शुद्धि

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

शुद्धि संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. शुद्ध होने का कार्य ।

२. सफाई । स्वच्छता ।

३. वैदिक धर्म के अनुसार वह कृत्य या संस्कार जो किसी अशुद्धया अशुच व्यक्ति के शुद्ध होने के समय होता है । जैसे—अशौच की समाप्ति पर शुद्ध होने के समय का कृत्य या किसी धर्मभ्रष्ट व्यक्ति के शुद्ध होकर पुनः अपने धर्म में आने के समय होनेवाला कुत्य या संस्कार ।

४. दुर्गा का एक नाम ।

५. दीप्ति । चमक । कांति (को॰) ।

६. पवित्रता । पुण्यशीलता (को॰) ।

७. ऋण आदि का परिशोधन (को॰) ।

८. प्रतिहिंसा । प्रतिशोध (को॰) ।

९. छुटकारा (को॰) ।

१०. सचाई । यथार्थता (को॰) ।

११. समाधान । संशोधन (को॰) ।

१२. व्यवकलन (को॰) ।