षट्प्रज्ञ

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

षट्प्रज्ञ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष, लोकार्थ और तत्वार्थ का ज्ञाता ।

२. उच्छृ खंल ।

३. कामुक ।

४. अच्छे स्वभाववाला पडोसी (को॰) ।