सँझोखे

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सँझोखे पु संज्ञा स्ञी॰ [सं॰ सन्ध्या] दे॰ संध्या का समय । शाम का वक्त । उ॰—गोप अथाइनि ते उठे गोरज छाई गैल । चलि बलि अलि अभिसारिके भली सँझोखे सैल ।—बिहारी (शब्द॰) ।