शरण

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

शरण ^१ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. रक्षा । आड़ । आश्रय । पनाह । जैसे,— अव तो मैं आपकी ही शरण में आया हूँ । उ॰—(क) वपु कृष्ण कृष्ण करुना करण जग व्यापक हम तव शरण ।—गिरधर (शब्द॰) । (ख) जिनकी शरण विश्व बुध जिनको निरभिलाष बतलाते हैं ।—द्विवेदी (शब्द॰) । क्रि॰ प्र॰—में आना ।—जाना ।—पाना ।—लेना ।

२. आश्रय का स्थान । बचाव की जगह ।

३. घर । मकान ।

४. जो शरण में आवे, उसके वैरी को मारना ।

५. अधीन । मतिहत ।

६. शाहाबाद के उत्तर सारन नाम का जिला ।

शरण ^२ वि॰ [सं॰] दे॰ 'शरण्य' [को॰] ।