चाँद

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

संज्ञा

चाँद पु॰

  1. पृथ्वी का केवल प्राकृतिक उपग्रह
  2. किसी ग्रह का प्राकृतिक उपग्रह

अनुवाद

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

चाँद ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ चन्द्र]

१. चंद्रमा । क्रि॰ प्र॰—निकलना । मुहा॰—चाँद का कुंडल या मडल बैठना = बहुत हल्की बदली पर प्रकाश पड़ ने के कारण चंद्रमा के चारों ओर एक वृत्त या घेरा सा बन जाना । चाँद का खेत करना = चंद्रोदय का प्रकाश क्षितिज पर दिखई पड़ना । चंद्रमा के निकलने के पहले उसकी आभा का फैलना । चाँद का टुकड़ा होना = अत्यंत सुंदर होना । चाँद चढ़ना = चंद्रमा का ऊपर आना । चाँद दीखे = शुक्ल द्रितीया के पीछे । जैसे,—चाँद दीखे आना, तुम्हारा हिसाब चुकता हो जायग । चाँद पर यूकना = किसी महात्मा पर कलंक लगाना, जिसके कारण स्वयं अपमानित होना पड़े । विशेष—ऊपर की ओर थूकने से अपने ही मुँह पर थूक पड़ता है, इसी से यह मुहावरा बना है । चाँद पर धूल डालना=किसी निर्दोंष पर कलंक लगाना । किसी साधु या महात्मा पर दोषारोपण करना । चांदसा मुखड़ा होना = अत्यत सुंदर मुख होना । किधर चांद निकला है = आज कैसे दिखाई पड़े ? क्या अनहोनी बात हुई जो आप दिखाई पड़े ? विशेष—जब कोई मनुष्य बहुत दिनों पर दिखाई पड़ता है, तब उसके प्रति इ स मुहावरे का प्रयोग किया जाता है ।

२. चांद्रमास । महीना । उ॰—एक चांद के अंदरै तुम्हें आवना रास । यह लिखि सुतुर सवार को भेजो दखिनिन पास ।— सूदन (शब्द॰) । क्रि॰ प्र॰—चढ़ना ।

३. द्रितीया के चंद्रमा के आकार का एक आभूषण ।

४. ढाल के ऊपर की गोल फुलिया । ढाल के ऊपर जड़ा हुआ गोल फूलदार काँटा । चाँदमारी का वह काला दाग जिसपर निशाना लगाया जाता है ।

६. टीन आदि चमकीली वस्तुओं का वह गोल टुकड़ा जो लंप की चिमनी के पीछे प्रकाश बढ़ाने के लिये लगा रहता है । कमरखी ।

७. घोड़े के सिर की एक भोंरी का नाम । ८ । एक प्राकर का गोदना जो स्त्रियों की कलाई के ऊपर गोदा जाता है ।

९. भालू की गरदन में नीचे की ओर सफेद बालों का एक घेरा ।—(कलंदर) ।

चाँद ^२ संज्ञा स्त्री॰

१. खोपड़ी का मध्य भाग । खोपड़े का सबसे ऊँचा भाग ।

२. खोपड़ी । मुहा॰—चाँद गंजी करना या चाँद पर बाल छोड़ना = (१) सिर पर इतने जूते लगाना कि बाल झड़ जायँ । सिर पर खूब जूते लगाना । (२) खूब मूँड़ना । सर्वस्व हरण करना । कुछ ले लेना ।

चाँद सूरज संज्ञा पुं॰ [हिं॰ चाँद + सूरज] एक प्रकार का गहना जिसे स्त्रियाँ चोटी में गूँथकर पहनती हैं ।