विचित्र

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

विचित्र ^२ संज्ञा पुं॰

१. पुराणनुसार रौच्य मनु के एक पुत्र का नाम ।

२. साहित्य में एक प्रकार का अर्थालंकार जो उस समय होता है, जब किसी फल की सिद्धि के लिये किसी प्रकार का उलटा प्रयत्न करने का उल्लेख किया जाता है । उ॰—(क) करिबैकौ उज्वल सुघा सों अभिराम देखो, मन ब्रजवाम रँगती हैं श्याम रंग में (ख) राम कहेउ रिस तजहु मुनीसा । कर कुठार आगे यह सीसा ।—तुलसी (शब्द॰) । (ग) जीवन हित प्रानहिं तजत नवैं ऊँचाई हेत । सुख कारण गुख संग्रहैं बहुधा पुरुष सचेत (शब्द॰) । (घ) क्यौं नहिं गंगा को सुमिरि दरस परस सुख लेत । जाके तट में मरत नर अमर होन के हेत (शब्द॰) ।

३. अनेक रंगों का समूह । विभिन्न रंगों का एकीभवन । (को॰) ।

४. आश्चर्य (को॰) ।