शंखवटी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

शंखवटी संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ शङ्खवटी] वैद्यक में एक प्रकार की बटी या गोली । विशेष—इसके प्रस्तुत करने प्रणाली यह है—नीबू के रस में बुझाई हुई शंख की भस्म टके भर और जवाखार, सेंका हींग, पाँचों नमक, सोंठ, काली मिर्च, पिप्पली, शुद्ध सिगा मुहरा, शुद्ध पारा, शुद्ध गंधक की कजली ये सब दस दस टंक एक मे मिलाकर सबका चूर्णा करके नीबू के रस मे खरल करके चने के बराबर गोलियाँ बनाते हैं । कहते है, लौंग के जल के साथ इसकी एक गाली सेवन करने से संग्रहण, शूल और वायुगोला आदि रोग दूर होते हैं ।

शंखवटी रस संज्ञा पुं॰ [सं॰ शङ्खवटा रस] वैद्यक में एक प्रकार की वटी या गोली जो शूल राजा का तत्काल दूर करनेवाली मानी जाती है ।