गगन

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

संज्ञा[सम्पादन]

  1. आकाश
  2. नभ
  3. अम्बर
  4. आसमान

अनुवाद[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

गगन संज्ञा पुं॰ [सं॰] आकाश । मुहा॰—गगन खेलना = बहते हुए पानी या नदी आदि का उछलना । गगन होना = पक्षी या गुड्डी आदि का बहुत ऊपर आकाश में जाना । यौ॰—गगनध्वग । गगनध्वज । गगनेचर । गगनोल्मुक ।

२. शून्य स्थान ।

३. छप्पय छंद का एक भेद जिसमें बारह गुरु और १२९ लघु, कुल १४० वर्णा या १५२ मात्राएँ अथवा १२ गुरु और १२४ लघु, कुल १ ६ वर्ण या १४८ मात्राएँ होती हैं ।

४. अबरक ।