सँवार

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सँवार पु † ^१ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ संवाद या स्मरण] हाल । समाचार । उ॰—पुनि रे सँवार कहेसि अरु दूजी । जो बलि दीन्ह देवतन्ह दूजी ।—जायसी (शब्द॰) ।

सँवार ^२ संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ सँवारना]

१. सवारने की क्रिया या भाव ।

२. एक प्रकार का शाप या गाली । विशेष—कभी कभी लोग यह न कहकर कि 'तुम पर खुदा की मार या फटकार' प्रायः 'तुम पर खुदा की सँवार' कह दिया करते हैं ।