विक्षनरी:हिन्दी–हिन्दी शब्दकोश/ट, ठ

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search
शब्द व्याकरण-१ व्या-२ व्या-३ व्या-४ व्या-५ अर्थ-१ अर्थ-२ अर्थ-३ अर्थ-४ अर्थ-५
टंकार स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - धनुष की प्रत्यंचा (डोरी) को तान कर सहसा ढीला छोड़ने पर होने वाली ध्वनि; धातु खण्ड, विशेषत: धातु के कसे या तने हुए तार पर आधात लगने से होने वाली टन-टन ध्वनि। - - -
टंकी स्त्रीलिंग - - - - पानी भर कर रखने का एक आधान या पात्र, हौज़, कुंड। - - - -
टकराना अकारात्मक क्रिया अकारात्मक क्रिया - - - भिड़ना; मार्ग में बाधक होना, मुकाबला या सामना करना, संघर्ष होना। - - -
टकसाल स्त्रीलिंग - - - - वह स्थान जहां सिक्के बनाए जाते है। - - - -
टक्कर स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - दो वस्तुओं का वेग के साथ आपस में भिड़ जाना; संघर्ष, मुकाबला। - - -
टटोलना सकारात्मक क्रिया - - - - स्पष्ट दिखाई न पड़ने पर हाथ या उंगलियों से छूकर वस्तु का अनुमान करना। - - - -
टपकना अकारात्मक क्रिया - - - - किसी तरल पदार्थ का बूंद-बूंद करके रिसना या फलों आदि का टप-टप करते हुए गिरना। - - - -
टहनी स्त्रीलिंग - - - - वृक्ष की शाखा, डाल, डाली। - - - -
टहलना अकारात्मक क्रिया - - - - जी बहलाने या स्वास्थ्य सुधार के लिए चलना-फिरना, घूमना। - - - -
टांकना सकारात्मक क्रिया - - - - सूई, डोरे आदि से सीकर कोई चीज कपड़ों पर लगाना। - - - -
टांका स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - हाथ की सिलाई में, धागे आदि की वह सीवन जो एक बार सूई को एक स्थान से गड़ाकर दूसरे स्थान पर निकालने से बनती है (स्टिच); धातुओं को जोड़ने या सटाने के लिए लगाया गया जोड़। - - -
टांगना सकारात्मक क्रिया - - - - लटकाना। - - - -
टाट पुंलिंग - - - - सन या पटसन का मोटा कपड़ा। - - - -
टापू पुंलिंग - - - - स्थल का वह भाग जो चारों ओर से जल से घिरो हो, द्वीप। - - - -
टालना सकारात्मक क्रिया सकारात्मक क्रिया सकारात्मक क्रिया - - स्थगित करना; बहाना करके पीछा छुड़ाना, टरकाना; निवारण करना, घटित न होने देना। - -
टिकना अकारात्मक क्रिया अकारात्मक क्रिया - - - किसी आधार पर ठीक प्रकार से खड़ा या स्थित होना; यात्रा के समय विश्राम के लिए कहीं ठहरना। - - -
टिकाऊ विशेषण - - - - जो अधिक समय तक काम में आता रहे, मज़बूत। - - - -
टिकिया स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - कोई गोलाकार चपटी, कड़ी तथा छोटी वस्तु (टेब्लेट); साबुन आदि का छोटा आयताकार टुकड़ा। - - -
टीका पुंलिंग स्त्रीलिंग - - - तिलक, बिंदी; किसी गन्थ, पद आदि का अर्थ स्पष्ट करने वाला कथन, व्याख्या। - - -
टीका-टिप्पणी स्त्रीलिंग - - - - किसी प्रसंग के गुण-दोषों आदि के संबंध में प्रकट किए जाने वाले विचार। - - - -
टीला पुंलिंग - - - - छोटी पहाड़ी की तरह का ऊंचा भूखंड, ढूह। - - - -
टुकड़ा पुंलिंग - - - - अंश, खंड, भाग। - - - -
टेक पुंलिंग पुंलिंग पुंलिंग - - सहारा, आधार; हठ, आग्रह, संकल्प; गाने की प्रथम पंक्ति जो बार-बार दोहराई जाती है। - -
टेकना सकारात्मक क्रिया - - - - अपने शरीर को अथवा किसी वस्तु को किसी दूसरी चीज के सहारे खड़ा करना या बैठाना, टिकाना। - - - -
टेढ़ा विशेषण विशेषण विशेषण - - जो बीच में इधर-उधर मुड़ा हो, वक्र; कुटिल, धूर्त; मुश्किल, कठिन, उलझनपूर्ण। - -
टोकना सकारात्मक क्रिया - - - - रोकना, बाधा डालना। - - - -
टोकरी स्त्रीलिंग - - - - बांस की खमचियों या तीलियों अथवा बेंत, सरकंडे आदि का बना हुआ खुले तथा चौड़े मुँहवाला बड़ा आधान (बास्केट)। - - - -
टोली स्त्रीलिंग - - - - मनुष्य का समूह, मंडली, दल, गिरोह। - - - -
टोह स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - खोज, जांच, तलाशी; किसी अज्ञात बात का पता लगाने की क्रिया अथवा उससे प्राप्त होने वाली जानकारी। - - -
ठंडक स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - वातावरण की ऐसी स्थिति जिसमें सुखद और प्रिय हल्की ठंड हो; जलन की कमी, चैन। - - -
ठंडा विशेषण - - - - उष्णता या ताप से रहित। - - - -
ठग पुंलिंग - - - - वह जो धोखा देकर दूसरे का धन या सामान हड़प ले, कपटी, धूर्त। - - - -
ठगना सकारात्मक क्रिया - - - - धोखा देना, छलना। - - - -
ठप्पा पुंलिंग पुंलिंग - - - धातु, लकड़ी आदि की छाप या मुहर; ठप्पे का छापा या चिह्न - - -
ठहरना अकारात्मक क्रिया अकारात्मक क्रिया - - - रुकना; किसी स्थान पर थोड़े समय के लिए रहने के लिए रुकना। - - -
ठहाका पुंलिंग - - - - जोर से हंसने का शब्द, कहकहा, अट्टहास। - - - -
ठाट-बाट पुंलिंग - - - - आडंबर, तड़क-भड़क, शान-शौकत। - - - -
ठिकाना पुंलिंग - - - - रहने या ठहरने का स्थान। - - - -
ठीक विशेषण, क्रिया विशेषण पुंलिंग - - - उपयुक्त। शुद्ध, सत्य। - - -
ठुकराना सकारात्मक क्रिया सकारात्मक क्रिया - - - पैर से ठोकर लगाना; उपेक्षा या तिरस्कारपूर्वक अस्वीकार करना। - - -
ठूंठ पुंलिंग - - - - वह वृक्ष जिसका धड़ ही बच रहा हो तथा जिसकी टहनियां टूट गई हों। - - - -
ठूंसना सकारात्मक क्रिया - - - - जबरदस्ती कोई चीज किसी में डालना या भरना। - - - -
ठेकेदार पुंलिंग - - - - वह व्यक्ति जो ठेके पर दूसरों के काम करता या करवाता है (कंट्रेक्टर)। - - - -
ठोंकना सकारात्मक क्रिया सकारात्मक क्रिया - - - अच्छी तरह पीटना; किसी चीज को किसी दूसरी चीज के अंदर गड़ाने, धंसाने आदि के लिए उसके पिछले भाग पर जोर से आघात करना। - - -
ठोकर स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - आघात जो चलने में कंकड़ पत्थर आदि के धक्के से पैर में लगे; पदाघात। - - -
ठोस विशेषण विशेषण - - - जिसकी रचना में अंदर कहीं खोखलापन न हो, भरपूर; तथ्यपूर्ण, दृढ़, प्रमाणिक। - - -