पतला

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

विशेषण[सम्पादन]

  1. जो मोटा नहीं है
  2. जिसकी आवाज़ बहुत उच्ची है।

अनुवाद[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

पतला वि॰ [सं॰ पात्रट, प्रा॰ पात्रड, अथवा सं॰ पत्र, हिं॰ पत्तर] [वि॰ स्त्री॰ पतली]

१. जिसका घेरा, लपेट अथवा चौड़ाई कम हो । जो मोटा न हो । जैसे, पतली छड़ी, पतला बल्ला, पतला खंभा, पतली रस्सी, पतली धज्जी, पतली गोट, पतली गली, पतली नाला । विशेष—बहुत पतली वस्तुओं को महीन, बारीक या सूक्ष्म, भी कह सकते हैं, जैसे, पतली तार, पतला सुत, पतली सुई । इसी प्रकार कम चोड़ी बड़ी वस्तुओं के लिये पतला के स्थान पर 'संकीर्ण' या 'सँकरा' भी कह सकते हैं, जैसे, सँकरी गली, सँकरा नाला आदि ।

२. जिसके शरीर के इधर उधर का विस्तार कम हो । जिसकी देह का घेरा कम हो जो स्थूल या मोटा न हो । कृश । जैसे, पतला आदमी । यौ॰—दुबला पतला = जो मोटा ताजा न हो । कृश शरीर का ।

३. (पटरी, पत्तर या तह कते आकार की वस्तु) जिसका दल मोटा न हो । दबीज का उलटा । झीना । हलका । जैसे, पतला कपड़ा या कागज ।

४. गाढ़े का उलटा । आधिक सरल । जिसमें जलांश आधिक हो, जैसे, पतला दूध या रसा । मुहा॰—पतली चीज या पदार्थ = कोई तरल पदार्थ । कोई प्रवाही द्रव्य ।

५. अशक्त । असमर्थ । कमजोर । निर्बल । हीन । जैसे,—भाई सभी मनुष्य मनुष्य ही है, किसी को इतना पतला क्यों समझते हो ? मुहा॰—पतला पड़ना = दुर्दशाग्रस्त होना दैन्यप्राप्त होना । अशक्त या निर्बल पड़ जाना । पतला हाल = दुःख और कष्ट की अवस्था । शोचनीय या दयनीय दशा । करुणाजनक स्थिति । बुरा हाल । दुर्दशाकाल । दुर्दिन ।