सुहागा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सुहागा ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ सुभग] एक प्रकार का क्षार जो गरम गंधकी स्रोतों से निकलता है । कनकक्षार । टंकण । विशेष—यह तिब्बत, लद्दाख और कश्मीर में बहुत मिलता है । यह छींट छापने, सोना गलाने तथा ओषधि के काम में आता है । इसे घाव पर छिड़कने से घाव भर जाता है । मीना इसी का किया जाता है और चीनी के बर्तनों पर इसी से चमक दी जाती है । वैद्यक के अनुसार यह कटु, उष्ण तथा कफ, विष, खाँसी और श्वास को हरनेवाला है । पर्या॰—लोहद्रावी । टंकण । सुभग । स्वर्णपाचक । रसशोधन । कनकक्षार आदि ।

सुहागा † ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰ समभाग]

१. हेंगा ।

२. दे॰ 'सोहागा' ।