विराम

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

संज्ञा

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

विराम संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. किसी क्रिया या व्यापार का कुछ देर के लिये बद होना । रूकना या थमना । ठहराव । ठहरना । यो॰—विरामसंधि=युद्ध में लिप्त दोनो पक्षो की ओर कुछ समय के लिये युदध बंद करने का सपझौता । युदध बंद करने की संधि । उ॰— हंगेरी ने विरामसंधि कर ली ।—आ॰ अ॰ रा॰, पृय ५२ ।

२. चलने की थकावट दूर करने के लिये रास्ते में ठहरना । चलना रोकना । सुस्ताना । दम मारना । विश्राम । क्रि॰ प्र॰—करना ।—होना ।

३. वाक्य के अंतर्गत वह स्थान जहाँ बोलते समय ठहरना पड़ता हो ।

४. छंद के चरण में वह स्थान जहाँ पढ़ते समय कुछ ठहरना पड़े । यति ।

५. विष्णु का एक नाम (को॰) ।

६. अंत । समाप्ति । उपसंहार । यौ॰—विरामचिह्न=वह निशान वा चिहुन जिससे रूकाव, ठहराव या समाप्ति सूचित हो ।