अरुण

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अरुण ^१ वि॰ पु॰ [सं॰] [वि॰ स्त्री॰ अरुणा] लाल । रक्त ।

अरुण ^२ संज्ञा पुं॰

१. सूर्य ।

२. सूर्य का सारथी ।

३. गुड़ ।

४. ललाई जो संध्या के समय पश्चिम मे दिखलाई पड़ती है ।

५. एक दानव का नाम ।

६. एक प्रकार का कुष्ठ रोग ।

७. पुन्नाग वृक्ष ।

८. गहरा लाल रंग ।

९. कुमकुम ।

१०. सिंदूर ।

११. एक देश ।

१२. बारह सूर्यो में से एक सूर्य । माघ महिने का सूर्य ।

१३. एक आचार्य का नाम जो उद्दालक ऋषि के पिता थे

१४. एक जहरीला क्षुद्र जंतु [को॰] ।

१५. एक झील जो हिमालय के इस पार है । १६ । सोना । स्वर्ण [को॰] । १७ । एक प्रकार का पुच्छल तारा । विशेष—इनकी चोटियाँ चँवर की सी होती हैं । ये कृष्ण अरुण वर्ण के होते हैं । इनका फल अनिष्ट है । ये संख्या में ७७ हैं और वायुपुत्र भी कहलाते हैं । यौ॰—अरुणलोचन ।अरुणात्मज ।अरुणोदय । अरुणोपल ।