अंगुल

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

संज्ञा पुल्लिंग

  1. लंबाई की एक नाप
  2. आठ जौ के पेट की लंबाई
  3. एक आयत परिमाण
  4. आठ यवोदर का परिमाण
  5. एक बित्ता का १२वाँ भाग
  6. एक हाथ का २४वाँ भाग
  7. ग्रास या बारहवाँ भाग (ज्योतिष)
  8. उँगली
  9. अंगुलि
  10. अंगूठा
  11. चाणक्य या वात्स्यायन का एक नाम

प्रयोग

  • साठि सु अंगुल लोहय किल्ली। - चंदवरदाई (पृथ्वीराज रासो, ३ ।२२)

संबंधित शब्द

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अंगुल संज्ञा पुं॰ [सं॰ अङ्गुल]

१. लंबाई की एक नाप । एक आयत परिमाण । आट जौ के पेट की लंबाई । आठ यवोदर का परिमाण । उ॰—साठि सु अंगुल लोहय किल्ली ।—पृ॰ रा॰, ३ ।२२ । विशेष—१२ अंगुल का एक बिता और दो बित्ते का एक हाथ होता है ।

२. ग्रास या बारहवाँ भाग (ज्यो॰) ।

३. उँगली । अंगुलि ।

४. अंगुठा ।

५. चाणक्य या वात्स्यायन का एक नाम [को॰] ।