से

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

से ^१ प्रत्य॰ [प्रा॰ सुंतो, पु॰ हिं॰ सेंति] करण और अपादान कारक का चिह्न । तृतीया और पंचमी की विभक्ति । जैसे—(क) मैंने अपनी आँखों से देखा । (ख) पेड़ से फल गिरा । (ग) वह तुमसे बढ़ जायगा ।

से ^२ वि॰ [हिं॰ 'सा' का बहुवचन] समान । सदृश । सम । जैसे,— इसमें अनार से फल लगते हैं । उ॰—नासिका सरोज गंधवाह से सुगंधवाह, दारयो से दसन, कैसे बीजुरो सो हास है ।— केशव (शब्द॰) ।

से पु ^३ सर्व॰ [हिं॰ 'सो' का बहुवचन] वे । उ॰—अवलोकिहौं सोच विमोचन को ठगि सी रही, जो न ठगे धिक से ।—तुलसी (शब्द॰) ।

से ^४ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. सेवा । खिदमत । चाकरी ।

२. कामदेव की पत्नी का नाम ।

से ‡ ^५ वि॰ [फा़॰ सेह] तीन । उ॰—उन्हें से चहार दिन हो जजबे बहोश । आपस के जात कूँकर कर फरामोश ।—दक्खिनी॰, पृ॰ १९६ ।