वियोग

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

वियोग संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. संयोग का अभाव । मिलाप का न होना । विच्छेद ।

२. पृथक् होने का भाव । अलगाव ।

३. दो प्रेमियों का एक दूसरे से अलग होना । विरह । जुदाई । विशेष—साहित्य में श्रृंगार रस दो प्रकार का माना गया है— संयोग श्रृगार (या संभोग श्रृंगार) और वियोग श्रृंगार (या विप्रलंभ श्रृंगार) । वियोग की दशा तीन प्रकार की होती है—पूर्वराग, मान और प्रवास ।

४. गणित में राशि का व्यकलन ।

५. अभाव । हानि (को॰) ।