विक्षनरी:हिन्दी–हिन्दी शब्दकोश/ड, ढ

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search
शब्द व्याकरण-१ व्या-२ व्या-३ व्या-४ व्या-५ अर्थ-१ अर्थ-२ अर्थ-३ अर्थ-४ अर्थ-५
डंक पुंलिंग - - - - बिच्छू, मधुमक्खी आदि में पीछे का जहरीला कांटा। - - - -
डंडा पुंलिंग - - - - लकड़ी का मोटा सीधा लंबा टुकड़ा जिसका मुख्य प्रयोग मारने या बांधने के लिए होता है, दंड। - - - -
डकार स्त्रीलिंग - - - - भोजन करने के पश्चात पेट में भरी वायु का कंठ से शब्द के साथ निकल पड़ने का शारीरिक व्यापार। - - - -
डकैती स्त्रीलिंग - - - - डाका, लूट-मार। - - - -
डग पुंलिंग - - - - कदम। - - - -
डगमगाना अकारात्मक क्रिया सकारात्मक क्रिया - - - लड़खड़ाना, डिंगना, हिलना; विचलित होना या करना। - - -
डरना अकारात्मक क्रिया - - - - भयभीत होना। - - - -
डरपोक विशेषण - - - - कायर, भीरु - - - -
डराना सकारात्मक क्रिया - - - - किसी के मन में डर उत्पन्न करना, धमकाना। - - - -
डरावना विशेषण - - - - भयानक। - - - -
डसना सकारात्मक क्रिया - - - - किसी जहरीले कीड़े का किसी को इस प्रकार काटना कि उसके शरीर में जहर प्रवेश हो जाए। - - - -
डांट स्त्रीलिंग - - - - किसी को सचेत करने के लिए कड़ी बात कहना। - - - -
डांवाडोल विशेषण विशेषण - - - जो सहसा किसी आघात से हिलने-डुलने लगे; (व्यक्ति अथवा स्थिति) अनिश्चित। - - -
डाक स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - पत्रों, बंडलों आदि को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुँचाने की सरकारी व्यवस्था; उक्त व्यवस्था द्वारा एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुँचाया जाने वाला पत्र या सामग्री। - - -
डाकघर पुंलिंग - - - - डाकखाना। - - - -
डाका पुंलिंग - - - - डकैती, लूट-मार। - - - -
डाकू पुंलिंग - - - - डाका डालने वाला। - - - -
डाल स्त्रीलिंग - - - - पेड़-पौधे आदि की टहनी या शाखा। - - - -
डालना सकारात्मक क्रिया - - - - किसी आधान या पात्र में कोई चीज कुछ ऊंचाई से गिराना, छोड़ना या रखना। - - - -
डाह स्त्रीलिंग - - - - ईर्ष्या, जलन, कुढ़न। - - - -
डिबिया स्त्रीलिंग - - - - किसी वस्तु को रखने का ढक्कनदार बहुत छोटा आधान, बहुत छोटा डिब्बा। - - - -
डिब्बा पुंलिंग पुंलिंग - - - सामान रखने का बड़ा ढक्कनदार आधान जो पीतल, लकड़ी आदि का बना होता है; रेलगाड़ी का एक घटक, माल या सवारी गाड़ी का डिब्बा। - - -
डींग स्त्रीलिंग - - - - अपने बल, योग्यता या साहस के बारे में बढ़ा-चढ़ा कर बात करना, शेखी। - - - -
डुबाना सकारात्मक क्रिया - - - - ऐसा काम करना जिससे कोई चीज डूब जाए। - - - -
डेढ़ विशेषण - - - - मान, मात्रा, संख्या आदि की किसी एक इकाई और उसकी आधी इकाई के योग का सूचक विशेषण। - - - -
डेरा पुंलिंग - - - - पैदल यात्रा आदि के समय अस्थायी रूप से बीच में ठहरने का स्थान, पड़ाव। - - - -
डोंगी स्त्रीलिंग - - - - एक प्रकार की छोटी खुली नाव। - - - -
डोर स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - सूत आदि का बटा हुआ पतला मजबूत धागा; पतंग आदि उड़ाने के लिए वह धागा जिस पर मांझा लगा होता है। - - -
डोल पुंलिंग - - - - कुएं से पानी खींचने का बरतन; - - - -
डोली स्त्रीलिंग - - - - पालकी की तरह की एक प्रसिद्ध चौकोर छाई हुई सवारी जिसे दो कहार कंधे पर उठाकर चलते हैं और जिस पर प्राय: वधू बैठकर पहले-पहल ससुराल जाती है। - - - -
ड्योढ़ी स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - किसी भवन या मकान के मुख्य प्रवेश द्वार के आसपास की भूमि या स्थान; घर के मुख्य द्वार के अंदर का वह भाग जिसमें से होकर घर के कमरों, आंगन आदि में जाया जाता है। - - -
ढंग पुंलिंग - - - - कोई काम करने की रीति। - - - -
ढकना सकारात्मक क्रिया पुंलिंग - - - किसी पर आवरण डालना ताकि वह दिखाई न पड़े। वह चीज या रचना जिससे कोई चीज ढकी जाती है, ढक्कन। - - -
ढकेलना सकारात्मक क्रिया - - - - धक्का देकर आगे बढ़ाना। - - - -
ढकोसला पुंलिंग - - - - स्वार्थ-सिद्धि के लिए अपनाया हुआ झूठा रूप, दिखावा। - - - -
ढक्कन पुंलिंग - - - - ढकना। - - - -
ढलाई स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - ढालने की क्रिया या भाव; पिघली हुई धातु को सांचे में ढालकर बरतन, मूर्त्तियां आदि बनाने की क्रिया, भाव और मजदूरी। - - -
ढलान स्त्रीलिंग - - - - कोई ऐसा भूखंड जो चपटा और समतल न हो, बल्कि तिरछा हो जिसमें नीचे की ओर ढाल हो। - - - -
ढांचा पुंलिंग पुंलिंग - - - कोई वस्तु या रचना बनाते समय उसके विभिन्न मुख्य अंगों को जोड़ या वांध कर खड़ा किया हुआ आरंभिक रूप (फ्रेम); ठठरी या पंजर। - - -
ढाई विशेषण - - - - (इकाई या मान) जिसमें पूरे दो के साथ आधा और मिला हुआ हो। - - - -
ढाढ़स पुंलिंग - - - - तसल्ली, सांत्वना, धीरज। - - - -
ढाबा पुंलिंग - - - - वह स्थान जहां पकी हुई कच्ची रसोई बिकती या दाम लेकर लोगों को खिलाई जाती है। - - - -
ढाल स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - चमड़े, धातु आदि का बना हुआ वह गोलाकार उपकरण जिसे युद्ध क्षेत्र में सैनिक लोग तलवार, भाले आदि का वार रोकने के लिए अपने बाएं हाथ में रखते थे; किसी भूखंड का ऐसा तल जो क्षितिज के समतल न हो बल्कि तिरछा या नीचे की ओर झुका हो, ढलान। - - -
ढिंढोरा (ढंढोरा) पुंलिंग पुंलिंग - - - वह डुग्गी या ढोल जिसे बजा कर किसी बात की सार्वजनिक घोषणा की जाती है; उक्त प्रकार से की हुई घोषणा। - - -
ढीठ विशेषण विशेषण - - - जो जल्दी किसी से डरता न हो और जो भय या संकट के समय भी अपने हठ पर अड़ा रहता हो, धृष्ट; जो प्राय: ऐसे अवसरों पर भी संकोच न करता हो जहां बड़ों की मान-मर्यादा का ध्यान रखना आवश्यक हो। - - -
ढीला विशेषण विशेषण विशेषण - - शिथिल; जिसमें उचित कसाव-खिंचाव या तनाव का अभाव हो; जो नाप में आवश्यकता से अधिक गहरा, लंबा या चौड़ा हो। - -
ढुलाई स्त्रीलिंग - - - - ढोने की क्रिया, भाव या मजदूरी। - - - -
ढूंढना सकारात्मक क्रिया - - - - कोई छिपी या इधर-उधर पड़ी हुई वस्तु या आंख से ओझल व्यक्ति का पता लगाना, खोजना। - - - -
ढेर पुंलिंग - - - - एक स्थान पर विशेषत: एक दूसरे पर रखी हुई बहुत सी वस्तुओं का ऊंचा समूह। - - - -
ढेला पुंलिंग - - - - मिट्टी या पत्थर का कड़ा टुकड़ा। - - - -
ढोंगी विशेषण - - - - झूठा आडंबर खड़ा करने वाला धोखेबाज, पाखंडी। - - - -
ढोना सकारात्मक क्रिया - - - - पीठ या सिर पर रखकर कोई भारी चीज एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाना। - - - -