सँवारना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सँवारना क्रि॰ स॰ [सं॰ सम्वर्णन या संवरण]

१. सजाना । अलंकृत करना । उ॰—कंठ कठुला नीलमनि अंभोज माल सँवारि ।—सूर॰, १० ।१६९ ।

२. दुरुस्त करना । ठीक करना । उ॰—सो देही नित दिखि के चोंच सँवारे काग ।—कविता कौ॰, भा॰, १, पृ॰ १९७ ।

३. क्रम से रखना । ठीक ठीक लगाना ।

४. कार्य सुचारु रूप से संपन्न करना । काम ठीक करना । मुहा॰—बिगड़ी सँवारना = बिगड़ी बात बनाना ।