संज्ञा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

संज्ञा

  1. किसी व्यक्ति, स्थान आदि के नाम

अनुवाद

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

संज्ञा संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ सज्ञा]

१. चेतना । होश ।

२. बुद्धि । अक्ल ।

३. ज्ञान ।

४. किसी पदार्थ आदि का बोधक शब्द । नाम । आख्या ।

५. व्याकरण में वह बिकारी शब्द जिससे किसी यथार्थ या कल्पित वस्तु का बोध होता है । जैसे,—मकान, नदी, घोड़ा, राम, कृष्ण, खेल, नाटक आदि ।

६. हाथ, आँख या सिर आदि हिलाकर कोई भाव प्रकट करना । संकेत । इशारा ।

७. गायत्री ।

८. सूर्य की पत्नी का नाम जो विश्वकर्मा की कन्या थी । मार्कडेय पुराण के अनुसार यम और यमुना का जन्म इसी के गर्भ से हुआ था । विशेष दे॰ 'छाया'—७ ।

९. पदचिह्न (को॰) । १० आज्ञा । आदेश (को॰) । यौ॰—संज्ञाकरण = (१) नामकरण । नाम धरना । (२) चेतना लाना । होश में लाना । संज्ञापुत्र = यम । संज्ञापुत्री । संज्ञा- विपर्यय = होश गायब होना । संज्ञासुत । संज्ञाहीन ।