रेखा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंग्रेज़ी[सम्पादन]

संज्ञा[सम्पादन]

पु॰

  1. सूत के रूप में एक चिह्न

अनुवाद[सम्पादन]


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

रेखा संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. सूत के आकार का लंबा गया हुआ चिह्न । दंडाकार चिह्न । डंड़ी । लकीर । उ॰—रेखा रुचिर कंबु कल ग्रीवा ।—तुलसी (शब्द॰) । क्रि॰ प्र॰—खींचना ।

२. किसी वस्तु का सूचक चिह्न । दृढ़ अंक । यौ॰—कर्मरेखा = भाग्य की लिपि जो प्राणियों के मस्तक पर पहले से ही अंकित मानी जाती है । भाग्य का लेख । उ॰— नेम प्रेम शंकर कर देखा । अविचल हृदय भगति कै रेखा ।— तुलसी (शब्द॰) ।

३. गणना । शुमार । गिनती । उ॰— साधु समाज न जाकर लेखा । राम भगत महँ जासु न रेखा ।— तुलसी (शब्द॰) ।

४. आकृति । आकार । सूरत । यौ॰—रूपरेखा ।

५. हथेली, तलवे आदि में पड़ी हुई लकीरें जिनसे सामुद्रिक में मनुष्य के शुभाशुभ का निर्णय किया जाता है । जैसे,—कमल रेखा, अंकुश रेखा, उर्ध्व रेखा आदि । विशेष दे॰ 'सामुद्रिक' ।

६. हीरे के बीच में दिखाई पड़नेवाली लकीर जो एक दोष मानी जाती है । विशेष—रत्नपरीक्षा में रेखाएँ चार प्रकार की कहीं गई हैं—सव्य रेखा, अपसव्य रेखा, ऊर्ध्व रेखा और दीक्षाविद्धि रेखा । इसमें से सव्य रेखा को छोड़कर और सबका फल अशुभ माना गया है ।

७. पंक्ति । कतार । सिलसिला (को॰) ।

८. छद्म (को॰) ।

९. थोड़ा अंश । किंचिन्मात्र अंश ।