सम्पादन

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

संपादन संज्ञा पुं॰ [सं॰ सम्पादन] [वि॰ संपादनीय, संपादी, संपाद्य]

१. किसी काम को पूरा करना । अंजाम देना ।

२. प्रस्तुत करना । प्रदान करना ।

३. ठीक करना । तैयार करना ।

४. किसी पुस्तक या संवादपत्र आदि को क्रम, पाठ आदि लगाकर प्रकाशित करना ।

५. उत्पन्न करना (को॰) ।