शकुनि

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

शकुनि संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. पक्षी । चिड़िया ।

२. गिद्ध पक्षी ।

३. एक नाग का नाम ।

४. एक दैत्य जो हिरणयाक्ष का पुत्र और वृक का पिता था ।

५. पूराणानुसार दुःसह के आठ पुत्रों में से एक जो निर्माष्टि के गर्ब से उत्पन्न हुआ था ।

६. पूराणनुसार विकुक्षि के पाँच पुत्रों में से एक ।

७. गांधारी का भाई और कौरवों का मामा जो सुवलराजा का पुत्र था और इसी लिये सौवल कहलाता था । विशेष—यह बहुत ही दुष्ट और पापाचारी था । दुर्यौधन ने इसे अपना मंत्री बना रखा था और इसके परामर्श से उसने पांडवों के साथ अनेक कपटपूर्ण व्यवहार किए थे । कौरव कुल के नाश का मुख्य कारण यही शकुनि था । यह अपने पुत्र सहित सहदेव के हाथ से मारा गया था ।

८. बड़ा भारी दुष्ट और पाजी आदमी ।

९. फलित ज्योतिष के अनुसार वव आदि ग्यारह करणों में से आठवाँ करण ।