संगर

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

संगर ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ सङ्गर]

१. युद्ध । समर । संग्राम ।

२. आपद् । विपत्ति ।

३. अंगीकार । स्वीकार ।

४. प्रतिज्ञा ।

५. प्रश्न । सवाल ।

६. नियम ।

७. विष । जहर ।

८. शमी वृक्ष का फल ।

९. निगल जाना (को॰) ।

१०. ज्ञान (को॰) । यौ॰—संगरक्षभ = युद्ध योग्य । युद्ध करने में समर्थ या शक्त । संगरभूमि = लड़ाई का मैदान । युद्धभूमि । संगरस्थ = युद्धभूमि में स्थित । युद्धलिप्त ।

संगर ^२ संज्ञा पुं॰ [फ़ा॰]

१. वह धुस या दीवार जो ऐसे स्थान में बनाई जाती है, जहाँ सेना ठहरती है । रक्षा करने के लिये सेना के चारों ओर बनाई हुई खाई, धुस या दीवार ।

२. मोरचा ।