सोखना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सोखना क्रि॰ सं॰ [सं॰ शोषण]

१. शोषण करना । रस खींच लेना । चूस लेना । सुखा डालना । उ॰— (क) यह मिट्टी ...... पानी को खूब सोखती है । — खेतीविद्या (शब्द॰) । (ख) सेर भर चावल सेर ही भर घी सोखता है । — शिवप्रसाद (शब्द॰) । (ग) उदित अगस्त पंथजल सोखा । जिमि लोभहि सोखइ संतोषा ।—तुलसी (शब्द॰) । (घ) उतै रुखाई है घनी थोरो मो पै नेह । जाही अंग लगाइए सोई सोखै लेह । — रसनिधि (शब्द॰) । (ङ) वाही हाथ कुच गहि पूतना के प्राण सोखे पाय ऊँचो पद निज धाम को सिधारी है । — ब्रजचरित्र॰, पृ॰१३ ।

२. पीना । पान करना ।(व्यंग्य) । संयो॰ क्रि॰—जाना ।— डालना ।— लेना ।