सर्कस

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सर्कस संज्ञा पुं॰ [अं॰]

१. वह स्थान जहाँ जानवरों का खेल और शारीरिक शक्ति का करतब दिखाया जाता है । क्रिड़ांगन ।

२. वह मंडली जो पशुओं तथा नटों को साथ रखती है और खेल कूद के तमाशे दिखाती है ।