हिरन

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

हिरन ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ हरिण] [स्त्री॰ हिरनी] हरिन । मृग । विशेष- दे॰ 'हरिन' । मुहा॰—हिरन हो जाना=भाग जाना । बहुत तेजी से भागना ।

हिरन पु ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰ हिरण्य, प्रा॰ हिरण्ण] सोना । सुवर्ण । उ॰—लोहा हिरन होइ धौ कैसे जौ पारस नहिँ परसै ।—रै॰ बानी, पृ॰ १३ ।