हरियाली

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

हरियाली संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ हरित + आलि ( = पंक्ति, समूह)]

१. हरे- पन का विस्तार । हरे रंग का फैलाव ।

२. हरे हरे पेड़ पौधों या घास का समूह या विस्तार । जैसे,—बरसात में चारों ओर हरियाली छा जाती है । मुहा॰—हरियाली सूझना = चारों ओर आनंद ही आनंद दिखाई पड़ना । मौज की बातों की ओर ही ध्यान रहना । आनंद में मग्न रहना । जैसे,—अभी तो हरियाली सुझ रही है; जब रुपये देने पड़ेंगे, तब मालूम होगा ।

३. हरा चारा जो चौपायों के सामने डाला जाता है ।

४. दूर्वा । दे॰ 'दूब' ।

५. कजली का पर्व । दे॰ 'हरियाली तीज' । उ॰—उसी दिन से कजली अथवा 'हरियाली' की स्थापना होती ।— प्रेमघन॰, भा॰ २, पृ॰ ३४६ ।

हरियाली तीज संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ हरियाली + तीज] सावन बदी तीज जिसे 'कजली' भी कहते हैं ।