सारा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सारा ^१ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. काली निसोथ । कृष्णात्रिवृत्त ।

२. दूब । दूर्वा ।

३. शातला ।

४. थूहर ।

५. केला ।

६. कुश । कुशा (को॰) ।

७. तालिसपत्र ।

सारा ^२ संज्ञा पुं॰

१. एक प्रकार का अलंकार जिसमें एक वस्तु दूसरी से बढ़कर कही जाती है । जैसे,—ऊखहुते मधुर पियूषहु ते मधुर प्यारी तेरे ओठ मधुरता को सागर है ।

सारा † ^३ संज्ञा पुं॰ [सं॰ श्यालक] दे॰ 'साला' ।

सारा ^४ वि॰ [सं॰ सर्व] [वि॰ स्त्री॰ सारी] समस्त । संपूर्ण । समूचा । पूरा । उ॰—के है पाकदामन तु नरियाँ में आज । बड़ाई बडी तुज है सारियाँ में आज ।—दक्खिनी॰, पृ॰ ८४ ।

सारा † ^५ संज्ञा पुं॰ [हि॰ ओसारा] दे॰ 'ओसारा' । उ॰—जब सारे में धूप फैल जाए कहीं आँख खुले ।—फिसाना॰, भा॰ ३, पृ॰ ३६८ ।