था ।
  • phyllite -- फाइलाइट
एक मृणमय कायान्तरित शैल जिसमें शैल-विदलन स्लेट और शिस्ट के बीच का होता है । यह शैल समान्यतः शेल तथा टफ़ के प्रादेशिक कायान्तरण से निर्मित होता है ।
  • picrite -- पिक्राइट
असितवर्णी (dark colour) अधिवितलीय शैल जो प्रचुर मात्रा में ऑलिवीन के साथ पाइरॉक्सीन, बायोटाइट और सम्भवतः ऐम्फिबोल तथा 10 प्रतिशत से कम प्लोजियोक्लेस से युक्त होता है ।
  • piedmont deposits -- गिरिपद निक्षेप
पर्वत की तलहटी में निर्मित निक्षेप । इनमें स्थूलकणिक पदार्थ जैसे संगुटिकाश्म, संकोणाश्म सूक्ष्मकणिक अवसादों के साथ अन्तरास्तरित (interbedded) होते हैं ।
  • piezocontact metamorphism -- बलसंस्पर्श कायांतरण
संस्पर्श कायान्तरण की प्रक्रिया जो पर्वतन के दौरान अन्तर्वेधन (intrusion) के कारण विकसित होती है ।
  • pinch and swell structure -- संकोच एवं स्फीति संरचना
विरूपण के दौरान क्वार्ट्ज़ शिरा के विभिन्न भागों के खिचाव के कारण उनके पतले एवं मोटे होने से बनी संरचना । ऐसी संरचना क्रॉस काट में मोती की लड़ी सी दिखती है ।
  • pisolite -- पिसोलाइट
(क) संकेन्द्रीय रूप से स्तरित आन्तरिक संरचना से युक्त 2 मिoमीo व्यास से अधिक का गोलाभ या दीर्घवृत्तज कण ।
(ख) अधिकांशतः लगभग मटर के साइज पिसोलाइटों से संघटित चूनाश्म ।
  • pisolith -- पिसोलिथ, मटराश्म
अवसादी शैलों में रासायनिक या जैव रासायनिक क्रिया द्वारा निर्मित मटर के आकार के कण । बहुधा यह शब्द पिसोलाइट के अर्थ में भी प्रयुक्त होता है ।
  • pisolitic -- पिसोलाइटीक
मटर सदृश्य गोल कणों से युक्त ।
  • pisolith sinter -- पिसोलिथ सिन्टर
गर्म पानी के सोतों के समीप निर्मित मटराश्मी कैल्सियमी निक्षेप ।
  • pit and mound strcuture -- गर्त पिंडक संरचना
गाढ़े पंक के स्थिरण के दौरान गैसों के निष्कासित बुलबुलों से निर्मित अवसादी टीलानुमा (1 मिली मीटर ऊंचा और 1/12 मिली मीटर व्यास की) संरचना । इस संरचना का ऊपरी भाग सूक्ष्म क्रेटर (1 मिली मीटर व्यास) जैसा होता है ।
  • pitch stone -- पिच स्टोन
एक ज्वालामुखीय काच (volcanic glass) जिसकी द्युति (lustre) मोम जैसी रेड़नी (resinous) होती है । इसका रंग और संघटन अत्यधिक विचरणशील होता है, इसमें ऑब्सीडियन की अपेक्षा जल की प्रतिशत मात्रा अधिक होती है ।
  • plateau basalt -- पठारी बेसाल्ट
अतीत भूवैज्ञानिक काल में विदर-उद्भेदनों (fissure-eruptions) से विशाल मात्रा में निकले हुए अपेक्षतया प्रवाही बेसाल्टी लावा का संचय जिससे भू-पृष्ठ के कई बड़े-बड़े क्षेत्र बहुत बड़े पैमाने पर ढक गए ।
  • pleochroic -- बहुवर्णी
बहुवर्णता से संबंधित या बहुवर्णता लिए हुए ।
  • pleochroic haloes -- बहुवर्णी परिवेश
बायोटाइट, टूरमैलीन तथा कुछ अन्य खनिजों में रेडियो ऐक्टिव खनिजों के अन्तर्वेशों (जैसे ज़रकान) के चारों ओर गहरे रंग के लघु, संकेन्द्री, गोल मण्डल ।
  • pleochroism -- बहुवर्णता
ध्रुवित प्रकाश में खनिजों की विभिन्न रंग प्रदर्शित करने का एक गुण जो उनमें विभिन्न तलों में कंपमान प्रकाश के असमान अवशोषण के कारण होता है ।
  • plug (volcanic) -- प्लग (ज्वालामुखीय)
ज्वालामुखी द्वार (volcanic vent) को अवरूद्ध करने वाला आग्नेय शैल-पिण्ड जिसमें ज्वल खण्डाश्मी (pyroclastic) पदार्थ भी हो सकते हैं ।
  • pluton -- प्लूटॉन
भूपृष्ठ के नीचे मैग्मा के संपिडन से बना हुआ किसी भी साइज या आकार का, विशेष रूप से एक बड़े आकार का आग्नेय शैल-पिड ।
  • plutonic -- वित्तलीय
उन आग्नेय शैलों के लिए प्रयुक्त एक सामान्य शब्द जो भूपृष्ठ के नीचे अधिक गहराइयों पर संपिडित और क्रिस्टलित हुए हों । इस प्रकार के शैलों का गठन सामान्यतः ग्रेनाइटी होता है ।
  • plutonic metamorphism -- वितलीय कायांतरण
वितलीय क्षेत्रों में उच्च कोटि का कायान्तरण जिससे ग्रेनोलाइटी गठन वाले शैल विकसित होते हैं । यथा : ग्रैनोलाइट, चार्नोकाइट, एक्लोजाइट ।
  • plutonic rock -- वितलीय शैल
पूर्णक्रिस्टलीय, कर्णिक गठन वाला आग्नेय शैल (जैसे ग्रेनाइट) जो भू-पृष्ठ के नीचे अधिक गहराइयों पर संपिडित होता है ।
  • pneumatolysis -- बाष्पखनिजन
संपिडित हो रहे आग्नेय शैलों से गैसों और बाष्पों के प्रसर्जन (emanation) के दौरान या उसके फलस्वरूप, शैलों का रूपान्तरण तथा खनिजों का निर्माण ।
  • pneumatolytic-contact metamorphic rock -- उष्णबाष्पीय संस्पर्श-कायांतरण शैल
वह संस्पर्श-कायान्तरित शैल जिसका निर्माण मुख्यतः बाष्प खनिजन (pneumatolysis) की प्रक्रिया से होता है ।
  • pneumatolytic metamorphism -- उष्णबाष्पीय कायांतरण
वह संस्पर्श-कायान्तरण जिसमें खनिजीय परिवर्तन अधिकांशतः आग्नेय पिडों से निकलने वाली गैसों की रासायनिक सक्रियता के परिणामस्वरूप होता है ।
  • poikilitic -- प्वॉयकिलिटिक
आग्नेय शैलों की गठन से संबंधित एक शब्द जिसमें छोटे-छोटे क्रिस्टल अन्य बड़े-बड़े खनिज-क्रिस्टलों में विभिन्न स्थितियों में बिखरे हुए पड़े रहते हैं ।
  • poikiloblastic texture -- प्वॉयकिलोब्लास्टिक गठन
कायान्तरित शैल का वह गठन जो आग्नेय शैलों के पॉयकिलिटिक (छींट जैसी) गठन सदृश्य होता है । यह गठन पुनः क्रिस्टलन के दौरान मूल खनिज अवशेषों के इर्दगिर्द नवीन खनिजों के निर्माण के फलस्वरूप विकसित होता है ।
  • poikilophitic texture -- प्वॉयकिलोफिटिक गठन
ओफाइटी गठन की एक किस्म जिसमें प्लैजिओक्लेस के लैथ पाइरॉक्सीन आधात्री में केवल मात्र वेधित न होकर उसमें पूर्णरूप से समाविष्ट रहते हैं ।
  • polygonal strcuture -- बहुभुजी संरचना
कुछ क्वार्ट्जाइट शैलों की मोजेक संरचना जिसमें क्रिस्टल सीमाओं का संयोजन उनकी अन्तर्ग्रथन प्रक्रिया के दौरान एक त्रिविदुकी संगम जैसा होता है ।
  • polymetamorphism -- बहुकायांतरण
विभिन्न कायान्तरण-प्रावस्थाओं से घटित होने वाला कायांतरण ।
  • porphyritic -- पॉर्फिराइटीक, दीर्घ क्रिस्टल अन्तर्वेशी
(क) पॉर्फिरी से संबंधित ।
(ख) उन आग्नेय शैलों के लिए प्रयुक्त एक गठनीय (textural) शब्द जिनमें दीर्घाकार क्रिस्टल (phenocrysts) एक सूक्ष्म आधात्री (groundmass) में अन्तःस्थापित होते हैं जो कि क्रिस्टलीय या काचीय अथवा दोनों ही सकती हैं ।
  • porphyroblast -- पॉर्फिरोब्लास्ट
कायान्तरिक पुनः क्रिस्टलन से निर्मित कूटपॉर्फिराइटी क्रिस्टल ।
  • porphyroclast -- पॉर्फिरोक्लास्ट
कायान्तरित शैलों में अपदलनी विरूपण से उत्पन्न बड़ा कोणीय या मसूराकार अवशिष्ट क्रिस्टल जो एक सूक्ष्मणिक आधात्री से घिरा होता है ।
  • porphyroclastic texture -- पॉर्फिरोक्लास्टिक गठन
सूक्ष्मकणिक आधात्री में पॉर्फिरोब्लास्टिक क्रिस्टलों से निर्मित गठन ।
  • porphyry -- पॉर्फिरी
ग्रेनाइटी संघटन का वितलीय शैल (plutonic rock) जिसमें स्फटिक या क्षार-फेल्सपार अथवा दोनों के फेनोक्रिस्ट (लक्ष्यक्रिस्टल) एक सूक्ष्म कणिक आधात्री में अन्तःस्थापित होते हैं जो कि क्रिस्टलीय या काचीय अथवा दोनों ही हो सकती हैं ।
  • pressure-fluxion structure or texture -- दाब-प्रवाही संरचना या गठन
एक प्रकार की द्वितीयक संरचना जो दाब के प्रभाव में शैल-प्रवाह से उत्पन्न होती है ।
  • primary mineral -- प्राथमिक खनिज, मूल खनिज
वह खनिज जिसकी उत्पत्ति उसको धारण करने वाले शैल के साथ-ही-साथ हुई हो और जो अपने मूल रूप एवं संघटन को बनाए रखता है ।
  • primary rocks -- मूल शैल
सर्वप्रथम निर्मित हुए माने जाने वाले शैल जिनमें किसी भी प्रकार के जैव अवशेष नहीं मिलते ।
  • prismatic granular texture -- प्रिज़मीय कणिकीय गठन
कुछ शैलों का पूर्णस्वरूपी (panidiomorphic) कणिकीय गठन जिसमें घटक खनिजों का आकार प्रिज़मीय होता है ।
  • progressive metamorphism -- प्रगामी कायांतरण
किसी भूभाग (terrain) में निम्न से उच्च कोटि के कायांतरण प्रक्रिया की ओर अग्रसित होने का प्रक्रम ।
  • provenance -- उद्गम क्षेत्र, जनक क्षेत्र
वह शैल-प्रदेश या जनक शैल जिससे अवसादों का कोई वर्ग व्यत्पन्न होता हो ।
  • psammite -- बालूकाश्म
बालू के परस्पर संयोजित कणों से निर्मित शैल । बलुआपत्थर ।
  • psephite -- गुटिकाश्म
गोलित गुटिकाओं से निर्मित स्थूल, खण्डमय शैल, उदाहरणार्थः-संगुटिकाश्म ।
  • pseudocataclastic texture -- आभासी अपदलनी गठन
प्रतिस्थापन उत्पत्ति का एक द्वितीयक गठन जिसका निर्धारण उष्णजलीय मूल के नवनिर्मित खनिजों द्वारा होता है ।
  • pseudofluidal texture -- आभासी प्रवाही गठन
यूरेलाइट शैलों में विकसित गठन जिसमें हॉर्नब्लैण्ड क्रिस्टल यूरेलाइट क्रिस्टलों के चारों ओर लिपटे रहते हैं ।
  • pulverite -- पल्वेराइट
सिल्ट या मृत्तिका पुंजों से निर्मित अखण्डज (non-clastic) अवसादी शैल ।
  • pumice -- झांवा
सामान्यतः रायोलाइटी संघटन का एक सफेद या भूरा तथा कोशिकामय (cellular) काचाभ लावा जो वज़न में अत्यन्त हल्का होता है ।
  • pumicite -- प्यूमिसाइट
एक प्रकार की ज्वालामुखीय राख या धूलि जो सफेद से लेकर भूरे तक के रंगों में मिलती है । इसका संघटन झांवा सदृश्य होता है और वह अपघर्षक प्रयोजनों में प्रयुक्त होता है ।
  • pyroclastic rock -- पाइरोक्लास्टीक शैल, ज्वलखंडाश्मी शैल
खण्डमय ज्वालामुखी शैल यथा-ज्वालामुखी-भस्म, टफ और संज्वालाश्म (agglomerate) ।
  • pyromorphism -- उत्ताप कायांतरण
अत्यधिक ऊष्मा द्वारा कायान्तरण ।
  • pyroxene-hornblende facies -- पॉइरॉक्सीन-हार्नब्लेण्ड संलक्षणी
उच्च कोटि कायान्तरण की विशेष संलक्षणी जिसके विशिष्ट खनिज घटक डायोप्साइड, हाइपरस्थीन, प्लेजियोक्लेस होते हैं ।
  • pyroxenite -- पाइरॉक्सीनाइट
स्थूल कर्णिक, अतिमैफिक आग्नेय शैल जो अनिवार्यतः एक या अधिक पाइरॉक्सीन खनिजों से संघटित होता है ।
  • quartz arenite -- क्वार्ट्ज् एरीनाइट
आर्थोक्वार्ट्ज़ाइट (orthoquartzite) का पर्यायवाची शब्द ।
  • quartzite -- क्वार्ट्ज़ाइट
क्वार्ट्ज से संघटित एक संहत कायान्तरिक शैल जो सामान्यतः बालुकाश्म के कायान्तरण से निर्मित होता है । इस शैल में कोई शैल-विदलन नहीं होता ।
  • quartzwacke -- क्वार्ट्जवैके
मध्यम रूप से सुप्रवरित (well sorted) एक सूक्ष्मकणिक बलुआपत्थर जिसमें 90 प्रतिशत तक क्वार्ट्ज एवं चर्ट तथा 10 प्रतिशत से अधिक मृणमय मैट्रिक्स (आधात्री) होता है । मैट्रिक्स में 10 प्रतिशत तक शैल-खण्ड एवं फेल्डस्पार होते हैं ।
  • quick sand -- चोर रेत, बालुपंक
जल से संतृप्त बालुका-संहति जिसमें कोई भी भारी वस्तु सरलता पूर्वक नीचे धंस जाती है ।
  • quartz-porphyry -- क्वार्ट्ज़ पार्फ़िरी
पॉर्फिराइटी गठन वाला एक बहिर्वेधी (extrusive) अथवा अधिवितलीय (hypabyssal) शैल जिसमें क्वार्ट्ज और क्षार फेल्डस्पार के लक्ष्यक्रिस्टल क्रिस्टलीय (microcrystalline) अथवा गढ़क्रिस्टलीय आधात्री में अन्तःस्थापित रहते हैं ।
  • radial dykes -- अरीय डाइक
वे डाइक जो किसी उद्गारी केन्द्र से बाहर की ओर निकलते हैं ।
  • radiolarian chert -- रेडियोलेरियन चार्ट
सुविकसित सिलिकामय सीमेन्ट अथवा आधात्री वाला सुसंस्तरित और सूक्ष्मक्रिस्टलित रेडियोलेराइट ।
  • radiolarian earth -- रेडियोलेरियन मृदा
रेडियोलेरिया के अवशेषों से संघटित एक सिलिकामय मृदा (रेडियोलराइट का असंपिडित प्ररूप) ।
  • radiolarian ooze -- रेडियोलेरीय निपंक
गहरे समुद्रों के अघस्थल पर पाया जाने वाला एक सिलिकामय पंक जो अधिकांशतः रेडियोलेरिया के कंकाली अवशेषों से संघटित होता है ।
  • radiolarite -- रेडियोलेराइट
रेडियोलेरियन मृदा का संपिण्डित (consolidated) प्ररूप जो अपेक्षाकृत कठोर और सूक्ष्मकणिक चर्ट जैसा होता है ।
  • rain drop impression -- वर्षा-बिन्दु चिह्न
वर्षा की बूंदों के आघात से मृदु अवसादों (सूक्ष्मकणिक बालू, सिल्ट और मृदा) पर निर्मित क्रेटरनुमा छोटा और उथला गर्त जिसकी परिधि उभरी हुई होती है ।
  • rain imprint -- वर्षा चिह्न
सूक्ष्म बालुओं, पंकों तथा मत्तिकाओं में वर्षा-बिन्दु के समाघात से निर्मित छोटा, छिछला, वृत्ताकार गर्त । इस प्रकार के गर्त कभी-कभी अवसादी शैलों के संस्तरण तलों पर परिरक्षित रह जाते हैं ।
  • rapakivi texture -- रापाकिवी गठन
आग्नेय तथा कायान्तरित शैलों में एक प्रकार का पॉर्फिराइटी गठन जिसमें कुछ सेंटीमीटर व्यास वाले पोटैशियम फेल्डस्पार के गोल लक्ष्य क्रिस्टल एक सूक्ष्मकणिक आधात्री में सोडियम फेल्सपार के प्रावार से घिरे रहते हैं ।
  • reaction border -- अभिक्रिया सीमांत
अभिक्रिया नेमि (reaction rim) का समानार्थी ।
  • reaction rim -- अभिक्रिया नेभि
एक खानज के ऊपर किसी दूसरे खनिज का बाह्य मण्डल जो पूर्वनिर्मित संपिडित खनिज और मैग्मा की अभिक्रिया के परिणाम स्वरूप निर्मित होता है ।
  • reaction series -- अभिक्रिया माला
मैग्मा के शीतलन एवं क्रिस्टल के दौरान रासायनिक अभिक्रिया द्वारा एक के बाद एक निर्मित (और एक के बाद एक विलुप्त) खनिजों की एक श्रेणी ।
  • reaction skarn -- अभिक्रिया स्कार्न
आक्रामी (invading) मैग्मा तथा स्थानीय शैलों के मध्य पदार्थों के परस्पर विनिमय (exchange) के फलस्वरूप निर्मित स्कार्न ।
  • recrystallization -- पुनः क्रिस्टलन
किसी शैल में नए खनिज-क्रिस्टलों का निर्माण जो शैल की ठोस अवस्था में भी हो सकता है । इस प्रक्रिया में नवीन क्रिस्टलों का रासायनिक तथा खनिजीकीय संघटन वही बना रह सकता है जैसा कि मूल शैल में था अथवा इसके विपरीत पूर्णतः नवीन खनिजों के क्रिस्टलों का भी निर्माण हो सकता है ।
  • recrystallization metamorphism -- पुनः क्रिस्टलन कायांतरण
कायांतरण की वह प्रक्रिया जिसमें नवीन खनिजों का निर्माण न हो कर केवल पुनःक्रिस्टलन ही होता है ।
  • recrystallization replacement -- पुनः क्रिस्टलन प्रतिस्थापन
वह प्रक्रिया जिसमें पुनःक्रिस्टलन के साथ-साथ तत्वान्तरण भी होता है ।
  • red bed -- लाल संस्तर
अधिकांशतः बलुआपत्थर, सिल्टस्टोन, शेल (shale) और कहीं कहीं पर लाल रंग के संगुटिकाश्म, चूनापत्थर एवं मार्ल के स्थानीय पतले एककों से संघटित अवसादी संस्तर । इसमें कम से कम 60 प्रतिशत संस्तर फेरिक ऑक्साइड के आवरण के कारण लाल रंग के होते हैं । इसकी उत्पत्ति प्रायः स्थलीय होती है ।
  • red clay -- लाल मृत्तिका
लाल, भूरे अथवा चाकलेटी रंग की पैलेजिक मृदा । इसका निर्माण सागर की बड़ी गहराइयों में अवसादों की धीमी गति के संचयन से होता है ।
  • red earth -- लाल मृदा
उष्ण कटिबन्धीय (tropical) जलवायु में विशिष्ट रूप से पाई जाने वाली गहरे लाल रंग की निक्षालित (leaching) मृदा के लिए एक सामान्य नाम ।
  • red mud -- लोहित पंक
गभीर सागरों के अधस्तल पर मिलने वाला एक सूक्ष्ममृत्तिका-निक्षेप जिसका लाल-भूरा रंग लौह ऑक्साइड के कारण होता है । इसमें 25% तक CaCO3 भी हो सकता है ।
  • reef -- 1. शैल-भित्ति 2. रीफ
1. जल की सतह के ऊपर या उसके निकट तक स्थित शैलों की एक श्रृंखला या बालू का कटक ।
2. रीफ निर्माणकारी प्राणियों (जैसे प्रवाल, शैवाल आदि) के अवशेषों से बना हुआ भित्ति सदृश्य अवसादी शैल ।
  • reef limestone -- भित्ति चनाश्म
वह चूना पत्थर जो प्रवाल, स्पंज तथा ब्रायोजूआन जैसे रीफ निर्माणकारी जीवों के अवशेषों से निर्मित होता है ।
  • regional metamorphism -- प्रादेशिक कायांतरण
स्थानीय कायांतरण से भिन्न कायांतरण की ऐसी प्रक्रिया जिसमें किसी बड़े भूभाग की पर्पटी का अधिकांश क्षेत्र निम्न से उच्च कोटि के कायांतरण से प्रभावित होता है ।
  • released mineral -- निर्मुक्त खनिज
मैग्मा के क्रिस्टलन के दौरान उसकी किसी पूर्व प्रावस्था का उसके द्रव के साथ अभिक्रिया करने में असमर्थ होने के परिणामस्वरूप निर्मित खनिज । इस प्रकार पूर्व निर्मित ऑलिवीन जब मैग्मा के द्रव भाग से अभिक्रिया करने में असफल होकर पाइरॉक्सीन का निर्माण नहीं कर पाता तो उसके परिणामस्वरूप द्रव सिलिका से समृद्ध हो जाता है जो अन्ततोगत्वा क्रिस्टलित होकर क्वार्ट्ज निर्मित कर देता है जिसे निर्मुक्त खनिज की संज्ञा दी जाती है ।
  • relict (structure, texture) -- अवशिष्ट (संरचना, गठन)
वे खनिज संरचनायें व गठन जो शैल निर्माण के बाद हुई विभिन्न प्रक्रियाओं से अप्रभावित बच निकलने में समर्थ रही हों ।
  • relict texture -- अवशिष्ट गठन
खनिज निक्षेपों में वह मूल गठन जो आंशिक अथवा पूर्ण प्रतिस्थापन के पश्चात् भी शेष रह जाता है ।
  • replacement -- प्रतिस्थापन
परिवहन और निक्षेपण के लगभग साथ-साथ होने वाला ऐसा प्रक्रम जिसके द्वारा किसी पुराने खनिज-पिंड या खनिज समुच्चय पर अंशतः या पूर्णतः भिन्न रासायनिक संघटन का कोई नया खनिज निर्मित हो जाता है ।
  • retrograde metamorphism -- पश्चगतिक कायांतरण
वह कायांतरण जिसमें कुछ भौतिक परिस्थितियों में उच्च कायान्तरण कोटि के खनिज निम्न कायान्तरण कोटि के खनिजों में परिवर्तित हो जाते हैं ।
  • relief metamorphism -- राहत कायांतरण
स्थैतिक कायान्तरण का वह प्रकार जिसमें उच्च दबाव वाले क्षेत्र के शैल निम्न दबाव की ओर आगे बढ़ते हैं ।
  • rhythmic layering -- आवर्ती स्तरण
कुछ आग्नेय अन्तर्वेधों में विकसित एक प्रकार का सुस्पष्ट पुनरावृत्त स्तरण जिसमें प्रत्येक क्रमबद्ध परत की खनिजिकी इतनी भिन्न होती है कि उन्हें अलग अलग शैल नाम दिया जा सकता है ।
  • rhythmite -- रिदमाइट, आवर्ताश्म
अवसादी आवर्ती अनुक्रण की एक इकाई । उदाहरणार्थ :- चक्रीय निक्षेप (cyclothem deposit) ।
  • rhythmic sedimentation -- आवर्ती अवसादन
देखिए : ‘cyclic sedimentation’
  • rib and furrow -- रिब एवं खाँच
अवसादों की ऊपरी सतह पर दिखाई देनी वाली चापाकार संरचना जो कटक (ridge) और द्रोणी (basin) के समुच्चय होते हैं ।
  • Riecke’s principle -- रीके सिद्धांत
रीके द्वारा प्रतिपादित उष्मागतिक सिद्धांत जो कायान्तरिण शैलों में पुनःक्रिस्टलन से उत्पन्न खनिज आकार में परिवर्तन से संबंधित है । इसमें खनिज घोल अत्यधिक बाह्य दाब पर बनता है, जबकि क्रिस्टलन न्यूनतम दाब बिन्दुओं पर होता है ।
  • ring dyke -- वलय डाइक
प्रवण नति वाली चापाकार डाइक जो कभी-कभी लगभग वृत्त के आकार की भी हो सकती है ।
  • ripple bedding -- ऊर्मिका संस्तरण
लघु ऊर्मिका चिह्रों से युक्त संस्तरण पृष्ठ ।
  • ripple cross lamination -- ऊर्मिका क्रॉस संस्तरण
छोटे ऊर्मिका चिह्रों द्वारा निर्मित क्रॉस संस्तरण की छोटी इकाइयां ।
  • ripple mark -- ऊमिका चिह्र
असंपिडित कणिक पदार्थों में वायु, जल-धाराओं तथा तरंगों की प्रक्षोभन क्रिया से निर्मित वलियां ।
  • rock -- शैल, चट्टान
विभिन्न प्रकार के खनिज-पदार्थों का एक संसक्त अथवा असंसक्त समुच्चय या संहति जो प्राकृतिक रूप से निर्मित होती है तथा जिससे भूपर्पटी के अधिकांश भाग की रचना होती है ।
  • rock flowage -- शैल प्रवाह
शैलों की प्रत्यास्थ पुनराप्ति (elastic recovery) की सीमा से परे प्रतिबल से प्रभावित विरूपण की वह अवस्था जिसमें प्लैस्टिकता (आणविक प्रावह), कणीभवन (अल्पतः अन्तराली विभंजन), विसर्पण (विदलन तलों पर) अथवा पुनः क्रिस्टलन आदि सभी कुछ हो सकता है ।
  • rock formation -- शैलसमूह
स्थल मण्डल का वह कोई भाग जो उसके अन्य भागों से आश्मिक, संरचनात्मक तथा जननिक रूप से स्पष्टतः भिन्न होता है ।
  • rotational strain or deformation -- घूर्णात्मक विकृति या विरूपण
एक ऐसी विकृति जिसमें मुख्य विकृति अक्षों का अभिविन्यास विरूपण के कारण धूर्णित हो जाता है ।
  • roundness -- गोलाई, वर्तुलत्व
खण्डीय कणों का वह गुण जो उसके किनारों और कोनों से संबंधित होता है । प्रयोग में यह दो विमाओं में मापा जाता है जो कि महत्तम अन्तवृत्त (maximum inscribed circle) तथा कोनों के औसत व्यास के मध्य अनुपात का द्योतक है ।
  • rubble -- रबल
(क) अनियमित आकार के क्रोणीय शैल-खण्ड ।
(ख) कोणीय शैल खण्डों का असंपिडित संचय ।
  • rudite -- गुटिकाश्म
खण्डमय अवसादी शैल जिसके खण्ड रेणु कणों (sand grains) की अपेक्षा स्थल होते हैं ।
  • salic -- सैलिक
अंग्रेजी में “सिलिका” और “ऐलूमिना” शब्दों के आदि अक्षरों को मिला कर एक गढ़ा हुआ शब्द जो आग्नेय शैलों के C.I.P.W. वर्गीकरण तन्त्र में किसी शैल के नॉर्म में उन खनिओं के लिए प्रयुक्त किया जाता है जिनमें सिलिका और एलूमिना की प्रचुरता होती है, जैसे क्वार्ट्ज़, फेल्डस्पार, फेल्सपेथॉइड तथा कोरंडम । उसका विलोम शब्द “फेमिक” है ।
  • salt dome -- लवण गुम्बद
अवसादी शैलों को भेदता हुआ गुम्बदाकार लवण पिण्ड । इसका माप कई किलोमीटर तक होता है और इसके ऊपरी आवरण शैल में अपेक्षाकृत अल्प घुलनशील वाष्पीय खनिज होते हैं ।
  • sand -- 1. बालू, रेत, सिकता 2. रेणु
1. अपरदी (detrital) अवसाद का असंपिडित संचय जो सामान्यतः क्वार्ट्ज़ के कणों से निर्मित होता है ।
2. अवसादी शैलिकी में 1/16 मिoमीo से लेकर 2 मिoमीo तक ब्यास के साइज वाले अपरदी पदार्थ ।
  • sand dune -- बालू टिब्बा
वायु की क्रिया द्वारा, असंपिडित बालू से बना से बना हुआ टीला या कटक ।
  • sand reef (sand bar) -- बालुका भित्ति
बालु की रोधिका या कटक जो नदी की धाराओं द्वारा या तटीय जल तरंगों की क्रिया से पानी की सतह तक बन जाता है ।
  • sandstone -- बालुकाश्म, बलुआ पत्थर
रेणु साइज के कणों के परस्पर संयोजन (cementation) से निर्मित एक अपरदी अवसादी शैल जो मुख्यतः क्वार्ट्ज खनिज से संघटित होता है ।
  • sanidinite facies -- सैनीडिनाइट संलक्षणी
अत्यधिक उच्च ताप तथा निम्न दाब में निर्मित कायान्तरित शैलों की संलक्षणी जिसमें सैनीडिन प्रमुख खनिज होता है और क्लाइनों इन्सटेटाइट, क्लाइनोहाइपरस्थीन तथा क्लाइनोपाइरॉक्जीन इसमें सामान्य रूप से पाये जाते हैं ।
  • schillerization -- शिलरी भवन
खनिज क्रिस्टलों में सूक्ष्म अन्तर्वेशों (inclusion) के विन्यास से प्रतिफलित उनमें शिलरों (वर्ण विलास) का विकास ।
  • schist -- शिस्ट
शल्कित (foliated) संरचना से युक्त एक कायान्तरित शैल जिसमें चपटे खनिजों की प्रचुरता होती है । यह शैल प्रादेशिक कायान्तरण के फलस्वरूप निर्मित होता है और इसमें शिस्टाभ विदलन (cleavage) होता है ।
  • schictose -- शिस्टाभ, शिस्टीय
शिस्ट के गुणों वाला, उससे मिलता-जुलता, उससे संबंधित या उसकी प्रकृति का ।
  • sthistose structure -- शिस्टाभ संरचना
देखिए : ‘schistosity’
  • schistosity -- शिस्टाभता
किसी शल्कित शैल (foliated rock) का वह गुण जिसके कारण उसे पतले पत्रकों (flakes) में विभक्त किया जा सकता है । यह गुण उसके पटलित खनिजों के विदलन तलों की समान्तरता पर निर्भर करता है जिसके कारण उसमें शल्कन (foliation) उत्पन्न हो जाता है ।
  • scoria -- स्कोरिया, सुषिर लावा
ज्वालामुखी के विस्फोटी उद्गार से उत्क्षिप्त (thrown out) रूक्ष (rough) तथा सिंडर सदृश्य स्फोटगर्ती (vesicular) लावा खण्ड ।
  • scoriaceous -- स्कोरियाई, सुषिरलावावत्
स्कोरिया सदृश्य अथवा विभिन्न प्रमापों के स्फोटगर्तों से युक्त ।
  • scour and fill structure -- निघर्ष-पूरण संरचना
अपरदनात्मक प्रणाल से युक्त एक अवसादी संरचना । यह प्रणाल सामान्यतः दीर्घ वृत्तज (ellipsoidal) होता है और बाद में अवसादों से भर जाता है ।
  • secondary mineral -- द्वितीयक खनिज, उन्तरजात खनिज
प्राथमिक खनिज के परिवर्तन से बना हुआ खनिज । इस प्रकार मूल रूप में जो सल्फाइड होते हैं वे ऑक्सीकरण से सल्फेट, कार्बोनेट तथा आक्साइडों में परिवर्तित हो जाते हैं ।
  • secondary rock -- द्वितीयक शैल, अवसादी शैल
पूर्ववर्ती शैलों से व्युत्पन्न पदार्थों से निर्मित शैल । इसके अन्तर्गत अवशिष्ट, अवसादी तथा रासायनिक एवं जीवों की क्रिया से निर्मित या संचयित शैल सम्मिलित हैं ।
  • sedentary deposits -- अनूढ निक्षेप
वे निक्षेप जो बिना परिवहित हुए स्वस्थाने निर्मित हो जाते हैं । इस प्रकार के निक्षेप सामान्यतः अधस्थ शैलों (underlying rocks) के विघटन अथवा जैव पदार्थों के संचयन से बनते हैं ।
  • sediment -- तलछट, अवसाद
(क) किसी द्रव में निलम्बन (suspension) से नीचे बैठ जाने वाला ठोस पदार्थ ।
(ख) वह ठोस पदार्थ (खनिज तथा जैव दोनों प्रकार के) जो निलम्बन की अवस्था में, अपने उद्गम स्थल से दूर वायु, जल या हिम द्वारा परिवाहित होकर भू-पृष्ट पर संचित हो जाता है ।
  • sedimentary -- तलछटी, अवसादी
(क) अवसाद से संबंधित या उससे युक्त ।
(ख) अवसाद के निक्षेपों से अथवा अवसादों द्वारा निर्मित ।
  • sedimentary rock -- अधसाती शैल
अवसाद के संचयन से निर्मित शैल जो विभिन्न प्रमापों के शैलखण्ड, प्राणियों तथा पौधों के उत्पाद या अवशेष, रासानिक क्रिया या वाष्पन के उत्पादों अथवा इन पदार्थों के मिश्रणों से युक्त होता है ।
  • sedimentation -- अवसादन
स्थल मंडल पर ठोस आश्मिक पदार्थों (खनिज तथा जैव दोनों ही प्रकार के) के निक्षेपण का प्रक्रम ।
  • segregation -- संपृथकन
सामान्य संहति से अवग होकर किसी विशेष स्थान पर एकत्रित या सांद्रित होने का प्रक्रम जैसा कि क्रिस्टलन और पिडन (solidification) प्रक्रिया में होता है ।
  • segregation foliation -- संपृथकन शल्कन
कायान्तरण प्रक्रम के दौरान खनिजों के संपृथकन से उत्पन्न शल्कित संरचना जिसके फलस्वरूप शैल में हल्के एवं गहरे की एकान्तरित समान्तर पट्टियां दिखाई देती हैं ।
  • segregation pegmatite -- संपृथकन पेग्माटाइट
खनिओं के संपृथकन से उत्पन्न पेग्माटाइट ।
  • septarium -- पटग्रन्थिका
अशुद्ध मृणमय कार्बोनेट से निर्मित लगभग गोलाकार संग्रथन जिसकी आन्तरिक संरचना अरीय विदरों से निर्मित अनियमित बहुभुजीय खंडों से युक्त होती है । इससे अरीय विदर अंशतः या पूर्णतः क्रिस्टलीय खनिजों से पूरित होते हैं तथा खनिज शिराओं के अपक्षयन के कारण इसमें पटीय रूप दृष्टिगत होता है ।
  • sequence -- अनुक्रम
भूवैज्ञानिक कालानुक्रम में घटनाओं, प्रक्रमों या शैल-समूहों का उत्तरोत्तर क्रम ।
  • shale -- शेल
एक सूक्ष्मकणिक, अपरदी, अवसादी शैल जो सिल्ट और मृत्तिका प्रमाप के कणों से बना होता है । इस शैल में मृत्तिका-खनिजों के साथ-साथ मृत्तिका तथा सिल्ट-प्रमाप के क्वार्टज, फैल्डस्पार, कैल्साइट, डोलोमाइट तथा अन्य खनिज भी होते हैं । इसमें विखण्डनीयता (fissility) विद्यमान होने के कारण, इसे पंकाश्म से भिन्न किया जा सकता है ।
  • shale oil -- शेल-तैल
बिटूमिनी शैलों के आसवन (distillation) से प्राप्त अपरिष्कृत तेल ।
  • sheet structure -- चादरी संरचना
शैलों में अनेक दीघंतिराली, समान्तर संधियों के निर्माण के फल-स्वरूप उत्पन्न संरचना जिसके कारण शैल प्लेटों या चादरों में विभक्त हो जाते हैं ।
  • shore -- तट
(क) भूमि और जल की संगम रेखा (तट रेखा) ।
(ख) जल-राशि से बिल्कुल संलग्न भूमि ।
(ग) उच्च ज्वार-चिहन और निम्न ज्वार-चिह्न के बीच का क्षेत्र ।
  • shore line -- तट रेखा
तट और जल की संगम रेखा ।
  • sial -- सिएल
सभी महाद्वीपों के अधःस्थल शैलों (underlying rocks) की एक परत जिसका संघटन मुख्यतः ग्रेनाइटी होता है, किन्तु आधार पर गैब्रोई हो सकता है । इसकी मोटाई 30-35 किoमीo आकलित की जाती है और आपेक्षिक घनत्व 2.7 माना जाता है ।
  • sialic rock -- सिऐली शैल
प्रमुखतः सिलिकान तथा ऐलुमिनम से संघटित आग्नेय शैल ।
  • sieve texture -- चालनी गठन
देखिए : ‘poikiloblastic texture’
  • sill -- सिल
आग्नेय शैल का लगभग एकसमान मोटाई वाला एक अन्तर्वेधी पिंड (intrusive body) जो पार्श्व विस्तार की तुलना में अपेक्षतया पतला होता है और आक्रांत शैलों के संस्तरण के समांतर अभिस्थापित रहता है ।
  • silt -- पांशु, गाद, सिल्ट
असंपिडित खण्डज अवसाद (clastic sediment) जिसके कणों का व्यास 1/16 मिoमीo से लेकर 1/256 मिoमीo तक होता है ।
  • silty clay -- पांशु मृत्तिका
वह चिकनी मिट्टी जिसमें 50-70 प्रतिशत तक सिल्ट होता है ।
  • sima -- सिमै
‘सिएल’ के नीचे की परत जो महासागरों की तली में मिलती है । यह परत मुख्यतः बेसाल्ट अथवा पेरिडोटाइट शैलों से बनी होती है और इसका आo घo लगभग 3 होता है ।
  • simple dyke -- एकवेधी डाइक
मैग्मा के एकल अन्तर्वेधन (single intrusion) से प्रतिफलित डाइक ।
  • simple sill -- एकवेधी सिल
मैग्मा के एकल अन्तर्वेधन से प्रतिफलित सिल ।
  • size frequency distribution -- साइज आवृत्ति बंटन
साइज के आधार पर अवसाद के खण्डज कणों का विभिन्न कोटियों में पृथक्करण (sorting) जो कि प्रत्येक साइज कोटि में कणों की प्रतिशतता (भार अथवा संख्या) से व्यक्त होता है ।
  • skarn -- स्कार्न
चूनाधारी सिलिकेटों से निर्मित शैल जो शुद्ध चूनापत्थर अथवा डोलोमाइटी चूनापत्थर से व्युत्पन्न होता है । इसमें सिलिका, एल्यूमिनियम लोहा, मैग्नीशियम के अंशों का समावेश मेटासोमैटिज्म से होता है । आरम्भ में इस शब्द का प्रयोग सिलिकेट गैग खनिजों के लिए प्रयुक्त होता था ।
  • slate -- स्लेट
एक सूक्ष्मणिक कायान्तरित शैल जिसमें स्लेटी विदलन (cleavage) बहुत अच्छी तरह विकसित रहता है । यह शैल शेल के कायान्तरण के फलस्वरूप निर्मित होता है ।
  • slaty cleavage -- स्टेली विदलन
शल्कन (foliation) का एक प्रकार जो स्लेटों में प्रारूपिक रूप से मिलता है परन्तु यह कई अन्य प्रकार के कायान्तरित शैलों में भी पाया जाता है । इस प्रकार का शल्कन सामान्यतः सपाट या दीर्घवृत्तज खनिओं के समान्तर विन्यास के कारण प्रतिफलित होता है ।
  • solfatara -- गैसमीची ज्वालमुखी
वह ज्वालामुखी क्षेत्र या रंध्र जिसमें से अधिकांशतः केवल सल्फ्युरिक गैसें निकलती हैं । यह एक प्रकार का वाष्पमुख (fumarole) ही है जो ज्वालामुखी सक्रियता की क्षीण अवस्था को निरूपित करता है ।
  • soret principle -- सोरेट सिद्धांत
तापीय प्रवणता के प्रभाव से पदार्थ का विलयन में विसरण । इसे तापीय विसरण भी कहते हैं । (thermo-diffusion) ।
  • sorting -- प्रवरण/सॉटिग
वह प्रक्रम जिसके द्वारा विभिन्न साइजों के अवसादी कण परिवहन और निक्षेपण के दौरान एक दूसरे से पृथक्कृत होते हैं ।
  • sphericity -- गोलकत्व
किसी कण की लम्बाई, चौड़ाई और मोटाई में परस्पर सम्बन्ध, विशेषतया अवसादी कणों के आकार का गोलक की ओर होने की प्रवृत्ति ।
  • spheryte -- स्फ़ेराइट, गुलिकाश्म
उन अवसादी शैलों के बृहत् प्रमाप वाले घटकों के लिए प्रयुक्त एक गठन सम्बन्धी शब्द जो रचनात्मक परन्तु अखण्डज (non-clastic) उत्पत्ति के होते हैं ।
  • spilite -- स्पिलाइट
एक प्रकार का बैसाल्टी शैल जो सामान्यतः स्फोटगर्ती (vesicular) या वातामकी (amygdaloidal) होता है और जिसमें फैल्डस्पार एल्बाइटीभूत अवस्था में पाए जाते हैं । पाइरॉक्सीन या एम्फिबोल इस शैल में थोड़े-बहुत परिवर्तित रूप में मिलते हैं और इसमें कभी-कभी सर्पेन्टीनीभूत ऑलिवीन भी विद्यमान हो सकता है ।
  • spotted schist -- चित्तीदार शिस्ट
एक प्रकार का शिस्टाभ भृण्मय शैल जिस पर निम्न से मध्यम कोटीय संस्पर्श कायान्तरण के परिणामस्वरूप पॉर्फिरोब्लास्टी खनिज शिस्टाभता लिए हुए निर्मित हो जाते हैं और ये प्रारम्भी क्स्टलन के द्योतक होते हैं । ऐसे खनिओं से शैल में चित्तियाँ या धब्बे विकसित दिखाई पड़ते हैं ।
  • spitted slates -- पृषत् स्लेट, चित्तीदार स्लेट
वे मृण्मय शैल जिन पर मध्यम कोटीय संस्पर्शी कायान्तरण के परिणामस्वरूप धब्बे विकसित हो जाते हैं जो कि नए खनिजों के प्रारम्भी क्रिस्टलन के द्योतक होते हैं ।
  • stalactite -- स्टैलैक्टाइट
हिमलंब के आकार का एक कैल्सियमी संचय जो चूनाश्म की गुफाओं की छत से लटका रहता है ।
  • stalagmite -- स्टैलैग्माइट
एक दण्डाकार कैल्सियमी संचय जो चूनाश्म की गुफाओं की फर्श से ऊपर की ओर बढ़ता है ।
  • static metrmorphism -- स्थैतिक कायांतरण
एक प्रकार का क्षेत्रीय कायान्तरण जो उच्च दाबों पर ऊष्मा और विलायकों की क्रिया द्वारा घटित होता है । इसमें उच्च दाब शैलों के उपरिवर्ती भार के कारण उत्पन्न होता है न कि पर्वतनिक विरूपण के कारण ।
  • stoss (side) -- अभिपवन (पार्श्व)
वायु अथवा हिमनद जिस ओर से संचलित होता है उसकी तरफ वाला पहाड़ी या टिब्बे का पार्श्व । ‘Lee’ की परिभाषा भी देखिए ।
  • strain -- विकृति
प्रतिबल के परिणामस्वरूप किसी पिंड (body) की आकृति और आयतन में परिवर्तन ।
  • stratification -- 1. स्तर विन्यास, 2. स्तरण
1. अवसादी शैलों का संस्तरों या स्तरों में विन्यास ।
2. अवसादी शैलों का संस्तरों या स्तरों में विन्यस्त होने का प्रक्रम ।
  • stratum -- स्तर, स्ट्रैटम
विभिन्न मोटाइयों वाली स्तरित शैल की एक इकाई जिसका अपना एक विशिष्ट आश्मिक गुण होता है जिसके कारण वह अपने ऊपर अथवा नीचे के अन्य स्तरों से अलग पहचानी जा सकती है ।
  • streaky structure or texture -- प्ररैखिक संरचना या गठन
कायांतरित शैलों में ऐसी संरचना या गठन जिसमें खनिओं के विशिष्ट अभिविन्यास से रेखाएं विकसित हो जाती हैं ।
  • stress minerals -- प्रतिबल खनिज
क्लोराइट, क्लोरीटॉइड, ऐल्बाइट, ऐपीडोट, एम्फिबोल, कायनाइट आदि जैसे खनिजों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो कायान्तरित शैलों में अपरूपण प्रतिबल (shearing stress) के कारण निर्मित होते हैं ।
  • stromatolite -- स्ट्रोमैटोलाइट, शैवाल-निक्षेपाश्म
एक प्रकार की पटलित (lamellar) जैव अवसादी संरचना जो विभिन्न आकारों में मिलती है और छिछली जल-राशियों में कैलसियमी शैवालों और अवसादों की सम्मिलित क्रियाओं से बनती हैं ।
  • structural petrology -- रचनात्मक शैलविज्ञान
देखिए : शैल संविन्यास विश्लेषण – (petrofabric analysis)
  • stylolite -- स्टाइलोलाइट
सामान्यतः चूनापत्थरों और कभी कभी बलुआपत्थरों तथा क्वार्ट्ज़ाइटों में मिलने वाली एक संरचना जिसमें संस्तरण तलों (bedding plane) के साथ साथ खड़े प्ररेखित स्तंभ अथवा शंकु विकसित रहते हैं ।
  • subaqueous -- अधोजलीय
किसी जल-राशि के नीचे निर्मित, विद्यमान या घटित होने वाला । भूपृष्ठीय (subaerial) का विपरीतार्थक ।
  • subfacies -- उपसंलक्षणी
दाब-ताप संबंधों की अपेक्षा संघटनात्मक विभेदों पर आधारित किसी अवसादी अथवा कायान्तरिक संलक्षणी का उपवर्ग ।
  • subhedral -- अंशफलकीय
(क) (शैलिकी में) आग्नेय शैल के उन खनिज घटकों से सम्बन्धित जो केवल अंशतः अपने ही क्रिस्टल फलकों से बनते हैं और इस प्रकार वे अफलकी (anhedral) और पूर्णफलकी (euhedral) के बीच के होते हैं ।
(ख) (क्रिस्टल विज्ञान में) क्रिस्टलों के ऐसे रूप से संबंधित जो केवल अंशतः अपने ही क्रिस्टल फलकों के बना होता है ।
  • superimposition -- अध्यारोपण
शैल-निक्षेपण का वह प्राकृतिक क्रम जिसमें शैल एक दूसरे के ऊपर संस्तरों के रूप में स्थापित रहते हैं ।
  • supersaturated -- अतिसंतृप्त
आग्नेय शैलिकी में प्रयुक्त एक शब्द । इसका तात्पर्य उन शैलों से हैं जिनमें सिलिका (SiO2) की मात्रा 75 प्रतिशत से अधिक होती है । खनिजिकीय दृष्टि से ऐसे शैलों में मुक्त क्वार्ट्ज की प्रचुकता होती है ।
  • syenite -- साइनाइट
एक मध्यमसिलिक हश्यक्रिस्टलीय अन्तर्वेधी आग्नेय शैल जो विपुल मात्रा में क्षारीय फेल्डस्पार से संघटित होता है । इसमें प्लैजियोक्लेस गौण खनिज के रूप में विद्यमान हो सकता है और क्वार्ट्ज तथा नैफिलिन खनिजों का अभाव रहता हैं ।
  • syngenesis -- सहजनन
वह प्रक्रम जिसके द्वारा खनिज एवं अयस्क अपने ग्राही शैलों (enclosing rocks) के साथ-साथ निर्मित हुए हों ।
  • syntaxis -- अक्ष-संधि
पर्वत श्रेणियों का किसी सर्वनिष्ट केन्द्र पर अभिसरण (convergence) ।
  • syntectic -- सिन्टोक्टिक, संद्रवणज
संद्रवण द्वारा निर्मित मैग्माओं के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
  • syntexis -- संद्रवण
(क) स्वांगीकरण का समानार्थी ।
(ख) एक से अधिक प्रकार के शैलों के गलन से मैग्मा के निर्माण का प्रक्रम ।
  • talus -- पाद मलवा, शैलमलवा
भृगुओं (cliffs) या कटकों के पाद (foot) पर स्थित असंपिडित शैल-खण्डों की ढलुवाँ राशि ।
  • tectite -- टेक्टाइट
‘skarn’ का पर्यायवाची शब्द ।
  • tektite -- टेक्टाइट
पार्थिव शैलों पर प्रचंड वेग वाले उल्कापिडों के आघात से उत्पन्न एक ज्वालामुखी-इतर, गोलाकार, गर्तित तथा गहरे काले रंग से लेकर हरे रंग का काचीय शैल ।
  • tephrite -- टेफ्राइट
बेसाल्टी लक्षणों से युक्त बहिर्वेधी (extrusive) शैलों का एक वर्ग जो मुख्यतः कैल्सीप्लेजिओक्लेस, औजाइट और नेफिलीन अथवा ल्यूसाइट से संघटित होता है तथा क्षारीय फेल्डस्पार इसके गौण खनिज (accessory minerals) होते हैं । यह थायोलाइट का बहिर्वेधी समतुल्य है ।
  • texture -- गठन
किसी शैल का सामान्य भौतिक रूप जैसा कि उसे निर्मित करने वाले घटककणों की साइज़, आकृति, विन्यास आदि से प्रदर्शित होता है ।
  • terra rossa -- टेरा रोसा
लाल रंग की मृत्तिका समान अघुलनशील मृदा ।
  • thermal metamorphism -- उष्मीय कायांतरण
कायान्तरण की वह प्रक्रिया जिसमें तापमान के बढ़ने का कारण शैलों में पुनः क्रिस्टलन होता है ।
  • thermodynamic metamorphism -- उष्मागतिक सायांतरण
कायान्तरण की वह प्रक्रिया जो उच्च ताप तथा दृष्ट (directed) दाब के कारण घटित होती है ।
  • theralite -- थेरालाइट
मैफिक वितलीय (plutonic) शैलों का एक वर्ग तथा उसका कोई शैल जो कैल्सिक प्लेजिओक्लेस, फेल्डसपेथॉइडो तथा औजाइट से संघटित होता है । इसमें सोडियम सैनिडीन एवं एम्फिबोल खनिओं की मात्रा कम होती है तथा यह टेफ्राइट का अन्तर्वेधी समतुल्य है ।
  • tholeiite -- थोलीआइट
सिलिका से अतिसंतृप्त एक प्रकार का बैसाल्ट जिसमें कलाइनोपाइरॉक्सीन तथा कैल्सिक प्ले जिओक्लेस के अलावा अल्प कैल्सियमी पाइरॉक्सीन खनिज विशेष रूप से विद्यमान रहते हैं ।
  • till -- गोलाश्मी मृत्तिका, टिल
सीधे हिमनद के बर्फ द्वारा निक्षेपित अस्तरित तथा अप्रवरित अपोढ़ (unsorted drift) जो सभी प्रमाप वाले और विभिन्न किस्मों की कोणीयता लिए हुए शैल खण्डों के मिश्रण से संघटित होता है ।
  • tillite -- टिलाइट
टिल के शिलीभवन (lithification) से निर्मित शैल ।
  • tonalite -- टोनेलाइट
एक वितलीय शैल जिसमें क्वार्ट्ज़ व प्लेजिओक्लेस प्रचुर मात्रा में होते हैं इसमें क्वार्ट्ज डायोराइट की अपेक्षा क्वार्ट्ज़ की मात्रा अधिक होती है ।
  • top set bed -- डेल्टा शीर्ष संस्तर
डेल्टा के शीर्ष पर निक्षेपित अवसाद की क्षैतिजप्राय परत ।
  • torrential cross bedding -- वेग प्रवाही क्रॉस संस्तरण
एक प्रकार का कोणीय क्रॉस संस्तरण जिसमें डेल्टाग्रनत संस्तर (fore set bed) ऋजुरेखीय (rectilinear) होते हैं ।
  • touch stone -- टच स्टोन
फ्लिन्ट से संबंधित एक काले रंग का सिलिकामय पत्थर जिसका प्रयोग स्वर्णकार सोने तथा चांदी की शुद्धता परखने के लिए करते हैं ।
  • trachyte -- ट्रेकाइट
साइनाइट का बहिर्वेधी समतुल्य शैल जिसका गठन सूक्ष्मकणिक व पॉर्फिराइटी होता है । इसके मुख्य घटक क्षारीय फेल्डस्पार और अल्पमात्रा में सोडियम प्लेजिओक्लेस व मैफिक खनिज होते हैं ।
  • traction marks -- कर्षण चिह्र
जलधारा की परिवहन-क्रिया के दौरान खण्डाश्मों के लुढ़कने, विसर्पण (slip, creep) अथवा उछलने से जल-तली पर निर्मित चिह्र ।
  • trail mark -- पथ चिह्र
(क) हिमनद द्वारा परिवाहित विभिन्न आकार के शैल-खण्डों (rock fragments) से निर्मित रेखीय निक्षेप ।
(ख) असंपिण्डित (unconsolidated) अवसादों पर कृमिवत् प्राणियों के संचलन चिह्रों का अश्मीभूत (petrified) रूप ।
  • trap -- 1. पाशित शैल, 2. ट्रैप
1. पैट्रोलियम भूविज्ञान में इसका तात्पर्य उस तैलाशय शैल (reservoir rock) से है जो किसी अप्रवेश्य शैल द्वारा चारों ओर से पूर्णतया घिरा रहता है और जिससे उसमें से तेल या गैस बाहर नहीं निकल पाता ।
(2) असितवर्णी डाइकों और लावा-स्तरों के लिए प्रयुक्त एक नाम । इस नाम का प्रयोग मुख्यतः बेसाल्टों और डायाबेसों के लिए किया जाता है ।
  • trass -- ट्रैस
जलदृढ़ी सीमेन्ट के उत्पादन में प्रयुक्त प्युमिसमय टफ़ जो पोज़ोलान सदृश होता है ।
  • travertine -- ट्रैवटाइन
झरनों तथा अन्य पृष्ठीय या भौमजल धाराओं द्वारा निर्मित एक अंशतः सरंध्र या संहत निक्षेप जो सामान्यतः कैल्साइट से संघटित होता है । इस प्रकार के निक्षेप जो ऐरागोनाइट से संघठित होते हैं, तप्त झरनों से बनते हैं ।
  • triple eutectic point -- त्रिक गलनक्रांतिक बिन्दु
मैग्मा क्रिस्टलन में एक निश्चर (invariant) बिन्दु जिस पर किसी विशुद्ध पदार्थ की ठोस, द्रव और वाष्प-अवस्थाएं सहअस्तित्व में रहती हैं ।
  • tawite -- टेवाइट
एक स्थूलकणिक शैल जो अनिवार्यतः सोडालाइट (60 प्रतिशत) और एजिरिन (35 प्रतिशत) से संघटित होता है । इसमें नेफिलीन सोडा फेल्डस्पार, यूडियालाइट, दुर्लभ मृदा खनिज तथा केंक्रिनाइट गौण खनिजों के रूप में मिलते हैं ।
  • tufa -- टूफ़ा
ठंडे या गर्म झरनों के पानी निकलने वाले स्थान के इर्द-गिर्द कैल्सियम कार्बोनेट या सिलिका से निर्मित पपड़ियों का संरंघ्र, संग्रथित निक्षेप ।
  • tuff -- टफ़
ज्वालामुखी उत्पत्ति के खण्डों से निर्मित पाइरोक्लास्टी शैल जो कि विस्फोट के दौरान बाहर फेंके गए होते हैं और ज्वालामुखी के इर्द-गिर्द संपिडित हो जाते हैं ।
  • tuffaceous -- टफ़मय
टफ़ की प्रकृति का, उससे युक्त या संबंधित अथवा उसके सदृश ।
  • turbidite -- टर्बिडाइट
आविलता (turbidity) धाराओं के प्रवाह से निर्मिता और निक्षेपित अवसाद ।
  • turbidity current -- आविलता धारा
अधोजलीय (subaqueous) ढलानों का अनुसरण करने वाली उच्च सघनता (high density) धारा जिसमें आस-पास स्थित जल की अपेक्षा ठोस कणों की उपस्थिति के कारण सघनता में वृद्धि आ जाती है ।
  • ultrabasic -- अत्यल्पसिलिक
उन आग्नेय शैलों के लिए प्रयुक्त एक विशेषण जिनमें सिलिका की मात्रा 45 प्रतिशत से कम होती है । वस्तुतः उनमें क्वार्ट्ज़ और फेल्डस्पार बिल्कुल नहीं होते और वे मुख्य रूप से लौह, मैगनीशियम तथा कैल्सियम से संघटित होते हैं ।
  • ultramafic -- अतिमैफिक
देखिए : ‘ultrabasic’
  • ultra metamorphism -- अतिकायांतरण
वह कायान्तरण प्रक्रिया जिसमें तापमान और दाब के चरम परिसर में प्रभावित शैल पूर्णतः या अंशतः मैग्मीय अवस्था में परिवर्तित हो जाते हैं ।
  • undersaturated rock -- अवसंतृप्त शैल
पूर्णरूपेण या आंशिक रूप से असंतृप्त खनिजों से संघटित शैल ।
  • uniaxial -- एकाक्ष, एकअक्षीय
केवल एक प्रकाशिक अक्ष से युक्त जिसकी दिशा विशेष में क्रिस्टल के आरपार प्रकाश डालने पर उसका द्विअपर्वतन (double refraction) नहीं होता । जैसे – कैल्साइट ।
  • universal stage -- सर्वदिशो मंच
एक यंत्र जिसे घ्रुवण सूक्ष्मदर्शी के साथ शैलों में खनिजों के प्रकाशिक तथा शैल-संविन्यासी गुणों के अध्ययन के लिए प्रयोग में लाया जाता है ।
  • unsaturated minerals -- असंतृप्त खनिज
वे खनिज जो मुक्त सिलिका या अत्यधिक सिलिका की उपस्थिति में शैल-मैग्माओं से निर्मित होने में असमर्थ होते हैं जैसे ल्यूसाइट तथा ऑलीविन ।
  • unstable relict -- अस्थायी अवशेष
एक अवशिष्ट खनिज जो कायान्तरण की नवीन परिस्थितियों में मितस्थायी होता है किन्तु इसके रूपान्तरण की गति मंद होने के कारण वह नए खनिज समुच्चय में परिवर्तित रूप में पहचाना जा सकता है ।
  • uralite -- यूरेलाइट
द्वितीयक एम्फिबोल का एक हरे रंग का सामान्यतः रेशेदार या सूचयाकार प्रकार ।
  • uralitization -- यूरेलाइटन
वह पश्चमैग्मीय (late magmatic) अथवा कायान्तरी प्रतिस्थापन क्रिया जिसके द्वारा प्राथमिक पॉइरॉक्सीन के परिवर्तन से रेशेदार या सूच्याकार एम्फिबोल का विकास या निर्माण होता है ।
  • varioles -- वैरिओल
कुछ बेसाल्टी और ऐन्डेसाइटी शैलों में पाए जाने वाले गोलाकार पिड या स्फेरूलाइट जो प्रायः प्लेजियोक्लेस फेल्सपार के अरीय लैथों से युक्त होते हैं ।
  • variolite -- वैरिओलाइट
वेरिओलों से युक्त बेसाल्टी शेल ।
  • variolitic texture -- वैरिओलाइटी गठन
अल्पसिलिक आग्नेय शैलों का एक गठन जिसमें मटर की साइज के पिण्ड सूक्ष्मकणिक आधात्री में विद्यमान रहते हैं ।
  • varve -- अनुवर्षस्तरी, वार्व
किसी स्थिर जल-राशि में (जैसे हिमनदीय झील) वार्षिक निक्षेपणचक्र के फलस्वरूप निर्मित सूक्ष्म और स्थूल सिल्ट अथवा मृत्तिका से एकांतरतः युग्मित परतों का समूह ।
  • vein -- शिरा
शैल-विदरों में भौमजल द्वारा विलयन से निक्षेपित दीर्घित अयस्कपिण्ड ।
  • vent -- द्वार, मुख, निकास
भूपृष्ठ में कोई लघु छिद्र, विवर या द्वार जिसमें से गैस सा तरल पदार्थ बाहर निकल सकते हों । यथा-ज्वालामुखी द्वार ।
  • vermicular structure -- कृमिरूप-संरचना
अनेक कृमिवत् नलिकाओं से युक्त अलवण जलीय (freshwater) चूनापत्थरों में एक प्रकार की संरचना जो मूल कैल्सियमी पंक (mud) में अवशिष्ट पादप खण्डों के क्षय के फलस्वरूप बनती है ।
  • vesicles -- स्फोट-गर्त
लावा में विभिन्न आकारों में पाए जाने वाली एक प्रकार की गुहिका जो लावा संपिडन के दौरान उसमें गैस के बुलबुलों के फंस जाने से निर्मित हो जाती है । सामान्यतः ये गुहिकाएं रिक्त होती हैं ।
  • vitrophyric texture -- विट्रोफ्रायरी गठन
आग्नेय शैलों का एक गठन जिसकी विशेषता यह होती है कि इसमें थोड़े बहुत सुविकसित क्रिस्टल एक काचीय आधात्री (glassy groundmass) में स्थित होते हैं ।
  • volcanic -- ज्वालामुखीय
ज्वालामुखियों के लक्षणों से युक्त, उनसे संबंधित, उन पर स्थित, उनमें निर्मित या उनसे व्युत्पन्न ।
  • volcanic ash -- ज्वालामुखीय राख
ज्वालामुखी से निकले हुए धूलि प्रमाप के कण जिनका आयतन .06 मिoमीo व्यास वाले गोले से भी कम होता है ।
  • volcanic cinder -- ज्वालामुखी सिंडर
देखिए : ‘cinder’
  • volcanic cone -- ज्वालामुखी शंकु
ज्वालामुखी से निकले हुए पदार्थों द्वारा निर्मित एक शंकरूपी तथा प्रायः सममितिक पहाड़ी ।
  • volcanic eruption -- ज्वालामुखी उद्गार
ज्वालामुखी के मुख से भूपृष्ठ पर लावा, झांवा, धूलि आदि का विस्फोटी या शान्त उत्सर्जन ।
  • volcanic rock -- ज्वालामुखी शैल
ज्वालामुखी उद्गार से भूपृष्ठ पर आकर पिडित हुए आग्नेय शैलों का एक वर्ग ।
  • volcano -- ज्वालामुखी
पृथ्वी में एक विवर जिससे तप्त शैल तथा अन्य पदार्थ बाहर निकलते हैं । यदि बाहर निकलने वाले पदार्थ द्वार के चारों ओर संचित होने लगते हैं तो उससे एक शंकुवत् रचना बन जाती हैं जो धीरे धीरे एक बड़े पर्वत के आकार की हो जाती है और उस दशा में उस शंकु को भी ज्वालामुखी की संज्ञा दी जाती है ।
  • volcanology -- ज्वालामुखी-विज्ञान
ज्वालामुखियों और ज्वालामुखी क्रियाओं का वैज्ञानिक अध्ययन ।
  • vug -- बग, आस्तरित गुहिका
शैल में एक गुहिका जो आम तौर पर एक क्रिस्टलीय पपड़ी से आस्तरित होती है ।
  • wacke -- वेके
एक प्रकार का बलुआपत्थर जिसमें विभिन्न प्रकार के कोणीय एवं अप्रवरित अथवा अल्पतः प्रवरित खनिज अथवा शैल-खण्ड होते हैं । इसकी आधात्री 10 प्रतिशत से अधिक मृण्मय होती हैं ।
  • wall rock -- भित्ति-शैल
(क) वह शैल जिससे होकर कोई भ्रंश या खनिज-शिरा गुज़रती है ।
(ख) किसी भ्रंश, शिरा या अयस्क-निक्षेप से संलग्न स्थानीय शैल ।
  • wave ripple -- तरंग ऊमिका
जल अथवा वायु तरंगों के दोलन से निर्मित उर्मिका चिह्र ।
  • wavy bedding -- लहरदार स्तरण, तरंगित स्तरण
बालू और पंक के स्तरों का एकान्तरण जिसमें बालू की परतें ऊमिका के प्रभाव से बनती हैं और पंक की परतें बालू की लहरदार सतहों पर बनती हैं ।
  • xenoblast -- जीनोब्लास्ट
कायान्तरण के दौरान निर्मित उन खनिओं के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिनमें अभिलक्षणिक क्रिस्टल-फलक विकसित नहीं हो पाते ।
  • xenoblastic texture -- ज़ीनोब्लास्टिक गठन
कायान्तरित शैलों में वह गठन जिसमें अधिकांश खनिज कण अनियमित आकार के होते है ।
  • xenocryst -- अपरक्रिस्टल
आग्नेय शैलों में पाए जाने वाले वे क्रिस्टल जो बाहर से आकर उनमें समाविष्ट हो गए ।
  • xenolith -- अपराश्म
आग्नेय शैलों में अन्तर्विष्ट वह शैल-खंड जो किसी प्राचीनतर शैलसमूह से व्युत्पन्न होकर उनमें प्रविष्ट हो जाता है किन्तु उसका ग्राही शैलों से जननिक रूप से कोई संबंध नहीं होता । उदाहरणार्थ : ग्रेनाइट में बलुआ पत्थर के खण्ड ।
  • xenomorphic -- अस्वरूपी
आग्नेय शैलों में पाए जाने वाले उन खनिजों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो अपने निजी क्रिस्टल फलकों से परिबद्ध नहीं होते वरन् उनका रूप संलग्न क्रिस्टलों से प्रभावित होता है ।
  • xenothermal deposits -- बाहयतापीय निक्षेप
उच्च तापमान पर किन्तु कम गहराई में निर्मित उष्मजलीय खनिजा निक्षेप ।
  • zeolite facies -- जिओलाइट संलक्षणी
प्रसंघनन (diagenesis) तथा प्रादेशिक कायान्तरण के बीच एक निम्न कोटि वाली संक्रामी कायान्तरित संलक्षणी । इस संलक्षणी में जिओलाइट समूह के खनिज़ अभिलक्षणिक रूप से मिलते हैं ।
  • zonal soil -- सुस्तरी मृदा
अल्पतः तरंगित उच्च भूमियों पर निर्मित एक प्रकार की सुविकसित मृदा जिसके अभिलक्षणों का निर्धारण मृदा के रचक कारकों (जलवायु और वनस्पति) द्वारा होता है ।
  • zone of plasticity and flowage -- प्लैस्टिकता तथा प्रवाह ज़ोन
भूपर्पटी का निचला भाग जिसमें शैल अत्यधिक द्रव स्थैतिक (hydrostatic) दाब के प्रभाव में रहते हैं और इस तरह विरूपण से शैल-प्रवाह प्रतिफलित होता है ।

स्रोत[सम्पादन]

इन्हें भी देखें[सम्पादन]