संवत्सर

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

संवत्सर संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. वर्ष । साल ।

२. पाँच पाँच वर्ष के युगों का प्रथम वर्ष । विशेष—प्रभवादि साठ संवत्सर १२ युगों में विभक्त हैं जिसमें से प्रत्येक युग पाँच वर्ष का होता है । प्रत्येक युग के प्रथम वर्ष का नाम संवत्सर है । इसका देवता अग्नि कहा गया है ।

३. शिव का एक नाम ।

४. विक्रम संवत् (को॰) । यौ॰—संवत्सरकर । संवत्सरनिरोध=एक वर्ष की कैद । बरस भर का कारावास । संवत्सरफल=साल का शुभाशुभ फल । संवत्सरभुक्ति=सूर्य का एक वर्ष का मार्ग । संवत् सरभृत=जो एक वर्ष के लिये रखा हो । संवत्सरभ्रमि=वर्ष भर में परिक्रमा पूरी करंनेवाला, जैसे सूर्य । संवत्सरमुखी=ज्येष्ठ मास के शुक्लपक्ष की दशमी । संवत्सररय=एक वर्ष का पथ । वर्ष भर की राह ।