सभ्य

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सभ्य वि॰ [सं॰]

१. भययुक्त । उ॰—सचिव सभय सिख देइ न कोई ।—मानस, १ ।

२. डर उत्पन्न करनेवाला । भयकारक खतरनाक (को॰) ।

सभ्य ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. जो किसी सभा में संमिलित हो और उसके विचारणीय विषयों पर अपनी संमति दे सकता हो । सभासद । सदस्य । वह जिसका व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन श्रेष्ठ हो । वह जिसका आचार व्यवहार और रहन सहन उत्तम हो । कुलीन व्यक्ति । वह जिसमें तहजीब हो । भला आदमी ।

३. न्यायाधीश को सलाह देनेवाला जनप्रतिनिधि । दे॰ 'असेसर' ।

४. द्यूतगृह का संचालक ।

५. द्यूतगृह के संचालक का सेवक (को॰) ।

६. पाँच पवित्र अग्नियों में से एक (को॰) ।

सभ्य ^२ वि॰

१. सभा से सबंध रखनेवाला ।

२. सभा समाज के योग्य ।

३. संस्कृत । परिष्कृत । शिष्ट ।

४. सुशील । विनभ्र ।

५. विश्वस्त । ईमानदार [को॰] ।