सप्त

विक्षनरी से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सप्त वि॰ [सं॰] गिनती में सात । यौ॰—सप्तकोण = सात कोणों वाला । सप्तगंग = एक स्थान- विशेष जहाँ गंगा सात धाराओं में बहती है । सप्तगोदावरी = एक नदी । सप्तज्वाल = सप्तार्चि । अग्नि । सप्ततंति, सप्ततंत्र = सात तारों से युक्त । सप्तदीधिति = अग्नि । सप्त द्वारा- वकीर्ण = सात द्वारों—पाँच इंद्रियाँ, मन और बुद्धि से युक्त । सप्तधातुक = सात धातुओं वाला । सप्तदिन, सप्तदिवस = सप्ताह । सप्तपद = सात पदों का । सप्तपुरुष = जो सात पोरसा लंबा हो । सप्तबोध्यंग कुसुमाढ्य = एक बुद्ध का नाम । सप्तभुमिक, सप्तभूमिमय, सप्तमौम = सात मंजिलों वाला । सप्त- मरीचि = सात मरीचि या किरणों वाला । सप्तार्चि । अग्नि । सप्तमहाभाग = विष्णु । सप्तमास्य = सतवाँसा । सप्त यम = सात स्तरों वाला । सप्तरात्र = सात रात्रि का काल । सप्ताह । सप्तरात्रक = जो सात रात तक चले । साप्ताह्णिक । सप्तवर्ग = सात का समाहार । सप्तवर्ष = सात वर्ष का । सप्तविदारु = एक वृक्ष का नाम । सप्तविध = सात प्रकार का । सप्तसमाधि- परिष्कारकः, सप्तसमाधिपरिष्कारदायक = बुद्ध का एक नाम ।