सुनाना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सुनाना क्रि॰ स॰ [हिं॰ सुनना का प्रेर॰ रूप]

१. दूसरे को सुनने में प्रवृत्त करना । कर्णगोचर कराना । श्रवण कराना ।

२. खरी- खोटी करना । जैसे,—तुमने भी उसे खूब सुनाया । संयो॰ क्रि॰—डालना ।—देना ।