कहाँ

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

शब्द

  1. स्थान पूछने हेतु प्रश्न
  2. जगह के स्थान पर उपयोग होता है।

उदाहरण

  1. आप कहाँ जा रहे हैं?
  2. आपने यह सामान कहाँ से लिया?
  3. मेरा काम कहाँ होगा इसका मुझे पता नहीं है।

अनुवाद

अन्य शब्द

  1. यहाँ
  2. वहाँ
  3. जहाँ

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

कहाँ ^१ क्रि॰ वि॰ [वैदिक सं॰ कुह: या कुत्र, या कुत्थ] स्थान संबंध मे एक प्रश्नवाचक शब्द । किस जगह? किस स्थान पर ? जैसे,—तुम कहाँ गए थे ? मुहा॰—कहाँ का =(१) न जाने कहाँ का? ऐसा जो पहले और कहीं देखने में न आया हो । असाधारण । बड़ा भारी । जैसे—कहाँ के मूर्ख से आज पाला पड़ा । (ख) उल्लू कहाँ का ! (इस अर्थ मे प्रश्न का भाव नहीं रह जाता) । (२) कहीं का नहीं । जो नहीं है । जैसे—(क) वे कहाँ के हमारे दोस्त है? (ख) वे कहाँ के बड़े सत्यवादी हैं? कहाँ का कहाँ= बहुत दूर । जैसे,—हम लोग चलते चलते कहाँ के कहाँ जा निकले । कहाँ का........कहाँ का = (१) बड़ी दूर दूर के । जैसे,—यह नदी नाव संयोग है, नहीं तो कहाँ के हम और कहाँ के तुम । (२) यह सब दूर हुआ । यह सब नहीं हो सकता । जैसे,—जब वे यहाँ आ जाते हैं तब फिर कहाँ का पढ़ना और कहाँ का लिखना । इस अर्थ में 'कहाँ का' के आगे मिलते जुलते अर्थवाले जोड़ के शब्द आते हैं, जैसे,— आना जाना, पढ़ना लिखना, नाच रंग) । कहाँ का कहाँ पहुँच जाना = ऐसी उन्नत दशा को प्राप्त कर लेना जिसकी कल्पना तक हो । उ॰—और तू सि़डि़त है । अगर राहें मालुम होतीं तो अब तक क्या जानें कहाँ की कहाँ पहुँच गई होती ।—सैर॰, पृ॰ २७ । कहाँ की बात = यह बात ठीक नहीं है । यह बात कहीं नहीं हो सकती । जैसे,—अजी कहाँ की बात, वह सदा यों ही कहा करते हैं । कहाँ तक=(१) कितनी दूर तक । जैसे,—वह कहाँ तक गया होगा । (२) कितने परिमाण तक । कितनी संख्या तक । कितनी मातत्रा तक । जैसे,—(क) हम आज देखेंगे कि तुम कहाँ तक खा सकते हो । (ख) उन्हें हम कहाँ तक समझावेंगे? । (ग) यह घोड़ा कहाँ तक पटेगा? । (३) कितनी देर तक । कितने काल पर्यंत । जैसे,—हम कहाँ तक उनका आसरा देखें? कहाँ....कहाँ = इनमें बड़ा अंतर है । उ॰—कहाँ राजा भोज, कहाँ गंगा तेली । (दो वस्तुओं का बड़ा भारी अंतर देखाने के लिये इस वाक्य का प्रयोग होता है) । कहाँ से = क्यो । व्यर्थ । नाहक । जैसे,—कहाँ से हमने यह काम अपने ऊपर लिया । (जब लोग किसी बात से घबरा जाते या तंग हो जाते हैं, तब उसके विषय में ऐसा कहते हैं) । (२) कभी नहीं । कदापि नहीं । नहीं । जैसे,— (क) अब उनके दर्शन कहाँ । (ख) अब उस बूँद से भेंट कहाँ? (यह अर्थ काकु अलंकार से सिद्ध होता है) ।

कहाँ ^२ संज्ञा पुं॰ [अनु॰] तुरंत के अत्पन्न बच्चे के रोने का शब्द । उ॰—'कहाँ कहाँ' हरि रोवन लाग्यो ।—विश्राम (शब्द॰) ।