व्याख्या

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

व्याख्या संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. वह वाक्य आदि जो किसी जटिल पद या वाक्य आदि का अर्थ स्पष्ट करता हो । किसी बात को समझाने के लिये किया हुआ उसका विस्तृत और स्पष्ट अर्थ । टीका । व्याख्यान । विशेष—शास्त्रों या सूत्रों आदि की जो व्याख्या होती है, उसके वृत्ति, भाष्य, वार्तिक, टीका, टिप्पणी आदि अनेक भेद माने गए हैं ।

२. वह ग्रंथ जिसमें इस प्रकार अर्थविस्तार किया गाया हो ।

३. कहना । वर्णन ।