विपणि

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

विपणि संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. दूकान ।

२. विक्रय का सामान ।

३. व्यापार ।

४. विक्रय ।

५. बाजार । उ॰—अपने इन विहारों के दौरान में कर्मशाला, सभा, कूप, विपणि, निर्माण- शाला—इन सब आवासस्थानों में ।—हिंदु॰ सभ्यता, पृ॰ २२५ । यौ॰—विपणिकर्म । विपणिगत=बाजार में उपलब्ध या प्राप्त । विपणिजीविका=व्यापारजीवी । व्यवसायी । विपणिपथ= बाजार का मार्ग । पण्यवीथी ।