भूल

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

संज्ञा[सम्पादन]

  1. त्रुटि, दोष

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

भूल संज्ञा स्त्री॰ [हि॰ भूलना]

१. भूलने का भाव ।

२. गलती । चूक । जैसे,— इस मामले में आपने बड़ी भूल की । उ॰— कियो सयानी सखिन सौं नहिं सयान यह भूल । दूरै दुराई फूल लौं क्यों पिय आगम फूल —जायसी (शब्द॰) । यौ॰—भूल चूक । मुहा॰—भूल के कोइ काम करना = कोइ ऐसा काम करना जो पहले न करते रहे हों । भ्रम में पड़कर कोई काम कर बैठना । जैसे,—आज हम भूल के तुह्मरे साथ चल पड़े । भूल के कोई काम न करना = कदापि कोई काम न करना । हरगिज कोई काम न करना । जैसे,— हम तो कभी भूल के भी उनके घर नहीं जाते । भूलकर = भूल से गलती से भूलकर नाम न लेना = कभी याद न करना । भूले भटके= कभी कभी ।

२. कसूर । दोष । अपराध ।

४. अशुद्धि । गलती । जैसे,— हिसाब में (२) की भूलं है । क्रि॰ प्र॰—निकलना ।—पड़ना ।