हत्या

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

हत्या संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. मार डालने की क्रिया । वध । खून । क्रि॰ प्र॰—करना ।—होना ।

२. वध करने का पाप । हत्या करने का दोष (को॰) । मुहा॰—हत्या लगना = हत्या का पाप लगना । किसी के बध का दोष ऊपर आना । जैसे,—गाय मारने से हत्या लगती है । हत्या लेना = हत्या का पाप ओढ़ना । उ॰—एहू कहँ तसि मया करेहू । पुरवहु आस कि हत्या लेहू ।—जायसी ग्रं॰ (गुप्त), पृ॰ २६२ ।

३. अत्यंत दुर्बल और कमजोर प्राणी ।

४. हैरान करनेवाली बात । झंझट । बखेड़ा । जैसे,—(क) कहाँ की हत्या लाए, हटाओ । (ख) चलो, हत्या टली । मुहा॰—हत्या टलना = झंझट दूर होना । हत्या सिर मढ़ना या लगाना = बखेड़े का काम देना । झंझट लादना ।