संयोग

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

अर्थ

जब एक जैसे कुछ घटना होती है या दो या उससे अधिक घटना या अन्य वस्तु या कहानी का योग होता है, उसे संयोग कहते हैं। यह बहुवचन के बारे में बताता है, लेकिन यह एक वचन में आता है। जब तक कि इस तरह की कोई अन्य संयोग न हो जाये।

संयोग में दो घटना या लोगों या वस्तु या अन्य कुछ के जुड़ने या योग होने का पता पहले नहीं होता है। उदाहरण के लिए आप से कोई पुस्तक गुम हो गई है। कुछ समय बाद आपको वह पुस्तक किसी दूर स्थान पर कोई आपको वह पुस्तक दे देता है। यह दो अलग अलग घटना का आपस में योग होना कहलाता है। इस कारण इसे संयोग कहते हैं।

संधि

  1. संयोग = सं + योग

उदाहरण

  1. कल दिया हुआ मेरा यह सिक्का संयोग से वापस मेरे ही पास आ गया।

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

संयोग श्रृंगार संज्ञा पुं॰ [सं॰ संयोग श्रृङ्गार] श्रृंगार रस का एक भेद जिसमें नायक नायिका के मिलन आदि का वर्णन होता है [को॰] ।

संयोग संधि संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ संयोगसन्धि] कामंदकीय नीति शास्त्र के अनुसार वह संधि जो किसी उद्देश्य से चढ़ाई करने के उपरांत उसके संबंध में कुछ तै हो जाने पर की जाय । (कामंदक) ।