सन

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सन ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ शण] बोया जानेवाला एक प्रसिद्ध पौधा जिसकी छाल के रेशे से मजबूत रस्सियाँ आदि बनती है । विशेष—यह तीन साढ़े तीन हाथ ऊँचा होता है और इसका कांड सीधी छड़ी की तरह दूर तक ऊपर जाता है । फूल पीले रंग के होते हैं । कुआरी फसल के साथ यह खेतों में बोया जाता है और भादों कुआर में तैयार होता है । रेशेदार छिलका अलग करने के लिये इसके डंठल पानी में डालकर सड़ाए जाते हैं ।

सन पु † ^२ प्रत्य॰ [सं॰ सुन्तो या सङ्ग] अवधी में करणकारक का चिह्न । से । साथ ।

सन ^३ संज्ञा स्त्री॰ [अनु॰] वेग से निकल जाने का शब्द । जैसे,—तीर सन से निकल गया ।

सन ^४ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. ब्रह्मा के चार मानस पुत्रों में से एक मानस- पुत्र ।

२. हाथी का कान फड़फड़ाना (को॰) ।

३. समर्पण । भेंट (को॰) ।

४. भोजन । आहार (को॰) ।

५. लाभ । प्राप्ति (को॰) ।

६. घंटापाटलि वृक्ष ।

सन ^५ वि॰ [अनु॰ सुन]

१. सन्नाटे में आया हुआ । स्तव्ध । ठक ।

२. मौन । चुप । मुहा॰—जी सन होना = चित्त स्तब्ध होना । घबरा जाना ।