सँड़सी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सँड़सी संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ सन्देश] पतले छड़ों का एक प्रकार का सँड़सा । जैबूरी । विशेष—इसके दोनों छड़ों का अगला भाग अर्ध वृत्ताकार मुड़ा हुआ होता है । इससे पकड़कर प्रायः चूल्हे पर से गरम बटुली आदि गोल मुँहवाले बरतन उतारते हैं ।