हिना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

मेंहदी

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

हिना संज्ञा स्त्री॰ [अ॰] मेंहदी । उ॰—उसके कदमों से लगी रहती है दिन रात हिना । खूब दुनिया में बसर करती है औकात हिना ।—क॰ कौ॰, भा॰

४. पृ॰ ४२ । यौ॰—हिना का चोर=हथेली का वह अंश जहाँ मेंहदी न लगी हो । हिनाबंद=मेंहदी लगानेवाला ।