सँभाला

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सँभाला संज्ञा पुं॰ [हिं॰ सँभालना] जीवन की ज्योति का बुझने के पूर्व टिमटिमा उठना । मरने के पहले कुछ चेतनता सी आ जाना । चैतन्य बाई होना । जैसे,—कल सँभाला लिया था, आज मर गया । क्रि॰ प्र॰—लेना ।