तुम

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

सर्वनाम[सम्पादन]

तुम

  1. आप, किसी हम उम्र या छोटे से बात करते समय उपयोग किया जाता है।

उदाहरण[सम्पादन]

  1. तुम इतने दिनों बाद दिख रहे हो?

अनुवाद[सम्पादन]


प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

तुम सर्व॰ [सं॰ त्वम्] 'तू' शब्द का बहुवचन । वह सर्वनाम जिसका व्यवहार उस पुरुष के लिये होता है जिसके कुछ कहा जाता है । जैसे,—तुम यहाँ से चले जाओ । विशेष—संबंध कारक को छोड़ शेष सब कराकों की विभक्तियों के साथ शब्द का यही रूप बना रहता है; जैसे, तुमने, तुमको, तुमसे, तुममें, तुमपर । संबंध कारक में 'तुम्हारा' होता है । शिष्टता के विचार से एकवचन के लिये भी बहुवचन 'तुम' का ही व्यवहार होता है । 'तू' का प्रयोग बहुत छोटों या बच्चों के लिये ही होता है । मुहा॰—तुम जानो तुम्हारा काम जाने = अब जिम्मेदारी तुम्हारी है । मन में जो आए सो करो । उ॰—और तरफ इस वक्त ध्यान न बटाओ । आगे तुम जानो तुम्हारा काम जाने ।— सैर॰, पृ॰ २८ ।