शक्ति

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अकिलाण्डेश्वरि
अकिलेश्वरि
अखिलाण्ड नायकि
अञ्चनाक्षि
अभिरामि
अमृतनायकि
अम्बिक
अम्ऱितवल्लि
अम्रुत करवल्लि
आनन्दनायकि
उमा
कनकाम्बिक
कल्पकवल्लि
कान्तिमति
कामाक्षि
कुन्दळनायकि
केधारेश्वरि
कैलाशनायकि
क्ऱिपानायकि
खड्घनेत्रि
गौरि
ज्ञानप्रसूनाम्बिक
ज्ञानवल्लि
ज्ञानाम्बिक
त्रिपुर सुन्दरि
नीलाम्बिक
नीलायदाक्षि
परिमळ सुगन्त नायकि
पर्वतवर्धिनि
पर्वतसुन्दरि
पर्वत्राज पुत्रि
पशुपतिनायकि
पार्वती
बाल सुन्दरि
बालम्बिक
ब्रमराम्बिक
ब्रह्म विद्या नायकि
भुवननायकि
भृहन्नायकि
मङ्गळनायकि
मधुरभाषणि
मधुरवचनि
मनोन्मणि
मरगतवल्लि
मरगताम्बिक
महामाय
माणिक्यवल्लि
मीनाक्षि
मोह नायकि
विकिर्तेश्वरि
विद्वन्मेकलाम्ब
विशालाक्षि
वेदनायकि
शक्ति
शान्त नायकि
शिव योग नायकि
शिवकामि
शिवानन्दवल्लि
सखि देवि
सर्वाङ्गनायकि
सर्वालन्क्ऱित
सुगन्धवननायकि
सुन्दरकुचाम्बिक
सुन्दरनायकि
सुन्दराम्बिक
सोमकलानायकि
सौन्दरनायकि
स्वर्नपुरिनायकि

संबंधित कड़ियाँ[सम्पादन]

  1. हिन्दी शब्दावली
    1. Paryaayavaachee Shabda
      1. शिव के नाम
      2. शक्ति के नाम
      3. विष्णु के नाम
      4. सूर्य
      5. चन्द्रमा
      6. पृथ्वी

बाहरी कडियाँ[सम्पादन]

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

शक्ति ^२ वि॰

१. योग्य । काबिल । समर्थ ।

२. शक्तिसंपन्न । ताकतवर ।

३. धनाढ्य । समृद्धियुक्त ।

४. अर्थ का अभिव्यंजक या अर्थद्योतक, जैसे कोई शब्द ।

५. प्रियभाषा । मिष्टभाषा ।

६. चतुर । चालाक । पटु [को॰] ।

शक्ति ^१ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. वह शारीरिक गुण या धर्म जिसके द्वारा अंगों का संचालन तथा दूसरे काम होते हैं । बल । पराक्रम । ताकत । जोर । जैसे—(क) उसमें दो मन बोझ उठान की शक्ति है । (ख) अब तो उनमें उठन बैठन का भी शक्ति नहीं रह गई । (ग) दुर्बलों पर शक्ति का प्रयोग नहीं करना चाहिए । क्रि॰ प्र॰—देखना ।—रखना ।—लगना ।—लगाना ।

२. किसी प्रकार का बल या ताकत जिससे कोई काम हो । जैसे,— मानसिक शक्ति स्मरण शक्ति, सैनिक शक्ति, शब्द शक्ति ।

३. किसी पदार्थ के संयोजक अगों या द्रव्यों आदि का प्रक ट होनेवाला बल । दूसरे पदार्थों पर प्रभाव डालनेवाला बल । जैसे,—(क) इस औषध में ऐसी शक्ति है कि मृत्यु को भी कुछ देर के लिये रोक देती है । (ख) इस इंजन में बीस घोड़ों की शक्ति है । (ग) पानी के बहाव में बड़ी बड़ी चट्टानों तक को तोड़ने की शक्ति होती है ।

४. वश । अधिकार । जैसे,— इसकी रक्षा करना मेरी शक्ति के बाहर है ।

५. राज्य के वे साधन जिनसे शत्रुओं पर विजय प्राप्त की जाती है । विशेष—हमारे यहाँ राजाओं की तीन प्रकार की शक्ति कही गई है—प्रभुशक्ति, मंत्रशक्ति, और उत्साहशक्ति । कोश और दंड आदि के संबंध की शक्ति प्रभुशक्ति, संधि, विग्रह आदि के संबंध की शक्ति मंत्रशक्ति और पराक्रम प्रकट करने तथा विजय प्राप्त करने की शक्ति उत्साहशक्ति कहलाती है ।

६. बड़ा और पराक्रमी राज्य जिसमें यथेष्ट धन और सेना आदि हो । जैसे,—इस समय युरोप में इंगलैंड, फ्रांस, जर्मनी, और रूस आदि कई बड़ी बड़ी शक्तियाँ हैं ।

७. न्याय के अनुसार वह संबंध जो किसी पदार्थ और उसका बोध करानेवाले शब्द में होता है । इस शब्द का यह अर्थ बोद्धव्य है— इस प्रकार का अनादि संकेत । जैसे घट शब्द के कहने मात्र से श्रोता को घट शब्द के रूपाकार आदि का ज्ञान हो जाता है ।

८. ईश्वर की वह कल्पित माया जो उसकी आज्ञा से सब काम करनेवाली मानी जाती है । प्रकृति । माया ।

९. किसी देवता का पराक्रम या बल जो कुछ विशिष्ट कार्यों का साधक माना जाता है । जैसे,—रौद्री शक्ति, वैष्णवी शक्ति । विशेष—हमारे यहाँ पुराणों में भिन्न भिन्न देवताओं की अनेक शक्तियों की कल्पना की गई है और ये शक्तियाँ बहुधा देवी के रूप में और मूर्तिमती मानी गई है । जैसे, विष्णु की कीर्ति, कांति, तुष्टि, पुष्टि, शांति, प्रीति आदि शक्तियाँ; रुद्र की गुणोदरी, गोमुखी, दीर्घजिह्वा, ज्वालामुखी, लंबोदरी खेचरी, मजरी आदि शक्तियाँ; देवी की इंद्राणी, वैष्णवी, ब्रह्मणी, कौमारी, नार- सिंही, वाराही, माहेश्वरी और सर्वमंगला आदि शक्तियाँ ।

१०. तंत्र के अनुसार किसी पीठ की अधिष्ठात्री देवी । विशेष—इनकी उपासना करनेवाले शक्ति कहि जाते है । ऐसी शक्ति समस्त सृष्टि की रचना करनेवाली और सब तरह की सामर्थ्य रखनेवाली मानी जाती है ।

११. दुर्गा । भगवती ।

१२. गौरी ।

१३. लक्ष्मी ।

१४. तांत्रिकों की परिभाषा में वह नटी, कापालिकी, वेश्या, धोबिन, नाउन, ब्राह्मणी, शूद्रा, ग्वालिन या मालिन जो युवती, रूपवती और सौभाग्यवती हो । ऐसी स्त्रियों का विधिपूर्वक पूजन सिद्धिप्रद और मोक्षदायक माना जाता है ।

१५. स्त्री की मूत्रेंद्रिय । भग । (तांत्रिक) ।

१६. एक प्रकार का शस्त्र । साँग ।

१७. तलवार ।

१८. क्षमता । योग्यता (को॰) ।

१९. साहित्य में शब्द के अर्थ की बोधक शक्ति । अभिधा, लक्षणा और व्यंजना नाम की शब्दशक्ति (को॰) ।

२०. काव्यादि निर्माण की क्षमता । रचनाशक्ति । कवित्वशक्ति (को॰) ।

२१. द्यूतक्रीड़ा का उपकरण वा यंत्र (को॰) ।

शक्ति ^२ संज्ञा पुं॰ प्राचीन ऋषि का नाम जो पराशर के पिता थे ।