यह

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

सर्वनाम[सम्पादन]

  1. पास में किसी (व्यक्ति, वस्तु आदि) को दिखाने के लिए उपयोग किया जाता है।

विरुद्धार्थ[सम्पादन]

  1. वह

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

यह कभी अपने शरीर को सिकोड़ लेता है, और कभी लंबा कर देता है । यह मिट्टी ही खाता है । इससे पीले रंग की एक लसदार वस्तु निकलती है, जो रात को चमकती है ।

२. केंचुए के आकार का सफेद कीड़ा जो पेट से मल द्वारा बाहर निकलता है । क्रि॰ प्र॰—गिरना । पड़ना ।

यह ना तो सूर्य से कभी बहुत पहले उदय होता है और न कभी उसके बहुत बाद अस्त होता है । इसमें स्वयं अपना कोई प्रकाश नहीं है और यह केवल सूर्य के प्रकाश के प्रतिबिंब से ही चमकता है । यह आकार में पृथ्वी का प्रायः १८ वाँ अंश है ।

२. भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार नो ग्रहों में से चौथा ग्रह जो पुराणानुसार देवताओं के गुरु बृहस्पति की स्त्री तारा के गर्भ से चंद्रमा के वीर्य से उत्पन्न हुआ था । विशेष— कहते हैं, चंद्रमा एक बार तारा को हरण कर ले गया था । ब्रह्मा तथा दूसरे देवताओं के बहुत समझाने पर भी जब चंद्रमा ने तारा को नहीं लौटाया तब बृहस्पति और चंद्रमा में युद्ध हुआ । बाद में ब्रह्मा ने बीच में पड़कर बृहस्पति को तारा दिलवा दी । पर उस समय तक तारा चंद्रमा से गर्भवती हो चुकी थी । बृहस्पति के बिग़ड़ने पर तारा ने तुरंत प्रसव कर दिया जिससे बुध की उत्पत्ति हुई । इसके अतिरिक्त काशीखंड तथा दूसरे अनेक पुराणों में भी बुध के संबंध की कई कथाएँ हैं । यह नपुंसक, शूद्र, अथर्ववेद का ज्ञाता, रजोगुणी, मगध देश का अधिपति, बालस्वभाव, धनु के आकार का और दूर्वाश्याम वर्ण का माना जाता है । रवि और शुक्र इसके मित्र और चंद्रमा इसका शत्रु माना जाता है । किसी किसी का मत है कि इसने वैवस्वत मनु की कन्या इला से विवाह किया था जिसके गर्भ से पुरूरवा का जन्म हुआ था । यह भी कहा जाता है कि ऋग्वेद के मंत्रों का इसी ने प्रकाश किया था ।

३. पंडित, विद्वान्, शास्त्रज्ञ ।

४. अग्निपुराण के अनुसार एक सूर्यवंशी राजा का नाम ।

५. भागवत के अनुसार वेगवानु राजा के पुत्र का नाम जो तृणविंदु का पिता था ।

६. देवता ।

७. कुत्ता ।

यह सर्व॰ [सं॰ यः (पुं॰) या एपः] निकट की वस्तु का निर्देश करनेवाला एक सर्वानाम, जिसका, प्रयोग वक्ता और श्रोता को छोड़कर और सब मनुष्यों, जीवों तथा पदार्थो आदि के लिये होता है । जैसे,— (क) यह कई दिनों से बीमार है ।(ख) यह तो अभी चला जायगा । विशेष— (क) जब इसमें विभक्ति लगाती है, तब 'यह' का रूप खड़ी बोली में 'इसी' (बहुव॰ इन) और ब्रजभाषा में 'या' हो जाता है । जैसे, इसको, (इनको) याकों (ख) पुरुषवाचक और निजवाचक सर्वनामों को छोड़कर शेष सर्वनामों की भाँति इसका प्रयोग प्रायः विशेषण के समान होता है । जब 'यह' अकेला रहता है, तब तो सर्वनाम होता है; और जब इसके साथ कोई संज्ञा आती है, तब यह विशेषण हो जाता है । जैसे,—'यह बाहर जायगा' में यह सर्वनाम है; और 'यह लड़का पाजी है' में 'यह' विशेषण' है ।

यह फागुन चैत में फलता है । इसके फल खटमीठे होते है और कहीं कहीं खाए जाते है ।