नया

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

विशेषण[सम्पादन]

अनुवाद[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

नया वि॰ [सं॰ नव, मि॰ फा॰ नौ]

१. जिसका संगठन, सृजन, आविष्कार या आविर्भाव बहुत हाल में हुआ हो । दजो थोड़े समय से बना, चला या निकला हो । नवीन । नुतन । ताजा । हाल का । पुराना का उलटा । जैसे, नया कपड़ा, नया पान, नए विचार नई (हाल की बनी या छपी हुई) किताब । मुहा॰—नया करना = (१) कोई नया फल या अनाज मौसम में पहले पहला खाना । मौसम की नई चीज पहलै पहल खाना (२) कपड़ा आदि फाड़ या जल देना । जैसे,—इसे कपड़ा पहनाओ वहीं नया करके रख देता है । विशेष—इस मुहावरे का प्रयोग स्त्रियाँ प्रायःअशुभ बात मुँह से निकालने से बचने के लिये करती हैं । नया पुराना करना = (१) पुराना हिसाब साफ करके नया हिसाब चलाना (महाजनी) । (२) पुराने को हटाकर उसके स्थान पर नया करना या रखना । यौ॰—नया नवेला = नदयुवक । नौजवान ।

२. जिसका अस्तित्व तो पहले से हो परंतु परिचय हाल में मिला हो । जो थोड़े समय से मालुम हुआ हो या सामने आया हो । जैसे,—(ख) कोलंबस ने एक नए महाद्विप का पता लगाया था । (ख) अशोक का एक नया शिलालेख मिला है । (ग) नए आदमी को देखकर यह लड़का घबरा जाता है ।

३. पहलेवाले से भिन्न । जो पहले था उसके स्थान पर आनेवाला दुसरा । जैसे,—(क) मैने कल एक नया घोड़ा खरीदा है । (ख) बंगाल में नए लाट आए हैं ।

४. जो पहले किसी के व्यवहार में न आया हो । जिससे पहले किसी ने काम न लिया हो । जैसे,—पहली किताब इसने खो दी थई, यह तो इसे नई लेकर दी गई है ।

५. जिसका आरंभ पहले पहल अथवा फिर से, परंतु बहुत हाल में हुआ हो । जैसे, नई जिंदगी पाना, नए सिरे से कोई काम करना, नया चाँद देखना ।

६. जिसका नामकरण किसी पुराने नाम पर हुआ हो । जिसका नाम किसी पुराने (स्थान आदि) के नाम पर रखा गया हो । जैसे, नया गोदाम, नई बस्ती, नग्रा बाजार आदि ।