सरल

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

विश्लेषण[सम्पादन]

यदि कोई कार्य करने में कोई परेशानी न हो तो वह सरल कहलाता है।

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सरल ^२ संज्ञा पुं॰

१. रोहित तृण । गंध तृण । रोहिस घास ।

२. निर्गुण ब्रह्म और सगुण प्रकृति ।

३. समग्र वस्तु । प्रत्येक वस्तु । हर एक चीज (को॰) ।

४. दर्शनशास्त्र के अनुसार तीन प्रकार के जीवों में से एक प्रकार के जीव । पशु । विशेष—जीव तीन प्रकार के माने गए हैं—विज्ञानाकल, प्रलया- कल, और सकल । सकल जीव मल, माया और कर्म से युक्त होता है । इसके भी दो भेद कहे गए हैं—पक्व कलुष और अपक्व कलुष ।

सरल ^१ वि॰ [सं॰] [वि॰ स्त्री॰ सरला]

१. जो सीधा चला गया हो ।

२. जो टेढ़ा न हो । सीधा ।

३. जो कुटिल न हो । जो चालबाज न हो । निष्कपट । सीधा सादा । भोला भाला ।

४. जिसका करना कठिन न हो । सहज । आसान ।

५. सही । ठीक । तथ्य - युक्त । सच्चा (को॰) ।

६. फैलाया हुआ । विस्तारित (को॰) ।

७. ईमानदार । सच्छा । असली ।

सरल ^२ संज्ञा पुं॰

१. चीड़ का पेड़ जिससे गंधाबिरोजा निकलता है ।

२. एक चिड़िया ।

३. अग्नि ।

४. एक बुद्ध का नाम ।

५. साल का गोंद । गंधाबिरोजा ।

६. गणित में समीकरण ।