व्यक्ति

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

संज्ञा[सम्पादन]

अनुवाद[सम्पादन]

अनुवाद[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

व्यक्ति संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. व्यक्त होने की क्रिया या भाव । प्रका- शित या द्दश्य होना । प्रकट होना ।

२. मनुष्य या किसी और शरीरधारी का सारा शरीर, जिसकी पृथक् सत्ता मानी जाती है और जो किसी समूह या समाज का अंग समझा जाता है । समष्टि का उलटा । व्यष्टि ।

३. मनुष्य । आदमी । जैसे,—कुछ व्यक्ति ऐसे होते हैं जो सदा दूसरों का अपकार ही किया करते हैं ।